Homeहरियाणारोहतकराज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने किया फैकल्टी डेवलपमेंट सेंटर का उद्घाटन

राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने किया फैकल्टी डेवलपमेंट सेंटर का उद्घाटन

आज समाज डिजिटल, रोहतक : 

राज्यपाल-कुलाधिपति बंडारू दत्तात्रेय ने इस अवसर पर पौधारोपण किया। राज्यपाल-कुलाधिपति ने एफडीसी भवन में विश्वविद्यालय के 76 शिक्षकों तथा शोधार्थियों को रिसर्च प्रोमोशन इंसेंटिव्स अवार्ड्स तथा बेस्ट थीसिस अवार्ड्स से सम्मानित किया।

राज्यपाल-कुलाधिपति बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि राष्ट्र की प्रगति में शोध एवं विकास की विशेष भूमिका है। आज जरूरत है कि शिक्षक वैश्विक स्तरीय ज्ञान-प्रणाली से जुड़े। इसके लिए उत्कृष्ट रिसर्च, इन्नोवेशन तथा टैक्नोलोजी डेवलपमेंट से शिक्षकों को जुडऩा होगा। उन्होंने कहा कि एमडीयू उच्च शिक्षा, शोध, सोशल आउटरिच, खेल तथा सांस्कृतिक-साहित्यिक क्षेत्र में बेहतरीन कार्य कर रहा है।

राज्यपाल ने कहा कि समाज में व्याप्त बुराईयों के खिलाफ भी एमडीयू के शिक्षकों को अलख जगानी होगी। नशाखोरी तथा महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामले में सामाजिक चेतना जागृत करने की बात राज्यपाल ने कही। उन्होंने आज के समारोह में पुरस्कृत होने वाले प्राध्यापकों-शोधार्थियों को हार्दिक बधाई दी तथा भविष्य के लिए शुभकामनाएं प्रदान की।

रोहतक लोकसभा सांसद अरविन्द शर्मा ने अपने संबोधन में शिक्षकों की समाज तथा राष्ट्र निर्माण में महत्त्वपूर्ण योगदान को रेखांकित किया। उन्होंने कहा कि महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय के एलुमनाई देश-विदेश में उच्च पदों पर आसीन है, तथा यूनिवर्सिटी का नाम रोशन कर रहे हैं। एमडीयू के कुलपति प्रो. राजबीर सिंह ने समारोह में विश्वविद्यालय की प्रगति यात्रा का विस्तृत ब्यौरा प्रस्तुत किया। कुलपति ने कहा कि एमडीयू ने उच्च शिक्षा तथा शोध में विशिष्ट पहचान बनाई है। विश्वविद्यालय में नूतन रिसर्च प्रोमोशन पॉलिसी की वज से उत्कृष्ट रिसर्च इकोसिस्टम विकसित हुआ है। कुलपति ने कहा कि नव-निर्मित एफडीसी भवन विश्वविद्यालय की शैक्षणिक गतिविधियों का उत्कृष्ट केन्द्र बनकर उभरेगा। कुलपति ने राज्यपाल-कुलाधिपति का निरंतर मार्गदर्शन के लिए आभार जताया।

विश्वविद्यालय के डीन, एकेडमिक एफेयरस प्रो. नवरतन शर्मा ने समारोह में एमडीयू के रिसर्च प्रोमोशन पॉलिसी बारे जानकारी दी। विश्वविद्यालय के निदेशक शोध प्रो. अनिल कुमार छिल्लर ने रिसर्च प्रोमोशन इंसेंटिव्स अवार्ड्स का संचालन किया। विश्वविद्याल के निदेशक एफडीसी प्रो. सुरेन्द्र कुमार ने स्वागत भाषण दिया तथा कार्यक्रम का संचालन किया। विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार प्रो. गुलशन लाल तनेजा ने आभार प्रदर्शन किया।

विश्वविद्यालय की प्रथम महिला तथा हरियाणा वेलफेयर सोसायटी फॉर पर्सन्स विद स्पीच एण्ड हियरिंग इंपेयरमेंट डा. शरणजीत कौर, संकायों के अधिष्ठाता, विभागाध्यक्ष, प्राध्यापकगण, विश्वविद्यालय अधिकारी, जिला अधिकारी, एमडीयू के शोधार्थी, अन्य गणमान्यजन कार्यक्रम में उपस्थित रहे।

हरियाणा के राज्यपाल-कुलाधिपति ने एमडीयू एफडीसी परिसर में पौधारोपण भी किया। विवि परिसर में राज्यपाल -कुलाधिपति के आगमन पर हरियाणा पुलिस की ओर से गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।
रोहतक, 3 सितम्बर। हरियाणा के राज्यपाल तथा महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय के कुलाधिपति बंडारू दत्तात्रेय ने आज महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय में रिसर्च प्रमोशन अवार्डस से 19 शिक्षकों को, शोध एवं विकास परियोजनाओं के लिए 15 शिक्षकों को, तथा बेस्ट थिसिस अवार्ड (स्वर्ण पदक, रजत पदक, कांस्य पदक तथा सर्टिफिकेट) से 42 शोधार्थियों को सम्मानित किया।

राज्यपाल-लाधिपति बंडारू दत्तात्रेय ने सभी सम्मानित होने वाले शिक्षकों तथा शोधार्थियों को हार्दिक बधाई दी। उन्होंने सभी को भविष्य में भी इसी प्रकार उत्कृष्ट शोध कार्य करने के लिए प्रेरित किया।
उल्लेखनीय है कि आज विश्वविद्यालय की ओर से सन् 2021 के लिए एमडीयू रिसर्च एक्सीलेंस अवार्ड सीबीटी के डा. सर्वजीत सिंह गिल को तथा एमडीयू बेस्ट रिसर्चर अवार्ड डा. कृष्ण कांत शर्मा (माइक्रोबायोलोजी विभाग) को प्राप्त हुआ।

रिसर्च पब्लिकेशन प्रोमोशन इंसेटिव्स अवार्ड-डा. राजेश कुमार मलिक, डा. नवीन कुमार, प्रो. देवेन्द्र सिंह (रसायन शास्त्र), डा संतोष कुमार तिवारी (जेनेटिक्स), प्रो. हरीश दुरेजा (फार्मासुयटिकल सांइसेज), डा सुरेन्द्र सिंह यादव (बॉटनी), प्रो. राजेश पुनिया (भौतिकी), डा. कृष्ण कांत शर्मा (माइक्रोबायोलोजी), डा. नर सिंह चौहान(बायोकैमिस्ट्री), डा. विनित मित्तल व डा. दीपक कौशिक (फार्मासुयटिकल साइंसेज), डा. मंजू बाला (यूआर्ईईटी), डा. अनिल ओहल्याण (भौतिकी), प्रो. अनीता रानी सहरावत (बॉटनी), डा. अमिता सुनेजा डांग (सीएमबीटी), प्रो. बलजीत सिंह यादव (फूड टैक्नोलोजी) तथा डा. दर्शना चौधरी (सीबीटी) को प्रदान किया गया।

वर्ष 2021 के लिए रिसर्च एण्ड डेवलपमेंट प्रोजेक्ट यूनिवर्सिटी इंसेंटिव्स अर्वाडस 15 शिक्षकों -प्रो. अनिल कुमार छिल्लर (सीबीटी), डा. अजीत कुमार (बायोइंर्फोमैटिक्स), डा. के के शर्मा (माइक्रोबायोलोजी), डा. रीतू गिल (सीबीटी), डा. एमएस गिल (सीबीटी), डा .दर्शना चौधरी (सीबीटी), डा. महक डांगी (बायोइंर्फोमेटिक्स), प्रो. एस. सी. मलिक (सांख्यिकी), प्रो. विनीता हुड्डा (बॉटनी), डा .अनिता रानी संताल (माइक्रोबायोलोजी), डा. रश्मि भारद्वाज (सीएमबीटी), डा. नरसिंह चौहान (बायोकैमिस्ट्री), डा. हरिमोहन (सीएमबीटी), डा. रीतू पसरीजा (बायोकैमिस्ट्री) तथा प्रो. राजेश डाबर (बायोकैमिस्ट्री) को प्रदान किए गए।

इस समारोह में 4 शोधार्थियों को बेस्ट थीसिस स्वर्ण पदक तथा नगद पुरस्कार, 4 शोधार्थियों को रजत पदक तथा नगद पुरस्कार, 2 शोधार्थी को कांस्य पदक तथा नगद पुरस्कार तथा 32 शोधार्थियों को सर्टिफिकेट तथा नगद पुरस्कार प्रदान किए गए।

ये भी पढ़ें : शराब के ठेके में एक युवक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली, मानसिक रूप से परेशान था

ये भी पढ़ें : मशरूम इकाई स्थापित करने के लिए राज्य सरकार द्वारा आवेदन आमंत्रित : डीसी राहुल हुड्डा

ये भी पढ़ें :  पानीपत जिले के बरसत रोड पर शुक्रवार रात बाइक सवार बदमाशों ने युवक पर रॉड, लाठी-डंडों से ताबड़तोड़ हमला कर दिया

Connect With Us: Twitter Facebook
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular