Homeहरियाणापानीपतबुनकरों की वजह से पानीपत आगे बढ़ रहा : संजय भाटिया ...

बुनकरों की वजह से पानीपत आगे बढ़ रहा : संजय भाटिया -राष्‍ट्रीय हैंडलूम दिवस मनाया गया

आज समाज डिजिटल, Panipat News :
पानीपत। राष्‍ट्रीय हैंडलूम दिवस पर रविवार को यहां सेक्‍टर 25 स्थित शगुन फार्म में बुनकरों का सम्‍मान किया गया। ऑल इंडिया आइआइएचटी एलुमनी एसोसिएशन की ओर से आयोजित कार्यक्रम में सांसद संजय भाटिया और विधायक प्रमोद विज मुख्‍य अतिथि रहे। सांसद संजय भाटिया ने कहा कि पानीपत में हथकरघा शिक्षण संस्‍थान होना चाहिए। बुनकरों की वजह से पानीपत आज हैंडलूम इंडस्‍ट्री के नाम से मशहूर है। केंद्र सरकार तक पानीपत की आवाज पहुंचाएंगे।

नई वीवर्स कालोनी की मांग पर विचार किया जाएगा

पानीपत के लिए जो सुविधाएं चाहिए, वो मिलेंगी। विधायक प्रमोद विज ने कहा कि वह खुद इस इंडस्‍ट्री से जुड़े हैं। ज्‍यादा से ज्‍यादा आविष्‍यकार होंगे, नए डिजाइन बनेंगे तो विदेश में हमारी पहचान होगी। पानीपत में एक नई वीवर्स कालोनी की मांग पर उन्‍होंने कहा कि इस पर विचार किया जाएगा। एक्‍सपोर्ट एसोसिएशन के प्रधान ललि‍त गोयल, देवगिरी से अशोक गुप्‍ता, रमेश वर्मा, डायर्स एसोसिएशन से भीम राणा, एसके इंटरप्राइजिज से सुरेश तायल, विनोद धमीजा, फलोरा से दिनेश जैन, अनिल मित्‍तल, जगबीर राणा ने भी विचार व्‍यक्‍त किए। एसोसिएशन के प्रधान धर्मवीर सिंह, महासचिव बीएल मंडरवाल, कोषाध्‍यक्ष राकेश जैन, मीडिया प्रभारी ओपी रनौलिया मौजूद रहे।
Panipat News/Panipat is progressing because of weavers: Sanjay Bhatia
Panipat News/Panipat is progressing because of weavers: Sanjay Bhatia

हर साल ऐसा कार्यक्रम हो

निर्यातक सुरेश तायल ने कहा कि हर साल ऐसा कार्यक्रम होना चाहिए। इससे इंडस्‍ट्री के अलावा बुनकरों का भी उत्‍साह बढ़ता है। कार्यक्रम के विशिष्‍ट अतिथि सार्थक अरोड़ा ने कहा कि पानीपत की इंडस्‍ट्री को और सहयोग मिले तो चीन को पीछे छोड़ सकते हैं।

बुनकरों का उत्‍साह बढ़ाया

इस अवसर पर पचास बुनकरों का सम्‍मान किया गया। पानीपत में उत्‍कृष्‍ट कार्य करने वाले बुनकरों को मंच से सम्‍मानित किया गया। भाजपा की जिला अध्‍यक्ष डा. अर्चना गुप्‍ता और पार्षद शकुंतला गर्ग ने भी बुनकरों को सराहा। बुनकरों ने कहा कि उन्‍हें पानीपत में बेहद सम्‍मान मिला है। पानीपत को आगे बढ़ता हुआ वे देख रहे हैं।
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular