Homeराज्यहिमाचल प्रदेशकिन्नौर के निगुलसेरी में तीन और शव मिले

किन्नौर के निगुलसेरी में तीन और शव मिले

-अब तक 28 शव निकाले गए
आज समाज डिजिटल, रिकांगपिओ:
किन्नौर जिले के निगुलसेरी में 8 दिन पूर्व हुए हादसे में पत्थरों व मलबे में दबे सभी शवों को राहत एवं बचाव दल ने खोज निकाला है। राहत व बचाव दल ने तीन और शवों को ढूंढ निकाला है। इस प्रकार इस हादसे में मृतकों की संख्या 28 हो गई है। पुलिस व जिला प्रशासन को सौंपी गई गुमशुदा सूची के अनुसार 28 लोग लापता बताए गए थे, जिनमें से सभी के शवों को निकाल दिया गया है। उपायुक्त किन्नौर आबिद हुसैन सादिक ने घटनास्थल का दौरा कर बताया कि यह सर्च आपरेशन 2 दिन और चलेगा। सादिक ने कहा कि यह अपनी तरह का सबसे लंबा तथा कठिन सर्च आपरेशन था, जिसमें एनडीआरएफ, आईटीबीपी, सेना, पुलिस व होमगार्ड के जवानों ने भाग लिया। उन्होंने कहा कि कठिन परिस्थितियों के बावजूद राहत एवं बचाव दल के सदस्यों ने अपनी जान जोखिम में डालकर इस सर्च आपरेशन का कार्य पूरा किया। सर्च आपरेशन के दौरान शवों को खोज निकालने के लिए बड़ी मशीन का भी प्रयोग किया गया, जिसे बढ़ी कठिनाई के बावजूद घटनास्थल तक पहुंचाया गया तथा इसकी सहायता से बड़े-बड़े पत्थरों को हटाकर शवों को ढूंढ निकाला गया। यदि इस मशीन को घटनास्थल पर न पहुंचाया होता तो इतने बड़े पत्थरों को हटाना राहत एवं बचाव दल के लिए मुश्किल कार्य था। डीसी ने कहा कि इस आपरेशन के दौरान जवान अपनी जान जोखिम में डाल कर रस्से के सहारे घटनास्थल पर पहुंचे तथा शवों को भी रस्से में बांधकर ही बाहर निकाला। यही नहीं, घटनास्थल पर मिट्टी में दबे शवों को खोज निकालने के लिए फायर टैंडर का भी उपयोग किया गया तथा प्रेशर से पानी डालकर मिट्टी को साफ कर शवों को निकाला गया। उपायुक्त ने एनडीआरएफ, सेना, पुलिस, आईटीबीपी व होमगार्ड द्वारा सर्च आपरेशन में दी गई सेवाओं की सराहना करते हुए कहा कि उनके कठिन परीश्रम के कारण ही यह सर्च आपरेशन सफल हो सका है तथा हादसे में सभी गुमशुदा व्यक्तियों के शवों को ढूंढ निकाला जा सका है। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन ने निर्णय लिया है कि आगामी 2 दिन और सर्च आपरेशन चलाया जाएगा, ताकि यदि कोई ऐसा व्यक्ति जिसकी गुमशुदगी की सूचना पुलिस व प्रशासन के पास नहीं है, उसे भी ढूंढ निकाला जा सके। उपायुक्त ने सर्च आपरेशन के दौरान एसजेवीएनएल नाथपा-झाखड़ी जल विद्युत परियोजना द्वारा राहत व बचाव कार्य में जुटे जवानों को खाना, पानी व रोगी वाहन, फायर टैंडर उपलब्ध करवाया गया, जबकि जेएसडब्लयू जल विद्युत परियोजना भावानगर स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में हादसे में घायलों व गुमशुदा व्यक्तियों के परिजनों के लिए भोजन का प्रबंध किया गया। वहीं, शोरंग जल विद्युत परियोजना प्राइवेट लिमेटिड द्वारा भी सर्च आपरेशन के दौरान राहत व बचाव कार्य में लगे जवानों को सहायता व स्थानीय ग्राम पंचायत चोरा व तरांडा के पदाधिकारियों द्वारा भी राहत व बचाव कार्य में लगे जवानों को फल वितरित करने के लिए आभार व्यक्त किया। सर्च आपरेशन के दौरान उपमंडलाधिकारी निचार मनमोहन सिंह व पुलिस उपाध्यक्ष राजू भी मौके पर उपस्थित रहे।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments