Homeहरियाणापानीपतएक हजार स्वयं सहायता समूह बनाने का लक्ष्य निर्धारित

एक हजार स्वयं सहायता समूह बनाने का लक्ष्य निर्धारित

  • स्वयं सहायता समूह बेहतर कार्य करके पेश करते उदाहरण:डॉ. अमरेंद्र कौर

 

आज समाज डिजिटल,  पानीपत:

 

पानीपत। लघु सचिवालय की द्वितीय तल पर स्थित जिला परिषद कार्यालय में दोपहर बाद हरियाणा राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन की समीक्षा बैठक में मिशन की मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. अमरेंद्र कौर ने कहा कि सरकार प्रदेश में स्वयं सहायता समूहों को अंत्योदय परिवार उत्थान योजना के तहत प्राथमिकता देने व समूहों को मार्केट के साथ जोडऩे की इच्छुक है। अब स्वयं सहायता समूह सरकारी इमारतों के नीचे अपने द्वारा तैयार किये उत्पादों की बिक्री कर सकते हैं। अकेले पानीपत से 1 हजार स्वयं सहायता समूहों को बनाने के उन्होंने निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि एक समूह के साथ 10 महिलाएं जुड़ती है अगर 1 हजार समूह बनते हैं तो निश्चित रूप से 10 हजार की संख्या होगी। इससे स्वदेशी उत्पादों को भी बढ़ावा मिलेगा।

 

स्वयं सहायता समूह बनाकर अतिरिक्त आय में भी बढ़ौतरी कर सकते हैं

डॉ. अमरेंद्र कौर ने बताया कि हम स्वयं सहायता समूह बनाकर ना केवल अपने हुनर का प्रदर्शन कर सकते हैं, बल्कि अपनी अतिरिक्त आय में भी बढ़ौतरी कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि पानीपत में स्वयं सहायता समूह बेहतर कार्य कर रहे हैं। उनके द्वारा निर्मित किए गए उत्पाद अच्छे हैं। डॉ. अमरेंद्र कौर ने बताया कि स्वयं सहायता समूहों को ज्यादा से ज्यादा बैंकों से ऋण दिया जा रहा हैँ ताकि वे अपने उत्पादों में और अधिक बढ़ौतरी कर सके।

 

स्वयं सहायता समूहों के द्वारा बनाए गए उत्पादों की आज मांग बढ़ी

बैठक में जिला परिषद के सीईओ विवेक चौधरी ने कहा कि स्वयं सहायता समूहों के द्वारा बनाए गए उत्पादों की आज मांग बढ़ी है। जिले में 1700 से ज्यादा स्वयं सहायता समूह संचालित किये जा रहे हैं। यहां स्वयं सहायता समूह बेहतर स्थिति में हैं व अच्छे उत्पाद बनाकर अपनी दिशा व दशा बदल रहे हैं। उन्होंने बताया कि पानीपत में स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी महिलाएं 50 से 60 हजार रूपए कमा रही है। सरकार भी स्वयं सहायता समूहों योजनाओं के तहत ऋण उपलब्ध करा रही है। उन्होंने बताया कि स्वयं सहायता समूह बनाने के 25 प्रतिशत लक्ष्य को पूरा किया जा चुका है।
   

महिलाओं की प्रशंसा की और इस कार्य को आगे बढ़ाने के लिए कहा

इस मौके पर सनौली कलां की स्वयं सहायता समूह की महिला रेखा ने समूह द्वारा तैयार किए बैग दिखाए। सुताना की स्वयं सहायता समूह की पिंकी ने समूह द्वारा तैयार किए मसाले के पैक्ट व गढ सरनाई की मानिका द्वारा की गई मिटटी की बौतलों के नमूने दिखाए तो कार्याकारी अधिकारी ने स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी इन महिलाओं की प्रशंसा की और इस कार्य को आगे बढ़ाने के लिए कहा। इस मौके पर स्टेट प्रौग्राम मैनेजर मनोज बंसल, मुंतजीर आलम के अलावा खंड जिले के सभी खंडों के प्रभारी मौजूद रहे।  

 

 

 

ये भी पढ़ें: प्रेम व भाईचारा समाज को जोड़ने का कार्य करता है: विजय जैन

ये भी पढ़ें: किसानों ने सचिवालय के बाहर अर्धनग्न होकर किया प्रदर्शन, सौंपा ज्ञापन

ये भी पढ़ें: निबंध प्रतियोगिता में बच्चों ने दिखाया उत्साह

 Connect With Us: Twitter Facebook

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular