Home खेल क्रिकेट BCCI President Sourav Ganguly’s big announcement: बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली का बड़ा ऐलान

BCCI President Sourav Ganguly’s big announcement: बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली का बड़ा ऐलान

0 second read
0
0
39

मुंबई। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने इस बात की पुष्टि कर दी है कि अब एमएसके प्रसाद की अध्यक्षता वाली चयन समिति का कार्यकाल समाप्त होने जा रहा है। बीसीसीआई की मुंबई के इंडियन क्रिकेट सेंटर में आयोजित 88वीं वार्षिक आम बैठक यानी एजीएम के बाद सौरव गांगुली ने कहा है कि आप अपने कार्यकाल से आगे काम नहीं कर सकते।
पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने बीसीसीआई के पुराने संविधान के मुताबिक कहा है कि चयन समिति का कार्यकाल चार साल से ज्यादा समय के नहीं हो सकता। वहीं, संविधान संशोधन के बाद ये टर्म पांच साल का हो जाएगा, लेकिन अभी इससे सुप्रीम कोर्ट से मंजूरी मिलनी है, लेकिन एमएसके प्रसाद की अगुआई वाली राष्ट्रीय चयन समिति का 4 साल का कार्यकाल समाप्त हो गया है।
प्रसाद ने 2015 में चयन समिति को किया था ज्वाइन
एमएसके प्रसाद और गगन खोड़ा ने साल 2015 में चयन समिति में चुने गए थे। वहीं, जतिन परांजपे, सरनदीप सिंह और देवांग गांधी ने 2016 में चयन समिति में नियुक्ति पाई थी, लेकिन बीसीसीआई के मौजूद अध्यक्ष सौरव गांगुली के मुताबिक इनमें से किसी भी शख्स का कार्यकाल आगे नहीं बढ़ाया जा रहा है। ऐसे में इन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ होने वाले वनडे और टी20 इंटरनेशनल सीरीज के लिए भारतीय टीम का आखिरी बार चयन किया है।
सौरव गांगुली ने कहा, कार्यकाल समाप्त हो गया है। आप कार्यकाल से आगे नहीं जा सकते। इन सभी लोगों ने अच्छा काम किया है। हम चयनकर्ताओं के लिए एक फिक्स कार्यकाल बनाएंगे। हर साल सलेक्टर्स का चयन करना सही नहीं है। इस चयन समिति के कार्यकाल के दौरान भारतीय टीम ने कई क्षेत्रों में सफलता हासिल की है, लेकिन कई सारे बड़े टूर्नामेंट गंवाए भी हैं, जिसमें वर्ल्ड कप, आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी जैसे टूर्नामेंट शामिल हैं।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In क्रिकेट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Nehru targeted on the pretext of political discussion: राजनीतिक चर्चा के बहाने नेहरू पर निशाना

आज के इस अति बुद्धिवादी दौर में अगर आप भावनाओं से जुड़े तथ्यों को रेखांकित करते हैं तो आप प…