Home टॉप न्यूज़ Nine migrant workers died in a truck and bus collision in Bihar : प्रवासी श्रमिकों के साथ फिर हुआ भीषण हादसा, बिहार में ट्रक और बस की टक्कर में नौ प्रवासी श्रमिकों की मौत

Nine migrant workers died in a truck and bus collision in Bihar : प्रवासी श्रमिकों के साथ फिर हुआ भीषण हादसा, बिहार में ट्रक और बस की टक्कर में नौ प्रवासी श्रमिकों की मौत

0 second read
0
0
34

पटना। देश में जब से लॉकडाउन शुरू हुआ है तभी से प्रवासी श्रमिकों का पलायन जारी है। लगातार प्रवासी श्र मिक अपने घरों की ओर हजारों परेशानियों को झेलते हुए भी जा रहे हैं। सैंकड़ों श्रमिकों की मौत अब तक सड़क हादसों में हो चुकी है। रोज प्रवासी श्रमिकों से जुड़ी सड़क हादसों की खबरें आ रहीं हैं। बिहार के भागलपुर जिलेमेंभी आज सड़क हादसा हुआ जिसें नौ प्रवासी श्रमिकों की जान चली गई। भागलपुर के नवगछिया में मंगलवार सुबह ट्रक और बस की आमने सामने टक्कर हो गई। इस टक्कर में 9 प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई और चार गंभीर रूप से घायल हो गए। जानकारी के अनुसार सड़क हादसा खरीक थाना क्षेत्र के अम्भो चौक के समीप एनएच-31 पर हुआ है। हादसे में घायल यात्रियों को अनुमंडलीय अस्पताल नवगछिया से प्राथमिक उपचार के बाद चिकित्सकों ने मायागंज रेफर कर दिया। वहीं ट्रक के मलबे मे दबे सभी शवों को क्रेन की मदद से बाहर निकाला गया। प्राप्त सूचना के अनुसार नवगछिया जीरो माइल में यह प्रवासी श्रमिक साइकिल से चल रहे थे वहां ट्रक चालक से इन लोगों ने मदद मांगी और ट्रक पर सवार हो गए। जो करीब चार किलोमीटर आगे आने पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। मृतक पश्चिम चंपारण के रहने वाले बताया जा रहा है। वहीं बस दरभंगा से बांका जा रहा था। बस पर श्रमिक एक्सप्रेस से आये हुए प्रवासी मजदूर सवार थे। बस चालक की गलती के कारण स्थानीय लोगों द्वारा यह दुर्घटना होने की बात बताई जा रही है।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In टॉप न्यूज़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Minorities are not getting relief in Pakistan, forcible conversion of Hindu girls continuously: पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों को नहीं मिल रही राहत, लगातार हिंदू लड़कियों का जबरन धर्मांतरण, शिकायत करनेवालों का पुलिस भी कर रही प्रताड़ित

खमीरपुर। पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की सुनने वाला कोई नहीं है। पाकिस्तान से अक्सर हिंदुओं …