Homeराज्यहरियाणारोहतक : मदवि की डीडीई की एमए/एमएससी/एमकॉम-दूसरे सेमेस्टर की परीक्षाएं 27 अगस्त...

रोहतक : मदवि की डीडीई की एमए/एमएससी/एमकॉम-दूसरे सेमेस्टर की परीक्षाएं 27 अगस्त से

संजीव कुमार, रोहतक :

महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय (मदवि) की डीडीई की एमए/एमएससी/एमकॉम-दूसरे सेमेस्टर की परीक्षाएं 27 अगस्त से प्रारंभ होंगी। परीक्षा नियंत्रक डा. बीएस सिन्धु ने बताया कि डेटशीट विश्वविद्यालय वेबसाइट पर उपलब्ध रहेगी।  महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय (मदवि) की बीएड दो वर्षीय पाठ्यक्रम के प्रथम व दूसरे वर्ष के इंटर्नल एसेसमेंट अवार्ड्स अपलोड करने के लिए 18 अगस्त से पैनल ओपन हो गया है। परीक्षा नियंत्रक डा. बीएस सिन्धु ने बताया कि मदवि से संबद्ध शिक्षण महाविद्यालयों/संस्थानों के प्राचार्य/निदेशक 18 अगस्त से 6 नवंबर 2021 तक बीएड दो वर्षीय पाठ्यक्रम के प्रथम व दूसरे वर्ष के इंटर्नल एसेसमेंट अवार्ड्स यूनिवर्सिटी पैनल पर अपलोड कर सकते हैं। महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय (मदवि) में यूजीसी-स्ट्राइड प्रोग्राम द्वारा- प्यूरीफिकेशन एण्ड कैरेक्टराइजेशन ऑफ एक्टिव कम्पाउंड्स फ्रॉम नैचुरल प्रॉडक्ट्स विषय पर संचालित राष्ट्रीय कार्यशाला व प्रशिक्षण कार्यक्रम में आज तीसरे दिन बनस्थली विद्याापीठ, राजस्थान के बायोसाइंस एंड बायोटैक्नोलोजी विभाग की प्रो. दीपज्योति चक्रबर्ती ने विशेष व्याख्यान दिए। सुबह के सत्र में डा. दीपज्योति चक्रबर्ती ने-एक्सटे्रक्शन एंड कैरेक्टराइजेशन ऑफ पोलीफिनोलिक कंपाउंड्स फ्रॉम प्लांट्स: द बेसिक्स एंड रिसेंट एडवांसमेंट्स विषय पर व्याख्यान दिया। उन्होंने कहा कि मेडिकल प्लांट्स से संबंधित रिसर्च डिजाइनिंग में -एक्सटे्रक्शन पोलीफिनोलिक कंपाउंड्स का ज्ञान शोधार्थियों के लिए सहायक होता है। दोपहर बाद के सत्र में डा. दीपज्योति चक्रबर्ती ने सॉल्वेंट एक्सट्रेक्शन और एचपीएलसी सिस्टम का उपयोग करके पौधों के मेटोबोलाइट्स के निष्कर्षण के लिए डेमोस्ट्रेशन दिया। उन्होंने महत्त्वपूर्ण पौधों के मेटोबबोलाइट्स के निष्कर्षण के लिए उपयोग किए जाने वाले टूल्स बारे विस्तार से बताया। प्रो. पुष्पा दहिया ने सुबह के सत्र को चेयर किया तथा डा. हरिमोहन ने को-चेयर किया। प्रो. विनिता हुड्डा ने दोपहर बाद के सत्र को चेयर किया तथा डा. रचना ने को-चेयर किया। डा. सुनील कुमार ने कार्यक्रम का संचालन किया। इस अवसर पर कार्यशाला कोआर्डिनेटर प्रो. जेपी यादव, डिप्टी कोआर्डिनेटर प्रो. मुनीष गर्ग तथा डा. एसके तिवारी समेत अन्य शिक्षकगण एवं शोधार्थी उपस्थित रहे। 

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments