Homeराज्यपंजाबपंजाब सरकार द्वारा नशीली दवाओं की रोकथाम, उल्लंघन पर होगी कड़ी कार्रवाई...

पंजाब सरकार द्वारा नशीली दवाओं की रोकथाम, उल्लंघन पर होगी कड़ी कार्रवाई : डॉ. देविंदर ढांडा

जगदीश, नवांशहर:

  • सिविल सर्जन ने निजी नशामुक्ति केंद्रों को दी चेतावनी
  • उप चिकित्सा आयुक्त को निजी नशामुक्ति संस्थानों पर सख्ती से नजर रखने के आदेश
  • नशा करने वालों की काउंसलिंग गंभीरता से की जाए

नशा मुक्त भारत अभियान के तहत डॉ. सिविल सर्जन। दविन्दर ढांडा की अध्यक्षता में सिविल सर्जन शहीद भगत सिंह नगर के कार्यालय में आयोजित विशेष बैठक में जिले के निजी नशा मुक्ति केन्द्रों के चिकित्सा कर्मियों एवं परामर्शदाताओं के कामकाज की समीक्षा की गयी इस अवसर पर सिविल सर्जन डाॅ. उप चिकित्सा आयुक्त डॉ. देविंदर ढांडा ने नशा मुक्त भारत अभियान के तहत निजी नशा मुक्ति केंद्रों के प्रदर्शन की समीक्षा की. हरप्रीत सिंह को इन केंद्रों पर निगरानी रखने का आदेश दिया गया था।

उपचार और देखभाल के लिए बनाई गई एसओपी

डॉक्टर ढांडा ने निजी नशामुक्ति केंद्रों के प्रतिनिधियों को नशीले पदार्थों की रोकथाम, उपचार और देखभाल के लिए सरकार द्वारा बनाई गई मानक संचालन प्रक्रियाओं (एसओपी) का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने के लिए आगाह किया। अगर कोई नशा करने वाला केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशों का पालन नहीं करता है तो उसके खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी। किसी भी केंद्र को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि नशामुक्ति केंद्रों पर आने वाले नशा करने वालों को नशामुक्ति केंद्र द्वारा दी जाने वाली दवा के आदी होने की बजाय उन्हें छुड़ाने का प्रयास किया जाए।

सिविल सर्जन ने कहा कि सरकार के निर्देशानुसार नशा करने वालों को नशीले पदार्थों की आदत से दूर करने के लिए दवा दी जानी चाहिए, जिसकी मात्रा विशेषज्ञों की सलाह से कम की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए कि गैर सरकारी नशामुक्ति केंद्रों पर केवल पंजीकृत नशा करने वालों को ही दवाएं उपलब्ध हों और वे किसी भी परिस्थिति में बाहर न जाएं।

नशा करने वालों की गंभीरता से काउंसलिंग

इस दौरान सिविल सर्जन डॉ. देविंदर ढांडा ने जिले के सरकारी ओएटी केंद्रों में नशा करने वालों को दी जा रही स्वास्थ्य सुविधाओं के संबंध में पार्षदों के कार्यों की प्रगति की समीक्षा की। इस अवसर पर सिविल सर्जन डाॅ. देविंदर ढांडा ने पार्षदों को निर्देश जारी करते हुए कहा कि नशा करने वालों की गंभीरता से काउंसलिंग की जाए। नशा करने वालों को नशे के दलदल से बाहर निकालने में स्वास्थ्य विभाग के विशेषज्ञ डॉक्टरों के साथ-साथ ओटी काउंसलर की भी अहम भूमिका होती है। जिस प्रकार किसी शारीरिक रोग के लिए रोगी को औषधि की आवश्यकता होती है, उसी प्रकार नशा करने वालों के लिए परामर्श बहुत आवश्यक है। नशा करने वालों को परामर्श देकर उन्हें धीरे-धीरे खुराक कम करने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए ताकि नशीली दवाओं में उनकी रुचि को समाप्त किया जा सके। उन्होंने आगे कहा कि नशा करने वालों की अनुवर्ती प्रक्रिया में सुधार किया जाना चाहिए।

इस बैठक में उप चिकित्सा आयुक्त डॉ. हरप्रीत सिंह, मनोचिकित्सक। राजन शास्त्री, चिकित्सा अधिकारी डॉ गगन, जिला समूह शिक्षा एवं सूचना अधिकारी जगत राम, प्रखंड विस्तार शिक्षक विकास विर्दी, सांख्यिकी सहायक नीरज कुमार और गुरप्रीत सिंह उपस्थित थे।

ये भी पढ़ें : सभी मिल कर हरियाणा के गुरुद्वारों का विकास करेंगे : दादूवाल

ये भी पढ़ें : बारिश में निगमायुक्त अजय सिंह तोमर ने खुद संभाली कमान

Connect With Us: Twitter Facebook 
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular