Homeराज्यपंजाबपठानकोट : पीठ परिषद आदित्यवाहनी और अनंद वाहिनी ने मनाया अध्यापक दिवस

पठानकोट : पीठ परिषद आदित्यवाहनी और अनंद वाहिनी ने मनाया अध्यापक दिवस

राज चौधरी, पठानकोट:
पीठ परिषद, आदित्य वाहिनी, आनंद वाहिनी खानपुर-मनवाल द्वारा teachers day श्री ब्राह्मण सभा शाहपुर चौक Pathankot में मनाया गया और weekly conference का आयोजन भी किया गया। इसमें जिला Pathankot के अध्यापकों को सम्मानित किया गया। इस दौरान मनवाल के Government Senior Secondary School प्रिंसिपल पूनम बाला, फिरोजपुर कलां से अंग्रेजी लेक्चरर बलवीर सिंह, बधानी स्कूल की हिंदी अध्यापिका अनिता चौधरी, गंदलालाहड़ी की विज्ञान अध्यापिका ममता आनंद, लमीनी स्कूल से कंप्यूटर अध्यापिका सुकृति सोनी, धीरा स्कूल से सामाजिक शिक्षा की अध्यापिका प्रवेश सैनी, सुजानपुर स्कूल से विज्ञान की अध्यापिका मंजू चड्ढा, रानीपुर स्कूल से पीटीआई अश्विनी कुमार, केएफसी स्कूल से कॉमर्स लेक्चरर सतीश शर्मा और सिऊंटी स्कूल से सीएचटी राजीव सैनी को सम्मानित किया गया। जिन्होंने शिक्षा देने के साथ-साथ बच्चों को अच्छे संस्कार देने का भी प्रयास किया।

भंगूड़ी स्कूल के सामान्य वर्ग के लड़कों को वर्दियां दी गई। क्योंकि, पंजाब सरकार 20 वर्ष से सामान्य वर्ग के बच्चों को छोड़कर बाकी सभी बच्चों को प्रतिवर्ष वर्दियां देती आ रही है। बाल वाहिनी ने सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किया। युवा आदित्य वाहिनी के जिला अध्यक्ष श्री राघव व्यास ने  वर्तमान शिक्षा नीति की कमियों पर विचार रखें। मुख्य अतिथि सुषमा गुप्ता प्रिंसिपल एसडी बीएड कॉलेज ने संगठन की गतिविधियों और अभियान को सुनकर आश्चर्य व्यक्त किया और बहुमूल्य विचार रखे। मुख्य वक्ता के रूप में आदित्य वाहिनी के प्रदेश अध्यक्ष  अजय शर्मा ने कहा कि country’s civilization और Culture की रक्षा केवल सनातन धर्म और संस्कृति के अनुरूप शासन तंत्र से ही संभव है। वर्तमान शिक्षा नीति अध्यात्म विहीन है।

जिसके कारण समाज सुशीलता, सुंदरता और शौर्य जैसे गुणों से विहीन हो चुका है। इसीलिए पूज्यपाद गोवर्धन मठ पुरी पीठाधीश्वर श्रीमद Jagatguru Shankaracharya भगवान राष्ट्र को भारत के रूप में स्थापित करने, अखंड भारत का निर्माण और भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने के लिए विश्वव्यापी अभियान चला रहे हैं। उनके श्रीमुख से स्वाभाविक रूप से निकल गया है कि भारत साढ़े 3 वर्ष में हिंदू राष्ट्र होगा। इसलिए यह सत्य होकर ही रहेगा और सत्य होना ही है। पूरी सभा ने करतल ध्वनि से इस घोषणा का स्वागत किया। वहीं, आनंद वाहिनी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सुधा शर्मा ने कहा कि आधुनिक शिक्षा प्रणाली ने आने वाली पीढ़ियों को बाजार का सौदा बनाकर रख दिया है। शिक्षा का उद्देश्य मात्र पढ़े लिखों की फौज इकट्ठा करना नहीं है। बल्कि, बच्चों को सुबुद्ध और स्वाबलंबी बनाने के साथ-साथ अच्छा इंसान बनाना भी है।

उन्होंने कहा कि शिक्षा सिर्फ ज्ञान देने वाली ही नहीं बल्कि अपने संस्कारों के साथ जोड़ने वाली भी होनी चाहिए। शिक्षा प्रणाली राजनीति पर आधारित नहीं होनी चाहिए। अपितु, राष्ट्रीय नीति पर आधारित होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि Jagatguru Shankaracharya महाभाग का कहना है कि अगर किसी राष्ट्र को दिशाहीन बनाना है तो उसकी शिक्षा प्रणाली को दिशाहीन कर दो। राष्ट्र स्वयं ही दिशाहीन हो जाएगा। इसीलिए घर में माता-पिता व स्कूल, कॉलेजों और विद्यालयों में teacher class का यह दायित्व बनता है कि बच्चों को अच्छे संस्कार दें और भारतीय सभ्यता संस्कृति के बारे में ज्ञान प्रदान करें।

उनका यह भी कहना है कि बच्चों को अच्छे संस्कार ना देने वाले माता-पिता हत्यारे सिद्ध होते हैं। वहीं मुख्य अतिथि के रूप में Principal Sushma Gupta, Deputy Mayor Ajay Kumar और एफएंडसीसी सदस्य राकेश बबली उपस्थित रहे। Pathankot Deputy Mayor Ajay Kumar ने कहा कि आगे जब भी संस्था उन्हें बुलाएगी मैं अवश्य आऊंगा। सिद्धार्थ चंद्र शर्मा शाखा अध्यक्ष ने सभी का Welcome किया और महामंत्री रमेश शर्मा ने शाखा के प्रकल्पों की जानकारी दी। रमन रामपाल जिला अध्यक्ष ने धन्यवाद प्रस्ताव पेश किया।

 

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments