Homeराज्यपंजाबबरनाला: कनाडा निवासी बेअंत कौर के गांव पहुंचा नकली एंबेसी अधिकारी, पकड़ा

बरनाला: कनाडा निवासी बेअंत कौर के गांव पहुंचा नकली एंबेसी अधिकारी, पकड़ा

अखिलेश बंसल, बरनाला:
पति को धोखे में रखकर कनाडा रह रही खुड्डीकलां निवासी बेअंत कौर के घर कनाडा एंबेसी का नकली अधिकारी पहुंचे एक युवक को बरनाला पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। इसकी पहचान नवदीप सिंह निवासी जालंधर के तौर पर हुई है।
नकली अधिकारी बने नौजवान ने बेअंत कौर के परिवार से बेअंत कौर को डिपोर्ट होने से बचाने, परिवार के खिलाफ पर्चा दर्ज होने से बचाने तथा मामला हल करने को दो लाख रुपए की मांग की थी। शंका पड?े पर परिवार ने युवक को पंचायत की हाजिरी में पुलिस के सपुर्द कर दिया है, पुलिस ने नकली अधिकारी बने युवक के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर पूछताछ शुरू कर दी है।

बुधवार रात आठ बजे दाखिल हुआ था यह:
धनौला निवासी लवप्रीत सिंह को आत्महत्या करने पर विवश करने की आरोपित बेअंत कौर के पिता जगदेव सिंह ने पुलिस को बताया है कि रात आठ बजे उनके घर दो नौजवान गाड़ी पर पहुंचे थे। जिनमें से एक नौजवान ने खुद की पहचान कनाडा अंबैसी के अधिकारी के तौर पर दी। उसने परिवार को कहा कि वह कैनेडा से आया हैं और उनकी लडकी बेअंत कौर को कनाडा सरकार आगामी आठ दिनों के अंदर डिपोरट करने वाली है। इसके साथ ही उनकी लडकी व परिवार के खिलाफ विभिन्न धाराओं के अंतर्गत पर्चा भी दर्ज होगा। बेअंत कौर के पिता ने कहा कि वह अपनी लडकी के मामले में पहले ही परेशान हैं। अब ऐसे लोग आकर उन्हें तंग परेशान करने लगे हैं। बेअंत कौर के पिता ने पुलिस से सुरक्षा की मांग की है।

ठगी होने की आशंका:
जैसे ही युवक ने बेअंत कौर के परिजनों से पूरे केस का हल करने को 2 लाख रुपए की मांग की, परिवार को शंका पैदा हो गई। परिवार ने दूसरे कमरे में जाकर पंचायत और पुलिस को खबर की। मौके पर पहुंचे गांव खुड्डीकलां के पंचायत सदस्य अवतार सिंह और पुलिस अधिकारी बलदेव सिंह ने युवक से पहचान पत्र की मांग की तो नौजवान अपना कोई आईडी प्रमाण नहीं दे सका। जिसके बाद पुलिस उसे काबू कर अपने ले गई।

पुलिस ने की पुष्टि:
बरनाला पुलिस के अधिकारी बलदेव सिंह ने बताया कि बेअंत कौर लडकी जो कैनेडा में है, जिसका परिवार खुड्डीकलां गांव रह रहा है। जिनके घर नवदीप सिंह नामक एक नौजवान कार चालक के साथ जालंधर से आया था। जिसने खुद के बारे में बेअंत कौर के परिवार को कैनेडा से इमीग्रेशन अधिकारी बताया था। उसने पंचायत के सामने स्वीकार किया है कि उसने लडकी व उसके परिवार के विरुद्ध पर्चे दर्ज होने, लडकी कैनेडा से डिपोरट होने और उन्हें बचाने के एवज में 2 लाख रुपए की मांग की थी। जिसके आधार पर युवक को काबू करके उस विरुद्ध मामला दर्ज कर लिया है।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular