Home खेल Sports Minister Kiren Rijiju eyeing tournament in August without audience: खेल मंत्री किरेन रिजिजू की नजरें बिना दर्शकों के अगस्त में टूनामेंट शुरू करने पर

Sports Minister Kiren Rijiju eyeing tournament in August without audience: खेल मंत्री किरेन रिजिजू की नजरें बिना दर्शकों के अगस्त में टूनामेंट शुरू करने पर

2 second read
0
0
91

नई दिल्ली । खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने मंगलवार को कहा कि अगस्त से खाली स्टेडियम में टूनार्मेंटों की शुरूआत की जा सकती है, लेकिन भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) ने स्थिति के आधार पर कार्यक्रम में लचीलापन अपनाने की अपील की है। खेल मंत्री ने आईओए और कुश्ती, हॉकी, मुक्केबाजी और निशानेबाजी सहित 15 राष्ट्रीय महासंघों के प्रतिनिधियों के साथ आॅनलाइन बैठक की, जिसमें भविष्य में खिलाड़ियों की ट्रेनिंग, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में उनके प्रतिनिधित्व और भारत में खेल प्रतियोगिताओं के आयोजन पर चर्चा की गई।

किरेन रिजिजू ने कहा, ”बैठक के बाद खेल मंत्रालय सभी विचारों की समीक्षा करेगा और खेलों को खोलने के लिए महासंघ के साथ मिलकर काम करेगा। मुझे लगता है कि अगस्त से हम कुछ खेल प्रतियोगिताओं को भी शुरू कर पाएंगे।” कोविड-19 महामारी को लेकर जारी अनिश्चितता को देखते हुए हालांकि आईओए अध्यक्ष नरिंदर बत्रा ने वार्षिक कैलेंडर में लचीलेपन की मांग की।

बैठक के दौरान मौजूद बत्रा ने कहा, ”एसीटीसी (वार्षिक प्रतियोगिता एवं ट्रेनिंग कैलेंडर) में इस साल लचीलापन रखना होगा जिससे कि बदली हुई स्थितियों के अनुसार फैसले किए जा सकें।” बैठक के दौरान मंत्रालय ने सुझाव दिया कि महासंघ अंतरिम एसीटीसी सौंपे, जिससे कि ओलंपिक के लिए क्वॉलिफाई कर चुके खिलाड़ियों की ट्रेनिंग चरणबद्ध तरीके से शुरू की जा सके। संबंधित अंतरराष्ट्रीय महासंघ जब अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं का कैलेंडर प्रकाशित करेगा तो एसीटीसी की समीक्षा की जा सकती है।

खेल मंत्री रिजिजू ने कहा, ”हम अनलॉक के पहले चरण में हैं और देश के रूप में हम धीरे-धीरे मौजूदा स्थिति के आदी हो रहे हैं, यह सुरक्षा नियमों का पालन करने हुए खेलों को धीरे-धीरे खोलने का सही समय है।”

उन्होंने कहा, ”महासंघ प्रत्येक खेल को लेकर सर्वश्रेष्ठ फैसला करने की स्थिति में हैं और ऐसे में मंत्रालय उनके सुझाव जानता चाहता है। कोरोना वायरस के बाद खेलों में भारत की योजना में उनके विचार अहम भूमिका निभाएंगे।” मंत्री ने साथ ही सभी महासंघों से अपील की कि वे लीग मैनेजरों से बात करें और कुछ टूनार्मेंटों का प्रस्ताव तैयार करें, जिन्हें प्रत्येक खेल में आगामी महीनों को आयोजित किया जा सके।

उन्होंने कहा, ”हमें स्टेडियम में छोटे टूनार्मेंट कराने की जरूरत है और इस दौरान दर्शक नहीं हों। लेकिन हम खेलों को टेलीविजन और सोशल मीडिया पर दिखाने का प्रयास कर सकते हैं।”

बैठक में तीरंदाजी, एथलेटिक्स, बैडमिंटन, मुक्केबाजी, साइकिलिंग, तलवारबाजी, फुटबॉल, हॉकी, जूडो, निशानेबाजी, तैराकी, टेबल टेनिस, भारोत्तोलन और कुश्ती के अध्यक्षों और महासचिवों ने हिस्सा लिया। खेल सचिव रवि मित्तल, साइ के महानिदेशक संदीप प्रधान, आईओए महासचिव राजीव मेहता भी बैठक के दौरान मौजूद थे।

-ऐश्वर्या जैन

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In खेल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Vikas Dubey encounter will be investigated: विकास दुबे एनकाउंटर की होगी जांच, एसआईटी का गठन, 31 जुलाई तक सौंपनी होगी रिपोर्ट

कानपुर। कानपुर के ईनामी बदमाश गैंगस्टर विकास दुबे का उज्जैन से यूपी लाते समय एनकाउंटर किया…