Home अर्थव्यवस्था HDFC Bank launches security grid campaign to strengthen social distancing: एचडीएफसी बैंक ने सोशल डिसटेंसिंग को मजबूत करने के लिए सुरक्षा ग्रिड अभियान शुरू किया

HDFC Bank launches security grid campaign to strengthen social distancing: एचडीएफसी बैंक ने सोशल डिसटेंसिंग को मजबूत करने के लिए सुरक्षा ग्रिड अभियान शुरू किया

2 second read
0
0
190

चंडीगढ़: एचडीएफसी बैंक ने #socialdistancing #सोशलडिसटेंसिंग को प्रोत्साहित और उसे मजबूती प्रदान करने के लिए आज अपना #HDFCBankSafetyGrid #एचडीएफसीबैंकसेफ्टीग्रिड अभियान शुरू किया है। एचडीएफसी बैंक के लोगो के बाहरी ग्रिड का उपयोग करते हुए जो कि जो विश्वास का पर्याय है, बैंक ने किसी दुकान या प्रतिष्ठान में कतार में खड़े लोगों को विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा निर्धारित सोशल यानि “सामाजिक” दूरी बनाए रखने में मदद करने के लिए जमीन पर फिजिकल मार्कर बनाए हैं। कोलकाता में एक सफल पायलट प्रोजेक्ट के बाद, मुंबई, दिल्ली, बेंगलुरु, कोलकाता, हैदराबाद, पुणे, चंडीगढ़ और भुवनेश्वर में सेफ्टी ग्रिड अभियान शुरू किया गया है। ‘द सेफ्टी ग्रिड’ को विभिन्न खुदरा दुकानों जैसे कि फार्मेसियों, किराने की दुकानों और एटीएम के लिए अग्रणी स्थान के सामने पेंट किया जाएगा। प्रत्येक ग्रिड को डब्ल्यूएचओ द्वारा तय अधिकतम एक दूसरे से 1 मीटर की दूरी पर बनाया जाएगा। शुरुआत के लिए, “सेफ्टी ग्रिड” 8 शहरों में 4,000 से अधिक जरूरी सेवाओं के स्टोर पर लागू किया जाएगा। अब तक, इसे 1,750 से अधिक आवश्यक सर्विसेज स्टोर पर लागू किया जा चुका है।

इस मौके पर श्री रवि संथानम, मुख्य विपणन अधिकारी, एचडीएफसी बैंक ने कहा कि “जरूरत की इस घड़ी में, जब देश महामारी से लड़ रहा है, हमने बैंक के लोगो को उनकी सुरक्षा और सुरक्षा के लिए, लाखों भारतीयों को जमीन पर रखने का फैसला किया है।” उन्होंने कहा कि “एचडीएफसी बैंक और इसका लोगो अब बीते 25 वर्षों से भरोसे का पर्याय बन गया है। हमने इस विश्वास के लिए, कि हमारे सुरक्षा और लोगों का सामाजिक दूरी बनाए रखना कोविड19 से लड़ने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है और हम इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए पूरी तरह से समर्पित हैं। हम अपने लोगो का उपयोग लोगों में एक संदेश भेजने में कर सकते हैं। आज हम जिस कारण से लड़ रहे हैं वह किसी भी मार्केटिंग नियम और मानदंडों से बहुत अधिक है। और प्रत्येक प्रयास और योगदान अपना महत्व रखता है।”

इस अभियान के बारे में बात करते हुए श्री राजदीपक दास, एमडी, भारत और चीफ क्रिएिटव ऑफिसर, लियो बर्नेट साउथ एशिया ने कहा, “सामाजिक दूरी प्राथमिक तरीकों में से एक है जिसे हम इस घातक बीमारी को अपने देश से दूर कर सकते हैं। लेकिन वास्तव में, हर किसी को आवश्यक वस्तुएं खरीदने के लिए बाहर जाने की जरूरत है। ये ग्रिड्स सामाजिक डिसटेंसिंग के लिए लोगों को शारीरिक तौर पर एक-दूसरे से दूर रखने का प्रयास है और इनको किसी भी सार्वजनिक सेटिंग में बनाए रखना चाहिए। यह एक सरल लेकिन बेहद शक्तिशाली आइडिया है, एक सरल समाधान है और काफी अलग भी है।”

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In अर्थव्यवस्था

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Minorities are not getting relief in Pakistan, forcible conversion of Hindu girls continuously: पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों को नहीं मिल रही राहत, लगातार हिंदू लड़कियों का जबरन धर्मांतरण, शिकायत करनेवालों का पुलिस भी कर रही प्रताड़ित

खमीरपुर। पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की सुनने वाला कोई नहीं है। पाकिस्तान से अक्सर हिंदुओं …