HomeहरियाणाकरनालToday's Era Of Daughters आज का युग बेटियों का युग: कविता जैन

Today’s Era Of Daughters आज का युग बेटियों का युग: कविता जैन

प्रवीण वालिया, करनाल:
Today’s Era Of Daughters: महिला और बाल विकास मंत्री कविता जैन ने कहा कि आज का युग बेटियों का युग है। हर क्षेत्र में बेटियां बेटों से आगे बढ़ रही है। यह महिला सशक्तीकरण का भी युग है। आज महिलाएं किसी क्षेत्र में पुरुषों से पीछे नहीं हैं। वह आज सेवा श्री आश्रम में इंडियन मीडिया सेंटर और सेवा भारती की ओर से आयोजित महिला प्रतिभा सम्मान कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि बोल रही थी।

100 महिलाओं का सराहनीय कार्यों के लिए सम्मान Today’s Era Of Daughters

उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में सराहनीय कार्य करने वाली और उपलब्धियां हासिल करने वाली 100 से अधिक महिलाओं को शॉल, स्मृति चिह्न और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। इस मौके पर विशिष्ट अतिथि के रूप में मुख्यमंत्री के मीडिया कोर्डिनेटर रणदीप घनघस, महिला उद्योगपति श्वेता गुप्ता, किरण कपूर भी मौजूद थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता रामचरित मानस विद्यालय के संचालक संदीप गौतम ने की। समारोह में कविता जैन ने कहा कि आज जिन महिलाओं को सम्मानित किया है।

समाज सेवा में अनूठी मिसाल Today’s Era Of Daughters

उन्होंने अपने कार्यों से न केवल समाज में एक विशेष स्थान हासिल किया है अपितु समाज सेवा की एक अनूठी मिसाल पेश की है। कोरोना काल में हिम्मत न हारते हुए इन्होंने स्वयं सहायता समूह बनाकर कठिन संकट के समय में भी महिलाओं के लिए रोजगार और स्वरोजगार की नई राहें खोली हैं। मास्क बनाने से लेकर विभिन्न साधनों से स्वयं सहायता समूह की महिलाओं ने ऊंची उड़ान भरी है। महिला उद्योगपति श्वेता गुप्ता ने कहा की आज महिलाएं शिक्षा, स्वास्थ्य और अंतरिक्ष तक में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा रही हैं।

शिक्षा से हो रही महिलाएं सशक्त Today’s Era Of Daughters

शिक्षा के माध्यम से ही महिलाओं को सही अर्थों में सशक्त किया जा सकता है। इसके लिए माता-पिता का सहयोग मिलन भी जरूरी है। दोनों चीजें मिल जाएं तो बालिकाएं जीवन में बड़ी उपलब्धि हासिल कर सकती हैं। मुख्यमंत्री के मीडिया कोआॅर्डिनेटर रणदीप घनघस ने निरक्षर महिलाओं को साक्षर बनाने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि महिलाओं को हर क्षेत्र में समानता के अवसर दिए जाने चाहिए। समाजसेवी किरण कपूर ने कहा कि महिलाएं शक्ति का प्रतीक हैं, महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए अभी भी बहुत कुछ किया जाना बाकी है। उन्होंने महिलाओं के सशक्तीकरण और सुरक्षित माहौल उपलब्ध कराने के लिए कदम उठाने का आह्वान किया।

पुरुषों से कम नहीं रहीं महिलाएं Today’s Era Of Daughters

राष्ट्रसेविका समिति की संयोजक सीमा गुप्ता ने कहा कि महिलाएं आज पुरुषों से कम नहीं हैं। हर क्षेत्र में पुरुषों से आगे निकल रही हैं। कभी महिलाओं को निर्णय लेने का अधिकार भी नहीं था और उन्हें निर्णय लेने के लिए पुरुष की अनुमति लेनी पड़ती थी। लेकिन अब महिलाएं अपनी सफलता का डंका बजा रही है। उद्यमी सीमा गुलाटी ने कहा की महिलाओं ने विभिन्न क्षेत्रों में अपने सराहनीय योगदान से सबित किया है कि वे आज किसी भी क्षेत्र में पुरुषों से कम नहीं है।

महिलाओं को मंच दे रहा यह सेंटर Today’s Era Of Daughters

यह महिला सशक्तीकरण की दिशा में अहम कदम है। इंडियन मीडिया सेंटर ने महिलाओं को मंच प्रदान किया है, यह मुहिम सराहनीय है। नारी गरिमा की दिशा में चलाया गया। यह अभियान महिलाओं को उनका हक दिलाने में कारगर साबित होगा। अपने अध्यक्षीय संबोधन में संदीप गौतम ने कहा कि सभी लोग अपनी बेटियों को पंख दें। महिलाओं और बालिकाओं को कौशल विकास के माध्यम से आर्थिक रूप से स्वतंत्र बनाना बहुत जरूरी है।

इन महिलाओं को किया सम्मानित Today’s Era Of Daughters

शिक्षा के क्षेत्र से विद्यावती कादियान, डॉ नीरजा, अंजू भाटिया, संजोली बनर्जी, सुमिता अरोड़ा, उद्यम क्षेत्र से उमा अरोड़ा, सीमा गुलाटी, श्वेता गुप्ता, किरण कपूर, समाज सेवा से सोनिया चोपड़ा, सरिता भाटिया, अमीषा शर्मा, ज्योति, अनीता जोशी, मीनाक्षी शर्मा, स्वास्थ्य क्षेत्र डॉ नीरजा, अंजू भाटिया , यज्ञा खेड़ा, सुमन वैद, उषा पांचाल, स्वछता क्षेत्र से सीमा, रूबी, जय भगवान कश्यप मंजू, मांशु, गीता, कुसुम, पूजा, रेखा, निशा, आत्मनिर्भर क्षेत्र से रीना फुरलक, पूजा, प्रियंका, कोमल, मीरा, ममता शर्मा सहित अन्य क्षेत्रों से महिला प्रतिभाएँ शामिल रहे। इस अवसर फ्लावर वेंडर्स एसोसिएशन के प्रदेशाध्यक्ष जयभगवान कश्यप ने कहा कि वह बेटियों की शादी में फ्री पुष्प सज्जा करंगे।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments