Homeहरियाणापानीपतस्कूली बच्चों को पीटने वाले की गिरफ्तारी के लिए स्कूल बंद

स्कूली बच्चों को पीटने वाले की गिरफ्तारी के लिए स्कूल बंद

आज समाज डिजिटल, पानीपत:
रजापुर गांव में स्कूली बच्चों को लाठी-डंडों से पीटने के मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग के लिए सैकड़ों ग्रामीणों ने स्कूल गेट पर एकत्रित होकर गेट बंद कर दिया। रजापुर स्कूल का गेट बंद होने की सूचना मिलते ही सदर थाना प्रभारी रामनिवास शर्मा दल बल के साथ मौके पर पहुंचे और आरोपियों की गिरफ्तारी के आश्वासन के बाद ग्रामीणों को शांत कर स्कूल का गेट खुलवाया।

गुरुद्वारे के पास पीटा था छात्र को

सदर थाना पुलिस को दी शिकायत में कालू राम पुत्र रमेश कुमार वासी रजापुर ने बताया कि बुधवार को स्कूल से छुट्टी होने के बाद जब उनका लड़का वंश अपने साथियों अंकित, जतिन, मनीष और जतिन की बहन अंजलि के साथ अपने घर की ओर जा रहे थे तो रास्ते में गुरुद्वारे के पास सोनू , संदीप और प्रदीप वासी रजापुर ने उनके बच्चों पर लाठी व डंडों से हमला कर दिया। जिसमें सभी बच्चों को चोटे आई हैं। तीनों लोगों के खिलाफ उचित कानूनी कार्रवाई की जाए। पुलिस ने शिकायत के आधार पर तीनों लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 323 , 506 और 34 के तहत मामला दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी थी ।

क्या है मामला

बुधवार को राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय रजापुर की छुट्टी होने के बाद सभी बच्चे अपने घर जा रहे थे। परंतु रास्ते में गुरुद्वारे के पास दूसरे बच्चों के अभिभावकों द्वारा वंश, अंकित, जतिन, मनीष और अंजलि आदि बच्चों को लाठी, डंडों से पीटा गया। बच्चों को लाठी-डंडों से पीटने वाले आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए वीरवार सुबह ग्रामीणों ने किया स्कूल का गेट बंद।

स्कूल का नहीं लेना देना: प्रिंसिपल

स्कूल की प्रधानाचार्या इंदु बाला का कहना है कि इस लड़ाई झगड़े से स्कूल का कोई लेना देना नही है। बच्चों का झगड़ा स्कूल से बाहर हुआ है। यदि बच्चों का झगड़ा स्कूल के अंदर होता तो जिम्मेवार स्कूल प्रशासन होता। अभिभावकों की इस प्रकार की कार्रवाई से बच्चों की पढ़ाई बाधित हुई है। जिसका बच्चों पर बुरा असर पड़ेगा।

माहौल खराब करने की इजाजत नहीं

सदर थाना प्रभारी रामनिवास शर्मा का कहना है कि स्कूल शिक्षा का मंदिर होता है जहां सभी के बच्चे शिक्षा ग्रहण करने आते हैं। स्कूल का माहौल खराब करने की किसी को भी इजाजत नही है। कानून सबके लिए बराबर है कानून अपना काम करेगा। ग्रामीणों को स्कूल प्रशासन और अध्यापकों का सहयोग करना चाहिए, ताकि बच्चे अच्छी शिक्षा ग्रहण कर आगे बढ़े।

ये भी पढ़ें : सरकार ने किसानों के लिए शुरू किया ‘मुख्यमंत्री बागवानी बीमा पोर्टल : ड़ीसी राहुल हुड्डा

ये भी पढ़ें : प्रतिभा खोज प्रतियोगिताओं के विजेता को 28 सितंबर को नकद पुरस्कार – डॉ. जगदीश गुप्ता

ये भी पढ़ें : नगरपालिका की निर्विरोध उपप्रधान बनी मंजू कौशिक

ये भी पढ़ें : अग्रवाल वैश्य समाज ने लगाया हेल्थ चेकअप कैंप

 Connect With Us: Twitter Facebook

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular