Home टॉप न्यूज़ Maharashtra assembly-169 MLAs support to Chief Minister Uddhav Thackeray, Shiv Sena-NCP-Congress government in Maharashtra: महाराष्ट्र विधानसभा- मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को 169 विधायकों का समर्थन, महाराष्ट्र में शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस की सरकार

Maharashtra assembly-169 MLAs support to Chief Minister Uddhav Thackeray, Shiv Sena-NCP-Congress government in Maharashtra: महाराष्ट्र विधानसभा- मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को 169 विधायकों का समर्थन, महाराष्ट्र में शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस की सरकार

4 second read
0
0
44

नई दिल्ली। आज महाराष्टÑ में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महा विकास आघाडी सरकार को विधानसभा में बहुमत सिद्ध करना है। विश्वासमत हासिल करने के लिए शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस ने अपने विधायकों को उपस्थित रहने के लिए कहा। विधानसभा के एक अधिकारी ने एजेंसी को बताया कि दोपहर दो बजे सदन की बैठक के बाद शक्ति परीक्षण होगा। अधिकारी ने कहा कि सरकार को उम्मीद है कि वह आसानी से विश्वास मत हासिल कर लेगी। विधानसभा का दो दिवसीय सत्र शनिवार को शुरू होगा। पहले दिन सदन में नए मंत्रियों के परिचय के बाद विश्वास मत हासिल किया जाएगा। सदन की शुरुआत होते ही हंगामा हुआ। पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने कहा कि यह अधिवेशन कानून गलत है। उन्होंने अधिवेशन की शुरुआत वंदेमातरम् से नहीं होने पर भी सवाल उठाए। इसके बाद प्रोटेम स्पीकर ने इसका जवाब दिया और कहा कि यह अधिवेशन राज्यपाल को भगत सिंह कोश्यारी के आदेश के बाद ही बुलाया गया है इसलिए यह पूरी तरह से कानून के अनुसार है। प्रोटेम स्पीकर ने वहां राज्यपाल के आदेश को पढ़कर सुनाया। इसके बाद उद्धव ठाकरे ने अपने मंत्रियों का नाम पढ़ा और उनका परिचय दिया। हालांकि इसके साथ ही भाजपा के विधायकों द्वारा हंगामा और नारेबाजी की जा रही है। भाजपा के विधायक ‘दादागिरी नहीं चलेगी’ नारे बार-बार लगाए जा रहे थे।

अपडेट
फड़णवीस ने कहा मंत्रियों ने सपथ गलत तरीके से ली है। प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति गर्वनर ने की है। सुप्रीम कोर्ट का फैसला था कि हॉर्स ट्रेडिंग आदि को रोकने के लिए वोटिंग इस प्रकार से हो रही है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि फ्लोर टेस्ट महाराष्टÑ में जल्द से जल्द होना चाहिए। उनके आदेश के अनुसार ही प्रोटेम स्पीकर ने कहा कि हम आगे बढ़ रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था कि खुला मतदान हो। उसी आधार पर आगे की कार्रवाई मैं शुरू कर रहा हूं। प्रोटेम स्पीकर ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार इसका लाइव टेलिकास्ट किया जा रहा है। प्रोटेम स्पीकर ने कहा कि विश्वास मत की कार्रवाई शुरू की जाए। अशोक चव्हाण ने विश्वास मत प्रस्ताव पेश किया।

अपडेट
महा विकास अघाड़ी ने इस प्रस्तावमत का अनुमोदन किया। नवाब मलिक ने भी विश्वासमत का प्रस्ताव रखा। प्रोटेम स्पीकर ने कहा कि जो विश्वास मत से सहमत है वह हां कहें और जो विरोध में है वह ना कहें। अब सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार हेड काउंट किया जाएगा। इस बीच लगातार भाजपा सदस्य नारेबाजी और हंगामा कर रहे हैं। सभी सदस्यों को अपने स्थान पर बैठने के लिए प्रोटेम स्पीकर ने कहा। भाजपा के सदस्य हेड काउंट से पहले विधानसभा के बाहर आ गए और नारेबाजी की। विश्वासमत से पहले भाजपा के सदस्य बाहर आ गए और मीडिया से बात करने लगे। विधानसभा के बाहर भाजपा के सदस्य नारेबाजी कर रहे है। इस बीच प्रोटेम स्पीकर रांकपा के वरिष्ठ नेता दिलीप वलसे पाटिल ने विधान सभा में सदस्यों को बैठने के लिए कहा। लेकिन भाजपा के सदस्य विधानसभा से वॉकआउट कर गए। विश्वासमत की कार्रवाई छोड़कर भाजपा के सदस्य बाहर आ गए। देवेंद्र फड़णवीस ने कहा कि नियामें के खिलाफ यह अधिवेशन बुलाया गया है। उन्होंने कहा कि यह नियमों के विरुद्ध है कि एक बार प्रोटेम स्पीकर बन जाए तो उसे हटाया नहीं जा सकता है। देवेंद्र फड़णवीस ने विश्वासमत के दौरान ही विधानसभा के बाहर आकर बाइट दिया। उन्होंने कहा कि नियमों को ताकपर रखा गया है।

अपडेट
देवेंद्र फड़णवीस ने कहा कि शपथ लेने के समय मुख्यमंत्री सहित सभी नेताओं ने शपथ गतल तरीके से ली है। उन्होंने कहा कि संविधान को ताक पर रखकर इन्होंने सारा काम किया है। गलत तरीके से शपथ लेने वाले नेताओं का परिचय देना गलत है। जिसका हम विरोध करते हैं और हमने इसलिए सदन से वॉकआउट किया है और उन्होंने कहा कि पहले हम राज्यपाल के पास जा रहे हैं और जरूरत पड़ी तो आगे भी जाएंगे।

अपडेट
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पक्ष में 169 विधायकों के वोट मिले जबकि चार सदस्यों ने वोटिंग नहीं की वह तटस्थ रहे। उन्होंने सरकार के पक्ष में वोट नहीं किया। हालांकि उन्होंने विपक्ष के साथ बाहर वॉकआउट भी नहीं किया।

अपडेट
इस प्रकार मुख्यमंत्री उद्वव ठाकरे की सरकार ने फ्लोर टेस्ट पास कर लिया। हालांकि सरकार के विपक्ष में एक भी वोट नहीं पड़े क्योंकि भाजपा के सभी विधायक कार्रवाई से वॉकआउट कर गए थे। विश्वासमत हासिल करने के बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि मैं पहली बार सदन में आया हूं। आते-आते छत्रपति शिवाजी महाराज का वंदन किया। वह हमारे देवता हैं। मैं आमने-सामने से लड़ने वाला व्यक्ति हूं। यहां आकर मैंने पहली बार अंबेडकर और अन्य की तस्वीरें देखी। अगर मैंने छत्रपति शिवाजी महाराज का नाम लेकर माता-पिता का नाम लेकर शपथ लिया तो इसमे गलत क्या है। मैं ऐसा सौ बार करूंगा। उन्होंने कहा कि हम छत्रपति शिवाजी महाराज का महाराष्ट्र बनाएंगे। वैसा ही महाराष्ट्र जैसा छत्रपति शिवाजी महाराज की कल्पना थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि जितने विधायाकों ने मुझे समर्थन किया उनका हाथ जोड़कर अभिनंदन करता हूं।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In टॉप न्यूज़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Four new reconsideration petitions filed in Ayodhya case: अयोध्या मामले में चार नई पुनर्विचार याचिकाएं दायर

एजेंसी,नई दिल्ली। अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का रास्ता साफ करने वाले उच्चतम न्यायालय…