Home टॉप न्यूज़ General development program of ‘Maha Vikas Aghadi’ continues, emphasis on secularism: ‘महा विकास अघाड़ी’ का सामान्य न्यूनतम कार्यक्रम जारी, सेक्यूलरिज्म पर जोर

General development program of ‘Maha Vikas Aghadi’ continues, emphasis on secularism: ‘महा विकास अघाड़ी’ का सामान्य न्यूनतम कार्यक्रम जारी, सेक्यूलरिज्म पर जोर

2 second read
0
0
41

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में गुरुवार शाम को महाराष्टÑ के इतिहास में पहली बार शिवाजी पार्क में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। आज शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे महाराष्टÑ के 18वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेने जा रहे हैं। यह गठबंधन की सरकार है। शिवसेना,एनसीपी और कांग्रेस गठबंधन ने मिलकर यह सरकार बनाई है। इसमें एनसीपी का उपमुख्यमंत्री और कांग्रेस का विधानसभा स्पीकर बनाने पर सहमति बनी। आज उद्धव के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के साथ ही तीनों दलों के दो-दो मंत्री भी शपथ लेंगे। बता दें कि तीनों पार्टियों के बीच इसका पूरा फॉमूर्ला निश्चित कर लिया गया है। तीनों पार्टियों के महा विकास अघाड़ी’ (एनसीपी-कांग्रेस-शिवसेना गठबंधन) गठबंधन की ओर से न्यूनतम साझा कार्यक्रम जारी हुआ। इस न्यूनतम कार्यक्रम के तहत किसानों की मदद को लेकर प्राथमिकता दी गई है। लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इसमें शुरू के ही पैरा में सेक्यूलर शब्द पर जोर दिया गया है। इसे दो बार लिखा गया है। जिससे साफ है कि सरकार चलाने के लिए उद्धव ठाकरे को हिंदुत्व के बजाए सेक्यूलर इसमें किसानों के लिए तत्काल सहायता और ऋण माफी को शामिल किया गया है। साथ ही जिन किसानों ने अपनी फसल खो दी है, उन्हें तत्काल मुआवजा सुनिश्चित करने के लिए फसल बीमा योजना को संशोधित किया जाएगा। तीनों ही दलों की सीएमपी के पहले पैरा सेक्यूलरिज्म शब्द का इस्तेमाल दो बार है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के तौर पर बृहस्पतिवार शाम को शपथ लेने जा रहे शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के शपथ ग्रहण समारोह के लिए सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए हैं। इन सुरक्षा इंतजामों के तहत शिवाजी पार्क की सुरक्षा में कम से कम 2,000 पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। पुलिस के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In टॉप न्यूज़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Have respect for JNU, do not abuse: जेएनयू के प्रति श्रद्धा रखिए, गाली मत दीजिए

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय ‘जेएनयू’ में फीस बढ़ोतरी के खिलाफ अब भी आंदोलन जारी है। उस आंद…