Homeराज्यहरियाणारोहतक : सरकारी बीमा में निजीकरण का विरोध

रोहतक : सरकारी बीमा में निजीकरण का विरोध

संजीव कुमार, रोहतक :
सरकार देश की पुरानी सरकारी बीमा कम्पनियों में हिस्सेदारी बेचने के लिए जी आई बी एन ए 1972 में संशोधन करने जा रहे है ताकि इन कम्पनियों को अपने पंूजीपतियों मित्रों को दे सके और खुश कर सके। सरकारी बीमा कम्पनियों में 60000 से ऊपर कर्मचारी काम करते हैं अब उनके रोजगार पर खतरा बना हुआ है। यूनाईटेड इंडिया आफिसर एसोएिएशन के उपाध्यक्ष उदय सिंह ने बताया कि हमारी सभी इंश्योरेस कंपनी यूनाईटेड इंडिया एवं न्यू इंडिया, ओरिंटल, नेशनल के सभी कर्मचारी एवं अधिकारी उपस्थित थे। सभी सरकारी बीमा कम्पनियों में लगभग 60000 के आस-पास कर्मचारी काम करते है इनसे से ज्यादातर 40-55 वर्ष आयु के है यदि सरकार इन बीमा कम्पनियों को निजी हाथों में देगी तो ये सभी कर्मचारी रोड़ पर आ जायेगे तथा अब इनकी उम्र दूसरी कोई परीक्षा पास करके दोबारा रोजगार पाने की भी नहीं रही और 50-55 वर्ष की आयु में आदमी पर बहुत जिम्मेवारियां होती है और अब सरकार इनका रोजगार छीन रही है जिसका हम मरते दम तक विरोध करते रहेगे। इस अवसर पर विभिन्न कर्मचारी संगठन के नेता भारतीय बीमा कर्मचारी संघ से अशोक ठुकरात, सुमेर सिंह, कनफेड से रणवीर सिंह, अमित पंवार, अनूप सिंहाग आदि उपस्थित रहे।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments