Homeधर्मश्राद्ध में पितरों को प्रसन्न करना चाहते हैं तो जरूर करें इन...

श्राद्ध में पितरों को प्रसन्न करना चाहते हैं तो जरूर करें इन 7 चीजों का दान

आज समाज डिजिटल, अंबाला

इन दिनों पितृपक्ष के श्राद्ध चल रहे हैं। पितृपक्ष में पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए पूरे विधि-विधान से अनुष्ठान किए जाते हैं। 16 दिन चलने वाले इन श्राद्धो में पितरों को प्रसन्न करने के लिए लोग दान भी करते हैं। इस दौरान कुछ चीजों का दान करने से पितर प्रसन्न होते हैं और उनका आशीर्वाद आपके घर परिवार पर बना रहता है। ज्योतिषाशास्त्र के अनुसार, कुछ चीजें पितरों को दान करना बहुत ही शुभ मानी जाती हैं। तो चलिए जानते हैं इनके बारे में…

1. वस्त्र का दान

इस काल में पितरों के निमित्त उनके पहनने योग्य वस्त्र या धोती,कुर्ता व गमछा का दान करना चाहिए। पितर पक्ष वस्त्र दान का भी विशेष महत्व है। इसके साथ ही इस काल में जूते-चप्पल व छाते का दान पितृ दोष तथा राहु-केतु दोष का निवारक माना जाता है।

2. काले तिल का दान

काले तिल का दान भी श्राद्धों में करना बहुत ही शुभ माना जाता है। ज्योतिषाशास्त्र के अनुसार, यदि आप किसी ओर चीज का दान नहीं करना चाहते तो काले तिल जरुर दान करें। काले तिल आने वाले संकटों और विपदाओं से भी रक्षा करने में भी सहायता करते हैं।

3. घी और गुड़ का दान

पितर पक्ष में गाय के घी और गुड़ का दान करने चाहिए। मान्यता है कि ऐसा करने से गृह कलेश से मुक्ति मिलती है।।

4. अन्न का दान

अन्न का महादान भी श्राद्धों में बहुत ही शुभ माना जाता है। पितरों को शांति मिलती है। अन्नदान के लिए आप पितृपक्ष में गेंहू और चावल का दान जरुर करें। ऐसा माना जाता है कि यदि यह दान किसी मनोवांछित फल के साथ किया जाए तो फल की प्राप्ति भी जरुर होती है।

5. नमक का दान

नमक का दान भी श्राद्धों में बहुत ही शुभ माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि नमक का दान किए बिना कोई भी दान सम्पूर्ण नहीं होता।

6. जूते-चप्पल का दान

जूते-चप्पल का दान करने से भी कई समस्याएं कम हो सकती हैं। इससे कुंडली के दोष भी खत्म होते हैं। इससे जूते चप्पल का दान करने से घर में खुशहाली आती है और सुख-शांति भी मिलती है।

7. गाय के घी का दान

गाय का पूजन करने से कई बाधाएं खत्म होती हैं। इसलिए पितृपक्ष में गाय का घी दान करना बहुत ही फायदेमंद माना जाता है।धर्मग्रंथों में गाय का माता का दर्जा दिया गया है। इससे पितृ आपसे खुश होंगे और घर में भी सुख-समृद्धि बनेगी।

ये भी पढ़ें : अटल भूजल योजना का जिला में हो रहा बेहतर क्रियान्वयन

ये भी पढ़ें : जवाहर नवोदय विद्यालय करीरा में दो दिवसीय विज्ञान प्रदर्शनी एवं संगोष्ठी का शुभारंभ

ये भी पढ़ें : जनसंपर्क अभियान के तहत सैकड़ों लोगों ने आम आदमी पार्टी को ज्वाइन किया

ये भी पढ़ें : विज्ञान के प्रचार-प्रसार में हिंदी की भूमिका महत्त्वपूर्ण- डॉ. राहुल सिंघल

 Connect With Us: Twitter Facebook

 

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular