Home लाइफस्टाइल देर तक टीवी देखने से बढ़ता है बच्चों में मधुमेह का खतरा

देर तक टीवी देखने से बढ़ता है बच्चों में मधुमेह का खतरा

0 second read
0
355

आपने अक्सर यह महसूस किया होगा कि आजकल के बच्चे शारीकि गेम की बजाय इलेक्ट्रिक गेम्स में ज्यादा रूचि दिखाते है। वे कभी टीवी तो कभी मोबाइल, लैपटॉप आदि के चिपके हुए नजर आते है। लेकिन क्या आपको पता एक निश्चित समय से अधिक देर तक इन चीजों का इस्तेमाल आपके बच्चे के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। वैज्ञानिक की ओर से किए गए अध्ययन में यह बात सामने आई है कि एक दिन में तीन घंट से अधिक समय तक टीवी, स्मार्टफोन या टैबलेट का इस्तेमाल करने वाले बच्चों को मधुमेह का खतरा अधिक हो सकता है।

अध्ययन के शोधार्थियों ने दावा किया कि तीन अथवा तीन घंटे से अधिक समय तक टीवी या फोन की स्क्रीन देखने का संबंध ऐसे कारकों से हैं, जो बच्चों में मधुमेह के विकास से जुड़े हुए है। उन्होंने बताया अधिक देर तक टीवी या मोबाइल स्क्रीन पर समय बिताने से शरीर में वसा एवं इंसुलिन की प्रतिरोध क्षमता का संतुलन बिगड़ जाता है। अग्नाशय द्वारा तैयार किए जाने वाले हार्मोन इन्सुलिन का कार्य रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करना होता है।

शोधार्थियों ने चयापचय एवं कार्डियोवैस्कुलर जोखिम की श्रंखला के अध्ययन के लिये ब्रिटेन के 200 प्राथमिक विद्यालयों में पढऩे वाले नौ-10 साल के करीब 4,500 बच्चों के नमूने एकत्रित किए। जिन कारकों का अध्ययन किया गया उनमें रक्त वसा, इंसुलिन प्रतिरोध, भूखे रहने पर रक्त शर्करा का स्तर, जलन पैदा करने वाले रसायन, रक्तचाप और शरीर की वसा आदि थे। अध्ययन के दौरान बच्चों से प्रतिदिन टीवी अथवा कंप्यूटर या मोबाइल स्क्रीन पर बिताने वाले समय के बारे में पूछताछ की गई थी।

Load More Related Articles
Load More By admin
Load More In लाइफस्टाइल

Check Also

Roadmap to install air purifier towers in Delhi, no permanent solution to noise pollution – Supreme Court: दिल्ली में एयर प्यूरीफायर टावर लगाने का बने रोडमैंप, आॅड ईवन प्रदूषण का कोई स्थायी समाधान नहीं- सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट प्रदूषण पर बेहद सख्त है। सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करते हुए कहा कि ने …