Homeराज्यहरियाणाकैथल: हिसार एयरपोर्ट का नाम महाराजा अग्रसेन के नाम पर रखना सराहनीय

कैथल: हिसार एयरपोर्ट का नाम महाराजा अग्रसेन के नाम पर रखना सराहनीय

मनोज वर्मा, कैथल:
अग्रोहा विकास ट्रस्ट अग्रोहा धाम के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने कहा कि महाराजा अग्रसेन जी ने समाजवाद को बढ़ावा दिया और गरीबों को ऊंचा उठाने के लिए हर गरीब व जरूरतमंद व्यक्तियों को एक ईंट एक मुद्रा देने की परंपरा अपने राज्य में चालू की। ताकि गरीब व्यक्ति ईंट से रहने के लिए मकान व मुद्रा से व्यापार करके अपने परिवार का पालन पोषण कर सके। जिसे युगों युगों तक याद किया जाएगा।

महाराजा अग्रसेन जी की राजधानी हिसार जिले के अग्रोहा में थी। अग्रोहा में महाराजा अग्रसेन जी के नाम पर 30 एकड़ में भव्य अग्रोहा धाम व 277 एकड़ में मेडिकल कॉलेज बनाया हुआ है। इसके साथ साथ अनेकों सामाजिक व धार्मिक संस्था अग्रोहा में बनाई हुई है। राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने कहा कि अग्रोहा धाम में सभी देवी देवताओं के मंदिर बने हुए हैं और अग्रोहा धाम में रहने के लिए 250 कमरे बने हुए हैं। अब अग्रोहा धाम में 20 करोड रुपए की लागत से भव्य महाराजा अग्रसेन जी के नाम का म्यूजियमए आॅडिटोरियम व 3 5 करोड़ की लागत से ए सी धर्मशाला व करोड़ों रुपए की लागत से खाटू श्याम जी मंदिर के साथ साथ महाराजा अग्रसेन इंटरनेशनल स्कूल भी बनाया जा रहा है।
बजरंग गर्ग ने कहा कि समाज व सरकार के सहयोग से हमारी यही कोशिश है कि अग्रोहा धाम में आने जाने वाले श्रद्धालुओं को हर प्रकार की सुविधा मिल सके। जबकि महाराजा अग्रसेन मेडिकल कॉलेज में हर रोज हजारों मरीज हरियाणा पंजाब राजस्थान व अन्य राज्यों से ईलाज कराने आते हैं। सरकार ने हिसार एयरपोर्ट का नाम महाराजा अग्रसेन के नाम पर रखकर सराहनीय कार्य करते हुए महाराजा अग्रसेन जी को श्रद्धांजलि दी है। महाराजा अग्रसेन जी की जीवनी से युवाओं को प्रेरणा मिलेगी। राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने केंद्र व प्रदेश सरकार से मांग की है कि हिसार में एयरपोर्ट बनाने के साथ साथ अग्रोहा को रेलवे लाइन से जोड़ा जाए व अग्रोहा को पर्यटन स्थल बनाया जाए।

अग्रोहा धाम के साथ लगती दीवार पर जो महाराजा अग्रसेन जी का महल है, वह जो टिल्लें के रूप में बदल चुका है, उस टीले की खुदाई का काम जल्द शुरू किया जाए। ताकि टीले की खुदाई में जो भी सामग्री महाराजा अग्रसेन जी के नाम की मिलेगी, उसे अग्रोहा धाम के म्यूजियम में रख सकें। ताकि देश का हर नागरिक महाराजा अग्रसेन जी के आदेशों पर चल कर ज्यादा से ज्यादा राष्ट्र व जनता की सेवा में अपना पूरा योगदान दे सके। उन्होंने कहा कि अग्रोहा धाम देश का पांचवा धाम है, जिससे देशवासियों की भावना जुड़ी हुई है।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular