Homeखास ख़बरकिन्नौर के लोगों ने शुरू किया अभियान #SaveKinnaur #NoMeansNo

किन्नौर के लोगों ने शुरू किया अभियान #SaveKinnaur #NoMeansNo

तरुणी गांधी, चंडीगढ़:
भूस्खलन के कई पीड़ित हैं जो अस्पताल में भर्ती हैं, कुछ लोगों की खबरें सतह पर आती हैं और कुछ खामोशी से पीड़ित हैं, क्यांग पेज एडमिन का कहना है जिन्होंने सोशल मीडिया पर #रं५ीङ्रल्लल्लं४१ अभियान शुरू किया और वे गुमनाम रहना चाहते हैं।
90 वर्ष की आयु से लेकर 8 वर्ष की आयु तक किन्नौर के लोग हाथों में तख्तियां लिए सड़कों पर इकट्ठा हो रहे हैं और #रं५ीङ्रल्लल्लं४१ #ठङ्मेींल्ल२ठङ्म का संदेश दे रहे हैं। यह इस क्षेत्र में काफी लंबे समय से हो रहे लगातार भूस्खलन के बाद है और हाल ही में किन्नौर भूस्खलन दुर्घटना ने सोशल मीडिया पर इसे बढ़ावा दिया है। किन्नौर और आसपास के गांवों के लोग दावा कर रहे हैं कि सुरंग की खुदाई पर बढ़ा-चढ़ाकर किया गया काम क्षेत्र में बड़े भूस्खलन का कारण बन रहा है और उनकी जान को लगातार खतरा है।
जंगराम घाटी के इलाकों ने इस अभियान को 2007 में बहुत पहले शुरू किया था। स्थानीय लोगों का कहना है कि ये सभी प्रयास जंगी थोपन जलविद्युत परियोजना को रोकने के लिए किए गए हैं, जिसे वर्ष 2006 में स्वीकृत किया गया था, लेकिन इस क्षेत्र में अभी तक शुरू नहीं हुआ है। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि इस परियोजना में एक 12 किमी भूमिगत सुरंग की खुदाई की जानी है जिससे इस क्षेत्र के उपलब्ध जल संसाधनों को खतरा होगा और यहां के लोग इन जल संसाधनों पर अत्यधिक निर्भर हैं।
रारंग पंचायत संघर्ष समिति के उपाध्यक्ष सुंदर नेगी कहते हैं, “पंगी गांव में एक काशंग परियोजना है जो वर्ष 2002 में विकसित हुई थी, और जिसका दुष्प्रभाव अभी भी ग्रामीणों और आसपास के राष्ट्रीय राजमार्ग को पार करने वाले लोगों को प्रभावित कर रहा है। जून 2013 की बाढ़ के दौरान सबसे प्रमुख भूस्खलन पांगी गांव के एक हिस्से में था, जो काशांग परियोजना के भूमिगत बिजलीघर के ऊपर है, जहां काशांग चरण- क बांध स्थल के लिए सड़क निर्माण हुआ था। इस घटना में सेब के कई बागों के साथ 7 घर पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए। लोग कंपनी से शमन उपाय करने की मांग कर रहे थे लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई।


अब, इस अभियान ने एक बड़ा आकार ले लिया है क्योंकि स्थानीय पंचायत नेता बड़े राजनीतिक दलों के इस अभियान में भाग ले रहे हैं, नो मीन्स नो। राधिका नेगी, प्रधान रिब्बा गांव (किन्नौर) कहती हैं, प्रस्तावित जलविद्युत परियोजनाएं हैं जिनके लिए सरकार है शोध कार्य और पहाड़ों पर लगातार हो रही खुदाई से यहां रहने वाले लोगों को भारी अफरातफरी का सामना करना पड़ रहा है। यह हम हैं, जो सबसे ज्यादा पीड़ित हैं, सरकार नहीं। अब हम पहाड़ों पर भारी निर्माण कार्य से थक चुके हैं। इसलिए अब हम इस बात पर अड़े हैं कि इस क्षेत्र में आगे किसी भी तरह की परियोजनाओं की अनुमति नहीं दी जाएगी।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular