Homeराज्यपंजाबऐसा जिला मुखी जो पुलिस ड्यूटी के साथ बना सहारा

ऐसा जिला मुखी जो पुलिस ड्यूटी के साथ बना सहारा

अखिलेश बंसल, बरनाला
भले ही पुलिस विभाग को ड्यूटी से कोताही करने वाले पुलिस कर्मचारियों ने बदनाम कर रखा है, लेकिन कई ऐसे भी काबिल पुलिस अधिकारी व कर्मचारी विभाग में तैनात हैं जो ड्यूटी के साथ अपने सामाजिक नैतिक फर्ज भी निभा रहे हैं। पंजाब के जिला बरनाला में एक ऐसा मुखी है जो पुलिस ड्यूटी के साथ बेसहारा बुजुर्गों का सहारा बना है। जिसने सवा महीना पहले झौंपड़पट्टी के पास सडक़ पर बेहोश गिरे पड़े रीढ़ की हड्डी से पीडि़त बुजुर्ग को उठा अस्पताल पहुंचाया फिर उसके परिवार का पता लगा उसे घर पहुंचाया। आज एक बुजुर्ग को कस्बा महलकलां से खोजा गया है, जिसकी हजामत करवा, उसे साफ सुथरे अच्छे कपड़े पहना, खाना खिला उसे आसरा दिया है। जिला पुलिस मुखी ने उसके परिवार का पता लगाने का दावा किया है।

ड्यूटी के साथ इंसानियत
कोरोना के दौरान समाज सेवा के चलते बरनाला पुलिस द्वारा सवा महीना पहले 24 मई को जरूरतमंद लोगों तक भोजन पहुंचाने की व्यवस्था की जा रही थी। जिसके चलते बरनाला पुलिस को अनाज मंडी में बेसहारा पड़ा बुजुर्ग व्यक्ति नजर में पड़ा। जो रीढ़ की हड्डी से पीड़ित था। पुलिस ने उसे सिविल अस्पताल पहुंचाया, आर्थो माहिर डॉक्टर अंशुल द्वारा इलाज कराया, पांच दिन बाद ठीक हुए बुजुर्ग व्यक्ति की पहचान कृषण उर्फ सतपाल निवासी सेखा रोड बरनाला के तौर पर हुई। पता लगाया कि उसके करीब डेढ़ साल पहले रीढ़ की हड्डी पर चोट लगी थी, उसने अमर अस्पताल में अपना इलाज करवाया था, जब उसकी जेब से सारे पैसे खत्म हो गए तो वह बेबस और लाचार हो गया। वह चलने फिरने से असमर्थ था और उसके पारिवारिक सदस्य उसे अगस्त 2020 के दौरान अनाज मंडी में बेसहारा छोड़ गए थे।

दूसरा बुजुर्ग मिला महलकलां से
जिला पुलिस मुखी संदीप गोयल ने सोशल मीडिया पर महलकलां की गलियों में घूमते एक व्यक्ति की वीडियो देखी थी, जो घर से बेघर और हुलिए से साधारण लग रहा था। महलकलां के लोग हमदर्दी वश उसको चाय पानी दे रहे थे। तुरंत एसएसपी गोयल ने पुलिस को ड्यूटी सौंप उक्त व्यक्ति को अपने पास बुलाया। उसे मानसिक तौर पर स्वस्थ करने के मद्देनजर उसकी हजामत (सिर व दाढ़ी के बालों की कटिंग) करवाई।  स्नान करवा उसेड़े पहनने को दिए और उसके रहने की व्यवस्था की गई है। बातचीत में पता लगा है कि वह बिहार या यूपी प्रदेश का रहने वाला है।

इंसानियत की सेवा परमो धर्म: एसएसपी
एसएसपी संदीप गोयल कहते हैं कि इंसानियत की सेवा करना हर व्यक्ति का नैतिक व सामाजिक फर्ज है। उन्हें पुलिस विभाग में सेवा करने का मौका मिला है। महलकलां से मिले व्यक्ति के पारिवारिक सदस्यों का पता लगाने खोजबीन शुरू कर दी है। जल्द ही उक्त व्यक्ति को उसके पारिवारिक सदस्यों के हवाले कर दिया जाएगा।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular