Homeराज्यपंजाबटीकाकरण के लिए "यू-विन" पोर्टल लॉन्च किया जाएगा: राज्य टीकाकरण अधिकारी

टीकाकरण के लिए “यू-विन” पोर्टल लॉन्च किया जाएगा: राज्य टीकाकरण अधिकारी

जगदीश, नवांशहर:

  • डॉ . बलविंदर कौर ने हाल ही में लॉन्च किए गए “यू-विन” पोर्टल की तैयारियों के बारे में बताया

राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉ. बलविंदर कौर ने आज भारत सरकार द्वारा सार्वभौमिक टीकाकरण कार्यक्रम के तहत जिले में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में नए लॉन्च किए गए “यू-विन” पोर्टल के संबंध में तैयारियों का निरीक्षण किया। इस अवसर पर सहायक सिविल सर्जन डाॅ. जसदेव सिंह और जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. बलविंदर कुमार उनके साथ विशेष रूप से उपस्थित थे।

यूविन पोर्टल पर डाटा अपलोड करने की जानकारी दी

इस अवसर पर राज्य टीकाकरण अधिकारी डाॅ. बलविंदर कौर और परियोजना अधिकारी (यूएनडीपी) डॉ. मीट सोढ़ी ने स्वास्थ्य कर्मियों को आज सिविल सर्जन कार्यालय के प्रशिक्षण कक्ष में यूविन पोर्टल पर डाटा अपलोड करने के नए दिशा-निर्देशों के बारे में भी जानकारी दी।

जानलेवा बीमारियों से बचाने के लिए टीकाकरण आवश्यक 

डॉ। बलविंदर कौर व डॉ. मीत सोढ़ी ने कहा कि सार्वभौमिक टीकाकरण कार्यक्रम के तहत बच्चों को पीलिया, पोलियो, क्षय रोग, गलघोटू, काली खांसी, टिटनेस, निमोनिया, डायरिया, खसरा और रूबेला और अंधापन जैसी जानलेवा बीमारियों से बचाने के लिए टीकाकरण किया जाता है। बच्चों के अलावा गर्भवती महिलाओं को भी टीका लगाया जाता है। अब अगर किसी बच्चे या गर्भवती महिला को देश भर में कहीं भी इंजेक्शन लग जाता है तो उसकी जानकारी यूविन पोर्टल पर एक जगह एकत्र की जाएगी। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा कोरोना टीकाकरण के लिए बनाए गए कोविन पोर्टल की सफलता के बाद यू-विन पोर्टल शुरू करने की तैयारी जोरों पर है। “यू-विन” के लॉन्च के बाद कोविन पोर्टल का भी इसमें विलय हो जाएगा।

इस अवसर पर सहायक सिविल सर्जन डाॅ. जसदेव सिंह और जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. बलविंदर कुमार ने कहा कि इस पोर्टल का लाभ यह होगा कि किसी भी बच्चे या गर्भवती महिला के टीकाकरण का पूरा विवरण पोर्टल पर दर्ज होगा। यदि ऐसा होता है तो उन लाभार्थियों की पहचान करना आसान होगा जो किसी कारणवश एक राज्य से दूसरे राज्य में प्रवास करते हैं। इसके बाद यह पता लगाना मुश्किल है कि उन्हें वैक्सीन दूसरे राज्य में मिली या नहीं। इनमें ज्यादातर मजदूरों के बच्चे हैं, जो अपने बच्चों के साथ काम की तलाश में दूसरे राज्यों में आते-जाते रहते हैं। ऐसे बच्चों के टीकाकरण की खाई को पाटने में “यू-विन” फायदेमंद साबित होगा।

इस अवसर पर उपस्थित

इस अवसर पर जिला समूह शिक्षा एवं सूचना अधिकारी जगत राम, प्रखंड विस्तार शिक्षक विकास विरदी, हरप्रीत सिंह, गुरकीरपाल संधू, सहायक सुशील कुमार, वैक्सीन कोल्ड चेन मैनेजर (वीसीसीएम) सीनियर. अमृतपाल सिंह सहित अन्य स्वास्थ्य अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।

Connect With Us: Twitter Facebook
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular