Home अर्थव्यवस्था Contribution of Rs 100 crore for the fight with Coca-Cola India Covid-19: कोका-कोला इंडिया कोविड-19 से लड़ाई केलिए 100 करोड़ रुपये का योगदान

Contribution of Rs 100 crore for the fight with Coca-Cola India Covid-19: कोका-कोला इंडिया कोविड-19 से लड़ाई केलिए 100 करोड़ रुपये का योगदान

6 second read
0
0
94

गुरुग्राम। कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई के लिए राहत प्रयासों को बढ़ाने की जरूरत है। ऐसे में, कोका-कोला इंडिया ने 100 करोड़ रुपये से अधिक का शुरुआती सहयोग देने का संकल्‍प लिया है। कंपनी इस राशि से स्‍वास्‍थ्‍यरक्षा तंत्र और समुदायों की मदद करेगी ताकि वे इस सकंट से मुकाबला कर सकें और इस महामारी को फैलने से रोक सकें। कोका-कोला इंडिया द्वारा शुरु किए गए इन राहत कार्यक्रमों का उद्देश्‍य देशभर में 10 लाख से अधिक लोगों को लाभ पहुंचाना और उन्‍हें सकारात्‍मक रूप से प्रभावित करना है। कोका-कोला इंडिया का उद्देश्‍य दुनिया को तरोताजा करना और एक सकारात्‍मक बदलाव लाना है। अपने इसी उद्देश्‍य को बरकरार रखते हुए, कंपनी देश के स्‍वास्‍थ्‍यरक्षा बुनियादी ढांचे को बेहतर बनाने में तात्‍कालिक सहयोग प्रदान करेगी। इसमें स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों के लिए टेस्टिंग फैसिलिटीज एवं पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट (पीपीई) शामिल हैं। कंपनी अपने एनजीओ एवं बॉटलिंग पार्टनर्स के साथ भी करीब से काम कर रही है ताकि बेरोजगारों एवं प्रवासी कामगारों जैसे सबसे अधिक प्रभावित समुदायों की मदद की जा सके। कंपनी मौजूदा लॉकडाउन के दौरान इन लोगों को खाने-पीने के सामानों का वितरण कर रही है।

कंपनी कोविड-19 से लड़ाई के लिए 100 करोड़ रुपये का योगदान कर रही है ताकि सबसे अधिक संवेदनशील वर्गों की मदद की जा सके और इसके द्वारा निम्‍नलिखित उपाय अपनाये गये हैं –

· कंपनी ने पहले ही अपने बॉटलर्स के साथ साझेदारी में 10 राज्‍यों में 50 से अधिक स्‍थानों पर कार्यक्रमों का संचालन कर रही है ताकि लॉकडाउन के दौरान बेवरेज के वितरण के माध्‍यम से वंचित समुदायों की हाइड्रेशन संबंधी जरूरतों को सहयोग दिया जा सके।

· कोका कोला फाउंडेशन, एटलांटा के सहयोग से, कंपनी ने यूनाइटेड वे एवं केयर इंडिया के साथ महत्‍वपूर्ण साझेदारियां की हैं ताकि कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में हेल्‍थकेयर एवं खाद्य सुरक्षा को सहयोग देने की दिशा में पहलों को आरंभ किया जा सके।

· कोका-कोला इंडिया अपने पार्टनर सिविल सोसायटी ऑर्गनाइजेशंस (सीएसओएस) तथा अक्षय पात्र फाउंडेशन, वनराय, चिंतन, हसिरुडला, मंथन संस्‍थान, और अमेरिकन इंडिया फाउंडेशन आदि जैसे एनजीओज के साथ भी काम कर रही है। इस तरह, तनावग्रस्‍त समुदयों को मुफ्‍त में भोजन मुहैया कराया जा रहा है तथा वेस्‍ट वर्कर्स (अपशिष्‍ट कर्मियों) को सूखा राशन, पीपीई और इमरजेंसी मेडिकल फंड्स के माध्‍यम से मदद दी जा रही है।

· गिव इंडिया के साथ अपने एम्‍प्‍लॉई फंडरेज़र कैम्‍पेन के जरिये, कंपनी वेस्‍ट वर्कर्स (अपशिष्‍ट कर्मियों) और कचरा बीनने वालों को सहयोग करने के लिए डोनेशन जुटा रही है। उन्‍हें भोजन एवं साफ-सफाई से संबंधित आवश्‍यक वस्‍तुएं प्रदान की जा रही हैं। कंपनी कर्मचारियों द्वारा किये गये योगदान के बराबर की राशि खुद दान करेगी।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In अर्थव्यवस्था

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Minorities are not getting relief in Pakistan, forcible conversion of Hindu girls continuously: पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों को नहीं मिल रही राहत, लगातार हिंदू लड़कियों का जबरन धर्मांतरण, शिकायत करनेवालों का पुलिस भी कर रही प्रताड़ित

खमीरपुर। पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की सुनने वाला कोई नहीं है। पाकिस्तान से अक्सर हिंदुओं …