एक उल्लेखनीय घटनाक्रम में, एक सप्ताह के भीतर नई दिल्ली के एम्स और आरएमएल अस्पताल में पीएम केयर्स द्वारा वित्तपोषित दो हाई फ्लो मेडिकल क्सीजन प्लांट संस्थापित कर दिए गए हैं। युद्ध स्तर पर कार्य करते हुए, दोनों संयंत्रों को कोयंबटूर से तेजी से हवाई जहाज से लाया गया था और कल संस्थापित कर दिया गया था। दोनों ही संयंत्रों से आज से क्सीजन की आपूर्ति आरंभ होगी। देश में कोविड-19 मामलों में तेज वृद्धि पर प्रभावी रूप से ध्यान देते हुए, पीएम केयर्स ने देश भर में 500 मेडिकल क्सीजन संयंत्रों की स्थापना करने के लिए फंड आवंटित किए हैं। इन संयंत्रों को तीन महीने के भीतर स्थापित किए जाने की योजना है। कुल मिला कर, पांच हाई फ्लो मेडिकल क्सीजन प्लांट एम्स ट्रॉमा सेंटर, डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल (आरएमएल), सफदरजंग अस्पताल, लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज तथा हरियाणा के एम्स, झज्जर में स्थापित किए जाएंगे।

नीचे नई दिल्ली के एम्स के मेडिकल ऑॅक्सीजन प्लांट के चित्र हैं

नीचे नई दिल्ली के डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल (आरएमएल) में संस्थापित  मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट के कुछ चित्र हैं

राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान के तीसरे चरण का और अधिक विस्तार होने के साथ देश में लगाये गए कोविड-19 टीकों की कुल संख्या आज 16 करोड़ से अधिक हो गई।

भारत ने इस बड़ी उपलब्धि को अर्जित करने में केवल 109दिनों का समय लिया।

इसकी तुलना में, अमेरिका को 111 दिन लगे जबकि चीन ने इस संख्या तक पहुंचने में 116 दिनों का समय लिया था।

12 राज्यों में 18-44 वर्ष के आयु समूह के 6,71,285 लाभार्थियों ने कोविड टीके की पहली खुराक प्राप्त की। ये राज्य हैं -छत्तीसगढ़ (1,026), दिल्ली (82,000), गुजरात (1,61,625), जम्मू एवं कश्मीर (10,885), हरियाणा (99680), कर्नाटक (3840), महाराष्ट्र (1,11,621), ओडिशा (13,768), पंजाब (908), राजस्थान (1,30,071), तमिलनाडु (4577) तथा उत्तर प्रदेश (51,284)।

आज सुबह 7बजे की अनंतिम रिपोर्ट के अनुसार,23,66,349 सत्रों के जरिये कुल मिलाकर 16,04,94,188 टीके लगाये जा चुके हैं। इनमें  94,62,505 एचसीडब्ल्यू शामिल हैं जिन्होंने पहली खुराक ली है जबकि63,22,055 एचसीडब्ल्यू ने दूसरी खुराक प्राप्त की है,1,35,65,728 एफएल्डब्ल्यू (पहली खुराक)73,32,999 एफएल्डब्ल्यू (दूसरी खुराक)18-45 आयु समूह के नीचे के 6,71,285 लाभार्थियों ने पहली खुराक,60 वर्ष से अधिक आयु के 5,29,50,584 लाभार्थियों ने पहली खुराक तथा 123,85,466 लाभार्थियों ने दूसरी खुराक और 45 से 60 वर्ष की आयु के बीच के 5,33,94,353 लाभार्थियों ने पहली खुराक तथा 44,09,213 लाभार्थियों ने दूसरी खुराक प्राप्त की है।