Home राजनीति CRPF posted in Ludhiana Central Jail: लुधियाना केंद्रीय जेल में सीआरपीएफ की तैनाती

CRPF posted in Ludhiana Central Jail: लुधियाना केंद्रीय जेल में सीआरपीएफ की तैनाती

1 second read
0
0
53

लुधियाना। लुधियाना केंद्रीय जेल में हिंसा, मोबाइल फोन की बरामदगी सहित जेल से भागने की घटना के चलते जेल प्रशासन व सरकार की हुई किरकिरी के बाद आखिरकार जेल में सीआरपीएफ के 76 जवानों की तैनाती कर दी गई है। इनकी तैनाती मीटिंग रूम, मुख्य जेल परिसर में प्रवेश, सभी हाई सिक्योरिटी सेल व जेल की बाहरी दीवार पर पेट्रोलिंग के लिए की गई है। सीआरपीएफ के जवान जेल मेन्युअलों के बारे में ट्रेनिंग लेने के बाद अगले सप्ताह से मोर्चा संभाल लेंगे। जब तक सीआरपीएफ जेल परिसर की दीवारों की निगरानी करेगी। जेल सुपरिंटेंडेंट राजीव कुमार अरोड़ा ने बताया कि एक डीएसपी रैंक के अधिकारी के नेतृत्व में सीआरपीएफ के 76 जवानों की तैनाती की गई है। सीआरपीएफ के जवानों को जेल परिसर के मेन प्रवेश पर लगाया जाएगा, जो जेल परिसर में घुसते वक्त सभी कैदियों व जेल स्टाफ की तलाशी लेंगे।
जेल स्टाफ पर लगते रहे हैं आरोप
अरोड़ा ने बताया कि जेल स्टाफ की कैदियों के साथ मिलीभगत होने बारे लगने वाले आरोपों कि वे उन्हें नशे व मोबाइल फोन मुहैया कराते हैं, अब उन पर एक और टीम नजर रखा करेगी। सीआरपीएफ की एक टीम मिलने वाले कमरे में तैनात की जाएगी, जहां कैदियों के रिश्तेदार उनसे मिलने पहुंचते हैं। एक टीम हाई सिक्योरिटी जोन में भी तैनात रहेगी।
जेल को चार जोन में बांटा गया
जेल डिप्टी सुपरिंटेंडेंट इकबाल सिंह धालीवाल ने बताया कि उन्होंने अपराधियों में अपराध की प्रवृत्ति के मद्देनजर जेल को चार जोनों में बांटा है। इस दिशा में, खूंखार अपराधी और गैंगस्टर अलग-अलग जोन में रहेंगे। उन्होंने बताया कि सभी गैंगस्टर्स को हाई सिक्योरिटी सेल में बंद रखा गया है, जो कभी लड़ भी पड़ते हैं। ऐसे में एक टीम उनपर नजर रखा करेगी। इसके अलावा, वे सेल में जाने वाले प्रत्येक व्यक्ति की तलाशी लेंगे। इसी तरह, सीआरपीएफ जेल परिसर की मुख्य दीवार पर भी तैनात की जाएगी, जबकि बाकी पेट्रोलिंग के जरिए बाहरी दीवार की निगरानी रखेगी।
वर्तमान में जेल में बंद हैं 3350 कैदी
गौरतलब है कि जेल में 2500 कैदियों की क्षमता के विपरीत वर्तमान में 3350 कैदी बंद हैं। जबकि जेल में सिर्फ 271 सुरक्षा कर्मी हैं, जो अलग-अलग शिफ्ट में काम करते हैं। सिर्फ 70 से 80 पुलिसकर्मियों की ही एक हजार कैदियों पर तैनाती हो पाती है।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In राजनीति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Have respect for JNU, do not abuse: जेएनयू के प्रति श्रद्धा रखिए, गाली मत दीजिए

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय ‘जेएनयू’ में फीस बढ़ोतरी के खिलाफ अब भी आंदोलन जारी है। उस आंद…