Homeराज्यपंजाबमान सरकार के खिलाफ व्यापारियों में गुस्सा

मान सरकार के खिलाफ व्यापारियों में गुस्सा

दिनेश मौदगिल, Ludhiana News:
पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल लुधियाना ईकाई की ओर से भगवंत मान सरकार के विरुद्ध राज्य महासचिव सुनील मेहरा, जिला चेयरमैन पवन लहर और सचिव राजेश गुप्ता की अध्यक्षता में रोष प्रदर्शन किया गया।

बोले- बजट में व्यापारियों को कोई छूट नहीं

इस दौरान राज्य महासचिव सुनील मेहरा ने कहा कि मार्केट में मंदी के हालात हैं। पंजाब में गैंगवार होने की वजह से बाहर से कोई भी पर व्यापारी माल खरीदने नहीं आ रहा। पंजाब में बेरोजगारी बढ़ रही है। वहीं, दूसरी ओर भगवंत मान सरकार ने अपने पहले बजट में व्यापारियों को कोई राहत नहीं दी, बल्कि व्यापारियों को बिजली के एडवांस बिल भेजकर एक तोहफा दिया है।

जिसने व्यापारियों की कमर तोड़ कर रख दी है। मेहरा ने कहा कि सत्ता में आने से पहले भगवंत मान सरकार ने व्यापारियों से बहुत वायदे किए थे परंतु सत्ता हासिल करने के बाद शायद वह उन वायदों को भूल गई। जिससे साबित होता है कि भगवंत मान सरकार झूठ का पुलिंदा है।

इंडस्ट्री को सब्सिडी, लेकिन व्यापारियों को नहीं

उन्होंने कहा कि इंडस्ट्री को तो सब्सिडी दी जा रही है, परंतु व्यापारियों को कोई सब्सिडी नहीं दी जा रही। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने पेट्रोल व डीजल पर एक्साइज ड्यूटी कम कर आम जनता को राहत दी, परंतु भगवंत मान सरकार ने बजट में डीजल और पेट्रोल पर वैट कम करने की बजाए शराब को सस्ती कर दिया है। इससे साबित होता है कि भगवंत मान सरकार सिर्फ कहने के लिए आम आदमी पार्टी की सरकार है। आम जनता की उससे कोई फिक्र नहीं है। अगर उसे जनता की फिक्र होती तो पेट्रोल और डीजल पर वेट कम करती, न कि शराब सस्ती करती।

वादे पूरे नहीं कर रही सरकार: लहर

जिला चेयरमैन पवन लहर ने कहा कि भगवंत मान सरकार ने सत्ता में आने से पहले व्यापारियों से वायदा किया था कि वो कांग्रेस सरकार द्वारा लगाए प्रोफेशनल टैक्स को खत्म कर व्यापारियों को राहत प्रदान करेगी। परंतु बजट में प्रोफेशनल टैक्स को खत्म करने की भगवंत मान सरकार द्वारा कोई टिप्पणी नहीं की गई। इससे साफ जाहिर है कि भगवंत मान सरकार की नियत में खोट है।

उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने व्यापारियों से किए आपने वायदे पूरे नहीं किए तो व्यापारी सड़कों पर धरना प्रदर्शन करने को मजबूर होंगे। सचिव राजेश गुप्ता ने कहा कि भगवंत मान सरकार से व्यापारियों को काफी उम्मीदें थी, परंतु उनके पहले बजट में ही यहां पर व्यापारियों को निराश किया। वही पंजाब की जनता को भी इस बजट से निराशा ही हुई।

व्यापारियों से सुनी जाएं उनकी समस्याएं

भगवंत मान सरकार दिल्ली मॉडल के हिसाब से पंजाब को चलाना चाहती है जबकि दिल्ली मॉडल बिल्कुल फेल साबित हुआ है। अगर भगवंत मान सरकार व्यापारियों की हितैषी है तो उसे व्यापारियों से मीटिंग कर उनकी समस्यायों को सुने और उसका समाधान करे। भगवंत मान सरकार के पहले बजट ने ही ये साबित कर दिया कि उसकी नीतियां भी व्यापार विरोधी है।इस अवसर पर ओम प्रकाश सिंगला, सुदर्शन नारंग, ललित जैन, दिलीप ग्रोवर, विनोद जैन, नरेंद्र चोपड़ा, नीतीश बजाज, राजीव गोयल और पुरषोत्तम उपस्थित रहे।

ये भी पढ़ें : कार्तिकेय शर्मा की जीत को लेकर समस्त ब्राह्मण समाज के लोगों ने मुख्यमंत्री का किया धन्यवाद

ये भी पढ़ें : खुल गया प्रगति मैदान सुरंग, पीएम मोदी ने किया टनल और अंडरपास का उद्घाटन

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular