Homeराज्यहरियाणामहिलाएं बोली हम में है दम, नहीं है किसी से कम

महिलाएं बोली हम में है दम, नहीं है किसी से कम

सुमन, तोशाम :
श्री श्याम संकीर्तन मंडल तोशाम द्वारा रविवार को तोशाम में महिला रक्तदान शिविर लगाकर एक नई पहल की शुरूआत की गई। नारी शक्ति के अदम्य साहस, सम्मान, सुरक्षा, सहभागिता और सशक्तिकरण के लिए समर्पित इस कार्यक्रम में महिला रक्तदान के अलावा कोरोना काल सहित विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ठ कार्य करने वाली महिलाओं को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में बतौर अतिथि भी महिलाएं ही रही। आयोजन में महिला एवं बाल विकास विभाग का भी योगदान रहा। मंडल के प्रधान अनिल बागनवालिया ने सभी अतिथि महिलाओं व अन्य महिलाओं का स्वागत किया। मंच का संचालन एसोसिएट प्रोफेसर नेहा चौहान व सुपरवाइजर कुसुम ने किया। सभी अतिथि महिलाओं को पगड़ी पहनाकर सम्मानित किया गया।
शिविर में महिलाओं ने दिखाई रूचि
कोविड काल में जब पुरुषों ने रक्तदान करने में कोई कमी नहीं छोड़ी तो महिला शक्ति क्यों पीछे रहें। इस जज्बे के साथ शिविर में महिलाओं ने बढ़-चढ़कर भाग लिया। हालांकि विभिन्न कारणों के चलते ब्लड लेने आई टीम ने दर्जनों महिलाओं का ब्लड नहीं लिया बावजूद इसके 20 यूनिट ब्लड एकत्रित किया गया। लेडी महिला डाक्टर डा. आशा, महिला सुपरवाइजर कुसुम व पंकज ने भी रक्तदान किया।
डिप्टी सिविल सर्जन डा. अनिता कात्याल ने इस नई पहल की प्रशंसा करते हुए कहा कि महिला रक्तदाताओं ने आत्मनिर्भरता एवं निष्काम सेवा के उद्देश्य से रक्तदान कर अपनी भूमिका अदा की है। इससे समाज मे बड़ा सन्देश जाएगा और प्रेरणा मिलेगी। उन्होंने कहा कि महिला सशक्तिकरण की दिशा में भी यह कार्यक्रम प्रेरणादायक है। उन्होंने कहा कि नारी को कभी दहेज के नाम पर तो कभी कन्या भ्रूण हत्या द्वारा जान से हाथ धोना पड़ता था। अब धीरे-धीरे समय बदल रहा है और नारी सशक्तिकरण की ओर अग्रसर हो रही है। उन्होंने कहा कि लिंगानुपात के बिगड़ते स्वरूप पर समाज का ध्यान आकर्षित करने की जरूरत है।
मुख्य अतिथि सुशीला तंवर, ललिता तोशामिया, सीडीपीओ दर्शना, मीना महाराज, डा. पूजा, डा. मोनिका, डा. आशा, एसोसिएट प्रोफेसर नेहा चौहान ने कहा कि वर्तमान युग नारी का युग है और नारी अपने परिश्रम, लगन, बौद्धिक बल व क्षमता के आधार पर पुृरुषों को मात दे रही है।
डा. आशा ने कहा कि एनीमिया की शिकार महिलाओं की संख्या में लगातार वृृद्धि हो रही है। पोषण की कमी, खासकर आयरन युक्त भोजन के अभाव की वजह से महिलाओं में एनीमिया की समस्या होती है। एनीमिया होने का सबसे प्रमुख कारण लौह तत्वों वाली चीजों का उचित मात्रा में सेवन न करना है। उन्होंने कहा कि खान-पान में लौहयुक्त भोजन का सेवन करना चाहिए।
मैं रक्तदान कर रही रही हूं, क्या आप भी रक्तदान करेंगी
उक्त सन्देश के साथ बनाए गए सेल्फी प्वाइंट पर महिला रक्तदाताओं ने खूब सेल्फी ली और अन्य महिलाओं व समाज को सन्देश दिया।
ब्लड ग्रूप व एचबी टेस्ट भी हुआ
कार्यक्रम में लालपैथ लैब की ओर से राजेश तंवर ने महिलाओं का निशुल्क ब्लड ग्रूप व एचबी टेस्ट किया।
ये हुए सम्मानित
आंगनवाड़ी वर्कर लक्ष्मी देवी, सुनीता, शारदा, लक्ष्मी देवी बादलवाला के अलावा बेटी हमारी बेटी स्कीम की प्रथम लाभार्थी मंजू देवी व असिस्टेंट कमांडेंट रवीना, स्वास्थ विभाग से आशा वर्कर सरोज, सुनीता, अनिता, पुष्पा, सुमन, मुकेश, बबली, नीता, मंजू, स्टाफ नर्स पिंकी व अनिता, एएनएम दयावंती व राजबाला और पुलिस विभाग से अनुराधा, किरण, सरला, मुकेश, रेखा व मुनेश को सम्मानित किया गया।
इस मौके पर कार्यक्रम के आयोजक श्री श्याम संकीर्तन मंडल से प्रधान अनिल बागनवालिया, महासचिव सुरेंद्र शर्मा, चेयरमैन सरपंच देवराज गोयल, वीरेंद्र संडवा, संरक्षक श्रवण मित्तल व राजेन्द्र पंसारी, उप-प्रधान महेंद्र चावला व जगदीप पंघाल, कोषाध्यक्ष अनिल गोयल, सचिव ज्योति विज, प्रेस सचिव संजय चावला, संजय चावला, राजेश तंवर, जानी, अंकुर जांगड़ा आदि बतौर व्यवस्था उपस्थित रहे।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments