Home खास ख़बर Two people from Patiala also raised questions in the ‘Ask Captain’ live program: के बीमार मनजीत ने मरने से पहले  मुख्यमंत्री के साथ चाय पीने की इच्छा जताई, कैप्टन ने स्वीकारा

Two people from Patiala also raised questions in the ‘Ask Captain’ live program: के बीमार मनजीत ने मरने से पहले  मुख्यमंत्री के साथ चाय पीने की इच्छा जताई, कैप्टन ने स्वीकारा

2 second read
0
110
 पटियाला। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह की तरफ से कोरोना वायरस विरुद्ध शुरु की अपनी जंग’मिशन फतह’दौरान आरंभ किये गए विशेष फेसबुक लाइव प्रोग्राम’आसक कैप्टन’दौरान पटियाला ज़िलो के दो निवासी भी आज मुख्यमंत्री के साथ रूबरू हुए।
इनमें से एक पटियाला के एक निवासी मनजीत सिंह भी थे, जिन्होंने अपनी कैप्टन अमरिन्दर सिंह के साथ 1980 के दशक की पुरानी सांझ का ज़िक्र करते अपनी बीमारी की आखिरी सांस लेने से पहले मुख्यमंत्री के साथ चाय का कप सांझा करने की इच्छा जताई है, जिसको मुख्यमंत्री ने झटपट स्वीकार कर लिया। इसके साथ ही कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने मनजीत सिंह का हौसला भी बढ़ाते कहा कि,”हम ने इकठ्ठा रहना है, आप ताकतवर रहो, आपको हमने कहीं नहीं जाएँ देना।”उन्होंने कहा कि,”हम  इकठ्ठा सेवा करेंगे और चाय भी पीऐंगे परन्तु आप हौसला रखो।”
 मनजीत सिंह ने मुख्यमंत्री की तरफ से उनकी इकठ्ठा चाय पीने की इच्छा स्वीकार करने पर प्रतिक्रिया में कहा कि,”वह शारीरिक तौर पर काफ़ी बीमार रहते हैं और मुख्यमंत्री की तरफ से पंजाब को बचाने के लिए शुरू किया मिशन फतह ज़रूर कामयाब होगा और हम पंजाबी कोविड -19 को ज़रूर हराएंगे”
इसी तरह एक ओर पटियाला निवासी मुहम्मद परवेज भी मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह के विशेष लाइव प्रोग्राम कैप्टन को पूछो का हिस्सा बने और मुख्यमंत्री को सलाह दी कि,”कोविड -19 दरमियान पंजाब के शहरों, ख़ास कर पटियाला में भी चण्डीगढ़ की तर्ज़ पर सायकलिंग ट्रैक बनाऐ जाएँ।”इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि वह खेल विभाग को इस से सम्बन्धित संभावनायों की तलाश करने को कहेंगे।
इसी दौरान कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने पंजाब निवासियों को कोविड -19 की विश्व व्यापक महामारी पर काबू पहनने के लिए सामाजिक दूरी, मास्क पहनने और हाथ बार -बार धोहण पर पहरा दे कर मिशन फतह सहयोग देने की अपील भी की।
Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In खास ख़बर

Check Also

Anger of agricultural bills is heavy on BJP, Shiromani Akali Dal separates from NDA: कृषि विधेयकों की नाराजगी भाजपा पर भारी, एनडीए से अलग हुआ शिरोमणि अकाली दल

केंद्र सरकार के कृषि विधेयक पास कराने केबाद से ही इसका विरोध किसानों द्वारा किया जा रहा है…