Home खास ख़बर Himachal cold wave due to snowfall and rain: बर्फबारी और बारिश से हिमाचल शीतलहर की चपेट में, न्यूनतम और अधिकतम तापमान में आई गिरावट 

Himachal cold wave due to snowfall and rain: बर्फबारी और बारिश से हिमाचल शीतलहर की चपेट में, न्यूनतम और अधिकतम तापमान में आई गिरावट 

14 second read
0
26

शिमला। हिमाचल प्रदेश में दो माह से अधिक समय से चल रहे ड्राई स्पैल के बाद आखिर मौसम ने करवट ली और राज्य के कई ऊंचे इलाकों में रविवार देर रात और सोमवार सुबह बर्फबारी हुई। वहीं, राज्य के निचले इलाकों में बारिश हुई है। जनजातीय इलाकों के साथ-साथ पर्यटक स्थलों कुफरी, फागू, नारकंडा, खड़ापत्थर, मनाली और डल्हौजी में सीजन का पहला हिमपात हुआ। इन पर्यटन स्थलों पर इस सीजन की पहली बर्फबारी से पर्यटन कारोबारियों के साथ-साथ पर्यटकों के चेहरे खिल गए और सैलानियों ने प्रदेश के पर्यटन स्थलों की ओर रुख करना शुरू कर दिया है।

बीती रात राजधानी शिमला में जहां बारिश हुई, वहीं, साथ लगते पर्यटन स्थल, कुफरी, फागू, नारकंडा, खिड़की और खड़ापत्थर में बर्फबारी हुई। वहीं ऊपरी शिमला में बीती रात के बाद सोमवार सुबह भी बर्फ गिरी। बर्फ गिरने से किसानों और बागवानों ने लगातार सूखे से राहत पाई, लेकिन इस बर्फबारी से पेड़ के टूटने का डर सता रहा है। कुछ स्थानों पर तो सेब के पेड़ भी गिर गए हैं। ऊपरी शिमला में ठियोग, कोटखाई, जुब्बल, चौपाल के ऊंचे इलाकों में बारिश के बाद हुई बर्फबारी किसानी के लिए अच्छी मानी जा रही है।  वहीं, इस बारिश व बर्फबारी के बाद राज्य में शीतलहर तेज हो गई है और लोग ठंड में ठिठुर रहे हैं और घर में ही दुबके हुए हैं।
उधर, जनजातीय जिलों लाहौल-स्पीति, किन्नौर और चंबा के पांगी-भरमौर, सिरमौर की ऊंची चोटियों, कुल्लू व मंडी जिले के ऊंचे क्षेत्रों में भी बर्फबारी हुई है। ऊपरी शिमला के खड़ापत्थर, खिड़की और कुफरी में ताजा हिमपात से सोमवार को कुछ देर के लिए यातायात भी बाधित हुआ था। खड़ापत्थर में बर्फबारी के कारण जुब्बल-रोहड़ू के लिए मार्ग कुछ समय के लिए बंद रहा। वहीं, लाहौल-स्पीति और किन्नौर के कई क्षेत्रों में भी बर्फबारी होने से जनजीवन प्रभावित हुआ है। कुछ गांवों की बिजली व्यवस्था पर इसका असर पड़ा है। ऊपरी शिमला के कई गांवों में भी बिजली की गुल रही।
इस बीच, बारिश-बर्फबारी के कारण लोग कड़ाके की ठंड से ठिठुर रहे हैं। जनजातीय क्षेत्रों का न्यूनतम तापमान माइनस में चला गया। शिमला के साथ लगते कुफरी में तापमान शून्य डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। मौसम विभाग ने राज्य के मैदानी व मध्यपर्वतीय क्षेत्रों में 17 से 22 नवम्बर तक मौसम के साफ रहने का अनुमान जताया है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता के चलते राज्य में बर्फबारी और बारिश हुई है। उनका कहना था कि अब इसका प्रभाव कम हुआ है और आगामी दिनों में राज्य के अधिकतर भागों में मौसम साफ रहने की संभावना है। मैदानी व मध्यम पर्वतीय क्षेत्रों में 17 से 22 नवम्बर तक मौसम साफ रहेगा, जबकि उच्च पर्वतीय इलाकों में 19 व 22 नवम्बर को हिमपात की संभावना है।
कहां कितनी बर्फबारी और बारिश हुई

बीते 24 घंटों के दौरान प्रदेश में कई इलाकों में भारी बर्फबारी हुई हई है। इस दौरान किन्नौर जिले के सांगला में 25 सेंमी. बर्फ रिकार्ड की गई है। वहीं, लाहौल के गोंदला व कोठी में 20 सेंमी., शिमला जिले के खदराला में 18 सेंमी., शिलारू व कोकसर में 10 सेंमी., कुफरी में 7 सेंमी., किन्नौर के कल्पा में 4 सेंमी. और पर्यटन नगरी मनाली में 2 सेंटीमीटर बर्फबारी रिकार्ड की गई। वहीं, राज्य के मध्यम ऊंचाई वाले और कम ऊंचाई वाले इलाकों के साथ-साथ मैदानी इलाकों में बारिश हुई है। सबसे अधिक बारिश रोहड़ू में 46 मिमी. रिकार्ड की गई। वहीं, कुमारसेन में 41 मिमी., डल्हौजी में 33, संगड़ाह व सलूणी में 30-30 मिमी., कंडाघाट व जतौन बैरेज में 28-28 मिमी., कोटखाई व सोलन में 27-27 मिमी., रामपुर व मैहरे में 25-25 मिमी., नैना देवी में 24 मिमी., अंब व जुब्बल में 23-23 मिमी., मनाली, सराहन व शिमला में 22-22 मिमी., बांगटू व जुब्बड़हट्टी में 21-21 मिमी., अघ्घर व बलद्वाड़ा में 18-18 मिमी., सेऊबाग, ऊना व कसौली में 16-16 मिमी., पालमपुर में 15, धर्मशाला में 13, सुंदरनगर, जोगेंद्रनगर, हमीरपुर व गग्गल में 12-12 मिमी., बिलासपुर, देहरा गोपीपुर, मंडी व रिकांगपिओ में 11-11 मिमी., भुंतर, भोरंज व भरमौर में 10-10 मिमी. बारिश रिकार्ड की गई।

कहां कितना तापमान 
मौसम के रुख बदलने से राज्य में अधिकतम और न्यूनतम तापमान में भी कमी आई है। जनजातीय क्षेत्रों में तामपान शून्य से नीचे चला गया है। लाहौल-स्पीति का केलंग सोमवार को  न्यूनतम तापमान माइनस 3 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। वहीं, किन्नौर जिले के कल्पा में न्यूनतम तापमान माइनस 0.8 डिग्री सेल्सियस रहा। शिमला के साथ लगते पर्यटन स्थल कुफरी में न्यूनतम तापमान शून्य डिग्री, मनाली में 0.2 डिग्री, डल्हौजी में 0.6 डिग्री, शिमला में 3.6 डिग्री, पालमपुर में 5.5 डिग्री, सोलन में 5.6 डिग्री, धर्मशाला में 5.8 डिग्री, भुंतर में 6.5 डिग्री, मंडी में 8.1 डिग्री, कांगड़ा में 9.1 डिग्री, सुंदरनगर में 9.3 डिग्री, चंबा में 9.5 डिग्री, हमीरपुर में 10.4 डिग्री, बिलासपुर व उना में 11-11 डिग्री और नाहन में 12.5 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। वहीं, शिमला में अधिकतम तापमान 11.2 डिग्री सेल्सियस रहा। कल्पा में यह 2.8 डिग्री सेल्सियस, कुफरी में 4.2, डलहौजी में 3.9, मनाली में 7.2, धर्मशाला में 11.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
लोकिन्दर बेक्टा
Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In खास ख़बर

Check Also

Government is ready to talk to farmers, government is ready to consider their every problem and demand- Amit Shah: किसानों से बातचीत को तैयार है सरकार, उनकी हर समस्या और मांग पर सरकार विचार करने को तैयार-अमित शाह

नई दिल्ली। किसानों का आंदोलन कठोर होता देख और किसानों को पीछे हटते न देख कर अब सरकार लगाता…