Homeराज्यहरियाणाशहजादपुर: सरकार का मिला साथ, कोई बच्चा रहेगा नहीं अनाथ

शहजादपुर: सरकार का मिला साथ, कोई बच्चा रहेगा नहीं अनाथ

नवीन मित्तल, शहजादपुर:
मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के अंतर्गत खंड शहजादपुर के गांव गणेशपुर में निराश्रित हुए दो बच्चों को लाभ मिलना शुरू हो गया है। इस बारे में जानकारी देते हुए सीडीपीओं मीक्षा रंगा ने बताया कि बच्चों की देखभाल के लिए प्रति बच्चा 12 हजार रुपये सालाना की राशि कोविड-19 से निराश्रित हुए दोनों बच्चों के मामा व इन बच्चों के संयुक्त खाता में जमा करवा दी गई है। इन बच्चों की पढाई सुचारू रूप से चलाने के लिए सरकार द्वारा 2500 रुपए उनके मामा के खाते में भी जमा करवा दिये गये है। उन्होंने बताया कि जिला कार्यक्रम अधिकारी के कार्यालय से यह राशि जारी की गई है।
सीडीपीओ मीक्षा रंगा ने जानकारी देते हुए बताया कि 18 वर्ष तक प्रत्येक बच्चे को 2500 रुपये प्रति महीना, बिना परिवार के बच्चों की देखभाल करने वाले बाल देखभाल संस्थान को 1500 रुपये प्रतिमास 18 वर्ष तक की आयु तक दिया जाएगा। इसी प्रकार, 18 वर्ष तक पढ़ाई के दौरान अन्य खर्चों के लिए 12 हजार रुपये प्रतिवर्ष भी दिए जाएंगे। ये बच्चे गांव नग्गल (अम्बाला कैंट) में रहते थे। इनके पिता की मृत्यु पहले हो चुकी थी और इनकी माता की मृत्यु कोविड-19 की वजह से हुई। अब ये बच्चे (भाई-बहन) अपने मामा के घर गांव गणेशपुर (खण्ड़ शहजादपुर)  में रह रहे है। लडका 10 वीं कक्षा में तथा लडकी 6 वीं कक्षा में पढ़ते है।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments