Homeराज्यहिमाचल प्रदेशमुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना में जोड़े जाएंगे कृषि और पशुपालन से जुड़े कार्य...

मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना में जोड़े जाएंगे कृषि और पशुपालन से जुड़े कार्य : बिक्रम सिंह

आज समाज डिजिटल, शिमला:
उद्योग मंत्री बिक्रम ठाकुर ने कहा है कि हिमाचल प्रदेश सरकार कृषि और पशुपालन से जुड़े कार्यों को भी मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना के साथ जोड़ेगी। इसको लेकर उदयोग विभाग की कृषि और पशुपालन विभाग के अधिकारियों के साथ बात चल रही है। इसकी रिपोर्ट 10 दिन के भीतर तैयार कर दी जाएगी। उन्होंने कहा कि रिपोर्ट का अध्ययन करने के बाद इस पर आगे की कार्रवाई शुरू की जाएगी। वे बुधवार को विधानसभा में नियम-130 के तहत विक्रम जरयाल द्वारा मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना से रोजगार सृजन तथा आर्थिक उन्नति पर लाए गए प्रस्ताव पर हुई चर्चा के जवाब में बोल रहे थे।
उद्योग मंत्री ने कहा कि प्रदेश में लोगों को रोजगार देने के लिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने यह महत्वाकांक्षी योजना शुरू की है। उन्होंने कहा कि यह योजना काफी सफल योजना है। इसमें 85 ऐसे काम हंै जिनके लिए सरकार लोगों को सब्सिडी पर एक करोड़ रुपए तक की लोन की सुविधा का लाभ दे रही है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को भी इस योजना का लाभ मिल सके, इसके लिए वह और कृषि मंत्री वीरेंद्र कंवर इसकी संभावनाओं का पता लगा रहे हैं। उन्होंने कहा कि पहले इस स्कीम में लोन देने की लिमिट 60 लाख थी, जो बढ़ाकर एक करोड़ रुपए कर दी है।
विक्रम सिंह ने कहा कि इस स्कीम का लाभ 45 साल तक की आयु वाले लोगों को दिया जा रहा है। इस योजना में अगर कोई व्यक्ति उद्योग लगाता है, तो उसे दो ट्रक खरीदने की भी सुविधा दी जा रही है। उन्होंने कहा कि सी श्रेणी के उद्योग लगाने के लिए जमीन की कोई कमी नहीं है, संबंधित जिलों के महाप्रबंधकों को जमीन मुहैया करवाना सुनिश्चित करने को कहा गया है। उन्होंने कहा कि इस स्कीम के तहत अभी तक 4072 मामले मंजूर किए गए हैं। इनसे 656.50 करोड़ का निवेश प्रस्तावित है और और 10980 लोगों को रोजगार प्रदान किया जाएगा।
उद्योग मंत्री ने कहा कि इस योजना में अभी तक 2192 यूनिट स्थापित किए जा चुके हैं। इसमें 378 करोड़ से अधिक का निवेश किया गया है। उन्होंने कहा कि उद्योग लगाने के लिए लोगों को 122.51 करोड़ का लोन दिया जा चुका है। इससे प्रदेश में 6485 लोगों को रोजगार प्रदान किया गया है। उन्होंने बताया कि इस साल प्रदेश में 2000 यूनिट स्थापित करने का लक्ष्य तय किया गया है। इससे प्रदेश में 5000 लोगों को रोजगार दिया जाएगा। इससे रोजगार सृजन और आर्थिक उन्नति पर बल दिया जा सकेगा। इस चर्चा में विक्रम जरयाल, विनोद कुमार, अरुण कुमार व होशियार सिंह ने भाग लिया।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments