Home अर्थव्यवस्था Vivo launches switchoff campaign: विवो ने स्विचऑफ कैंपेन लांच किया

Vivo launches switchoff campaign: विवो ने स्विचऑफ कैंपेन लांच किया

1 second read
0
0
205

चण्डीगढ़ – मोबाइल फोन के अत्यधिक उपयोग के कारण मानव व्यवहार में आने वाले परिवर्तनों को देखते हुए ग्लोबल इनोवेटिव स्मार्टफोन ब्रांड विवो ने अपने ब्रांड एंबेसडर, आमिर खान के साथ एक अभियान- स्विचऑफ की घोषणा की। भारत में स्मार्टफोन उपयोगकर्ताओं को अपने मोबाइल फोन स्विच ऑफ कर परिवार और दोस्तों के साथ गुणवत्तापूर्ण समय बिताने हेतु प्रोत्साहित करने के लिए इस डिजिटल अभियान को शुरू किया गया है।
विवो और सीएमआर द्वारा हाल ही में किए गए सर्वे में यह तथ्य सामने आया है कि 75 प्रतिशत उत्तरदाताओं के पास उनकी किशोरावस्था में भी स्मार्टफोन रहा है और उनमें से 41 प्रतिशत मानते हैं कि वे हाई स्कूल से पास होने के पहले ही फोन के आदी हो चुके थे। स्मार्टफोन के फायदों और इनकी लत को गहराई से जानने के लिए विवो और सीएमआर द्वारा स्मार्टफोन और मानव संबंधों पर उनके प्रभाव को जानने के लिए किया गया यह अध्ययन, स्मार्टफोन के उपयोग से उपयोगकर्ता के व्यवहार में होने वाले परिवर्तनों को समझने की कोशिश करता है।
स्विचऑफ कैंपेन की जरूरत पर बात करते हुए वीवो इंडिया के ब्रांड रणनीति निदेशक निपुन मार्या ने कहा, हम एक ब्रांड के रूप में मानते हैं कि प्रौद्योगिकी हमारे उपभोक्ता के जीवन को बेहतर बना सकती है, लेकिन सभी चीजों की तरह, इसका उपयोग भी सावधानी से किया जाना चाहिए। स्मार्टफोन बनाने वाली बड़ी कंपनी के रूप में हमारे लिए यह आवश्यक था कि हम अपने आप से यह मौलिक प्रश्न पूछें, कितना अधिक, अत्यधिक है? इस प्रकार हमने इस अभियान को शुरू किया, जिसमें हम उपयोगकर्ताओं को अस्थायी रूप से अपना मोबाइल बंद कर रिश्तों को समय देने का आग्रह करते हैं।
मैक्स सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल के मानसिक स्वास्थ्य और व्यवहार विज्ञान विभाग के निदेशक एवं प्रमुख डॉ. समीर मल्होत्रा इस अभियान के माध्यम से साझा किए गए विचार का समर्थन करते हुए कहते हैं कि स्मार्टफोन की बढ़ती लत के कारण हमने समय के साथ लगातार लोगों में कई प्रकार की मनोदैहिक समस्याओं में वृद्धि देखी है। क्योंकि लोग अपने मोबाइल के बहुत आदी हैं इसलिए अपने परिवार या दोस्तों के साथ बहुत कम समय बिताते हैं या कम बातचीत करते हैं। लंबे समय में, यह लत अकेलेपन और अवसाद को जन्म दे सकती है। इसकी रोकथाम के लिए तत्काल और आवश्यक रूप से डिजिटल डिटॉक्स और मोबाइल का संतुलित उपयोग करना जरूरी है।
डीवीसी इस बात पर प्रकाश डालता है कि अपने परिवार, दोस्तों और अपने आस-पास की दुनिया के साथ फिर से जुडऩे के लिए हमें कैसे अपने हाथ से चलने वाले उपकरणों को बंद करना होगा।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In अर्थव्यवस्था

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Delhi’s acumen dreams to do well in Tokyo Olympics: दिल्ली के कुशाग्र का सपना है टोक्यो ओलिम्पिक में अच्छा प्रदर्शन करना

दिल्ली के कुशाग्र रावत ने इस साल मार्च में टोक्यो ओलिम्पिक के लिए क्वॉलिफाइंग इवेंट्स में …