Homeहरियाणापानीपतसड़क हादसे में जिला परिषद कार्यालय में सीईओ के अंडर कार्यरत स्टेनों...

सड़क हादसे में जिला परिषद कार्यालय में सीईओ के अंडर कार्यरत स्टेनों की मौत

आज समाज डिजिटल, Panipat News :
पानीपत। जिले इसराना क्षेत्र के गांव नौल्था के पास गुरुवार सुबह एक हादसा हो गया। जहां दो बाइकों की आपस में भिंडत हो गई। हादसे में पानीपत जिला परिषद कार्यालय में सीईओ (चीफ एग्ज्यूकेटिव ऑफिसर) के अंडर में कार्यरत स्टेनों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि दूसरा बाइक चालक को भी चोटें आई हैं। आरोपी की बाइक पर पुलिस लिखा हुआ है। हादसे के बाद स्थानीय लोग शव को पानीपत सिविल अस्पताल पहुंचाया। जहां उसका पंचनामा भरवा कर शवगृह में रखवा दिया गया है।

 प्रशासनिक अधिकारियों एवं कर्मचारियों में शोक की लहर

वहीं, मामले की सूचना मिलते ही प्रशासनिक अधिकारियों एवं कर्मचारियों में शोक की लहर दौड़ गई। प्रशासनिक अमला सिविल अस्पताल पहुंचा। इसराना थाना पुलिस भी मौके पर पहुंची। परिजनों के बयानों के आधार पर मामले की आगमाी कार्रवाई शुरु कर दी है। जानकारी देते हुए चाचा डॉ. सुरेंद्र शर्मा ने बताया कि वे गांव नैन का रहने वाला है। उसका भतीजा रविंद्र (32) पिछले करीब 8 साल से पानीपत लघु सचिवालय में सीईओ कार्यालय में क्लर्क पद पर तैनात था। बुधवार को वह ड्यूटी पर आया था।

शाम को देरी होने के कारण उसने घर पर गुरुवार सुबह आने की बात कही

शाम को देरी होने के कारण उसने घर पर गुरुवार सुबह आने की बात कही थी। गुरुवार सुबह कई लोगों की कॉल आई। जिन्होंने गांव नौल्था के मुख्य मार्ग पर हादसा होने की बात बताई। सूचना मिलते ही वे तुरंत पानीपत सिविल अस्पताल पहुंचे। वहां पहुंच कर पता लगा कि उसकी मौत हो चुकी है। रविंद्र की एक बड़ी बहन व एक छोटा भाई है। दोनों विवाहित है। रविंद्र की कमर में दर्द रहता था, जिस कारण उसने शादी नहीं करवाई थी। रविंद्र के पिता की काफी समय पहले बीमारी से मौत हो गई थी।

रविंद्र बहुत ही ईमानदार, कर्मठ कर्मचारी था

सीईओ विवेक चौधरी ने जानकारी देते हुए जिला परिषद विवेक चौधरी ने बताया कि हादसे की सूचना मिलते ही उन्हें यकीन नहीं हुआ। उन्होंने तत्काल सीएमओ को कॉल कर मौत की पुष्टि की। इसके तुरंत बाद वे सिविल अस्पताल पहुंचे। उन्होंने बताया कि रविंद्र बहुत ही ईमानदार, कर्मठ कर्मचारी था। कार्यालय का अधिकांश कागजों से संबंधित कार्याभार अकेले रविंद्र ने बखूबी संभाला हुआ था। यह बहुत बड़ी क्षति है।

ये भी पढ़ें: महेंद्रगढ़ स्कूल में बच्चों के लिए जागरूकता कार्यक्रम आयोजित

Connect With Us: Twitter Facebook

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular