Homeराज्यपंजाबपंजाब सरकार के सामने रेत संकट, खुद खनन के काम की योजना...

पंजाब सरकार के सामने रेत संकट, खुद खनन के काम की योजना Mining Plan in Punjab

आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद राज्य में रेत के दाम तीन गुना बढ़ गए हैं। अब सरकार ने रेत की कीमतों पर लगाम लगाने के लिए खनन का काम अपने हाथ लेने का मन बनाया है।

Mining Plan in Punjab

आज समाज डिजिटल, चंडीगढ़:
Mining Plan in Punjab : रेत की दिन-ब-दिन बढ़ रही कीमतें पंजाब सरकार के लिए मुसीबत बनती जा रही है। आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद राज्य में रेत के दाम तीन गुना बढ़ गए हैं। इससे कंस्ट्रक्शन सेक्टर के लिए मुसीबत खड़ी हो गई है। अब सरकार ने रेत की कीमतों पर लगाम लगाने के लिए खनन का काम अपने हाथ लेने का मन बनाया है।

Read Also : बंदिश खत्म! सुबह से रात्रि इतने बजे तक शिमला में खुलेंगी दुकानें

दो ग्रुपों के ठेके खत्म किए थे

पंजाब सरकार ने फरवरी में दो खनन ग्रुपों के ठेके खत्म कर दिए थे। 90 करोड़ के अनुबंध शुल्क का भुगतान करने में विफल दो अन्य गु्रपों के ठेके निलंबित कर दिए थे। इसके बाद रेत की कीमतें बढ़ गई थीं। 1000 क्यूबिक फीट रेत की ट्रॉली 14 -18 हजार रुपये में मिल जाती थी, जो अब 40 हजार रुपये पहुंच गई है। पंजाब में कुल सात में से चार खनन के ठेके बंद हैं। केवल होशियारपुर, लुधियाना और पठानकोट क्लस्टर ही शुरू हैं। मोहाली क्लस्टर भी राज्य सरकार की जांच के दायरे में है।

फिरोजपुर क्लस्टर का अधिग्रहण करेगी सरकार!

एक रिपोर्ट के अनुसार सरकार जल्द ही फिरोजपुर क्लस्टर का अधिग्रहण कर सकती है। इसके तहत मोगा, फिरोजपुर, मुक्तसर, फाजिल्का, बठिंडा और फरीदकोट जिलों की रेत खदानें आती हैं। खनन मंत्री हरजोत सिंह बैंस ने बताया कि अमृतसर और फिरोजपुर खनन क्लस्टर के अनुबंध को समाप्त कर दिया है। शुल्क का भुगतान न करने पर रूपनगर और मोहाली क्लस्टर के संचालन को भी निलंबित कर दिया है। बैंस ने कहा कि हम निलंबित समूहों के अनुबंधों की समीक्षा कर रहे हैं। बाकी दो ठेके जो खत्म किए हैं, सरकार की योजना उन्हें खुद संचालित करने की है।

चुनाव में मुख्य मुद्दा रहा था खनन

पंजाब के विधानसभा चुनावों में भी रेत खनन एक प्रमुख मुद्दा रहा था। राजनीतिक दलों ने एक-दूसरे पर अवैध खनन कारोबार चलाने और सरकारी खजाने को नुकसान पहुंचाने के खूब आरोप लगाए थे। हाल ही में पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी से प्रवर्तन निदेशालय ने अवैध रेत खनन मामले में पांच घंटे तक पूछताछ की थी। चन्नी पर अवैध रेत खनन और अधिकारियों की ट्रांसफर-पोस्टिंग से करोड़ों की कमाई करने का आरोप है। अवैध खनन मामले में चन्नी के भतीजे भूपिंदर सिंह हनी को फरवरी में गिरफ्तार किया जा चुका है। हनी और उसके सहयोगियों पर फर्जी कंपनियां बनाकर मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप है।

Mining Plan in Punjab
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular