HomeपंजाबUncategorizedTarapeeth : एक ऐसी पीठ जहां पूरी होती है मनोकामना

Tarapeeth : एक ऐसी पीठ जहां पूरी होती है मनोकामना

Tarapeeth  जहां अघोरी और तांत्रिकों का लगा रहता है तांता

हम बात कर रहे हैं पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले के तारापीठ की जो पूरे भारत मे तंत्र साधनाओं की सिद्धि के लिए काफी प्रचलित है। वैसे तो मां काली के कई स्वरूप हैं। शक्ति की देवी काली मां के हर रूप का ही महत्व अलग-अलग है। आज हम बात करेंगे तारा मां के बारे में। तारा का अर्थ है आंख और पीठ का अर्थ है स्थल।
पौराणिक कथाओं के अनुसार सती मां का नयन इस स्थान पर गिरा था और ये एक शक्ति पीठ बन गई। हम यहां बात कर रहे हैं तारापीठ के बारे में जो कि पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में स्थित है।

Tarapeeth  लगा रहता है श्रद्धालुओं का तांता

इस मंदिर की अपनी अलग ही खासियत है। इस मंदिर की महिमा के कारण दूर-दूर से लोगों का यहां साल भर तांता लगा रहता है। कहा जाता है कि वशिष्ठ मुनि ने मां की कठिन तपस्या करके कई सारी सिद्धियों को प्राप्त किया था और उन्हीं ने इस मंदिर का निर्माण कराया था। हालांकि समय के चलते वो प्राचीन मंदिर मिट गया और अभी जो मंदिर आप देखते है उसे जयव्रत नाम के एक व्यवसायी ने बनवाया था।

Tarapeeth  श्मशान घाट के समीप स्थित है

तारापीठ मंदिर श्मशान घाट के समीप स्थित है। इस घाट को महाश्मशान घाट के नाम से जाना जाता है। यहां हैरान करने वाली बात ये है कि यहां महाश्मशान घाट में जलती चिता की अग्रि कभी नहीं बुझती है। मंदिर के चारों ओर द्वारका नदी बहती है। बामाखेपा नाम के एक साधक ने मां की कठिन साधना कर अनेक सिद्धियों की प्राप्ति की थी।

Tarapeeth एक तंत्र स्थल

तारा मां और बामाखेपा को लेकर कई सारी अलौकिक घटनाएं आज भी चर्चित हैं। तंत्र की साधना का हिंदू धर्म में काफी महत्व है और तारापीठ एक तंत्र स्थल के लिए जाना जाता है। तारापीठ की शिलामयी मां का दर्शन केवल सुबह और शाम के समय श्रृंगार के समय ही होता है। वैसे तो मां की आरती सुबह शाम दो बार होती है लेकिन नवरात्रि में अष्टमी के दिन मां की तीन बार आरती की जाती है।

Tarapeeth  यह प्रसाद चढ़ता है

यहां मां को प्रसाद के रूप में नारियल, पेड़ा, इलायची दाना चढ़ाया जाता है। लोगों के बीच ऐसी मान्यता है कि महाश्मशान में पंचमुंडी के आसन पर बैठकर एकाग्र मन से तारा मां का तीन लाख बार जप करने से किसी भी साधक को सिद्धि की प्राप्ति हो जाती है। इस महापीठ के दर्शन से इंसान की सारी परेशानियां दूर हो जाती है। तारापीठ कोलकाता से करीबन 250 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है जहां आप बस,ट्रेन या फिर कार किसी भी साधन से जा सकते हैं।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular