Homeहरियाणापानीपतआर्य समाज संस्थाओं के पदाधिकािरयों और सदस्यों के जिला स्तरीय समारोह का...

आर्य समाज संस्थाओं के पदाधिकािरयों और सदस्यों के जिला स्तरीय समारोह का आयोजन किया

आज समाज डिजिटल, पानीपत :
पानीपत। आर्य वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय सभागार में आर्य समाज के पदाधिकारियों शिक्षण संस्थाओं की प्रबन्धक समितियों के पदाधिकारियों और जिला के सभी आर्य समाज संस्थाओं के पदाधिकािरयों और सदस्यों के जिला स्तरीय समारोह का आयोजन किया गया। इस समारोह के मुख्य अतिथि आर्य प्रतिनिधि सभा हरयाणा के प्रधान राधा कृश्ण आर्य रहे, जबकि गुजरात के राज्यपाल आचार्य देवव्रत आर्य के ओएसडी डा. राजेन्द्र सिंह विद्यालंकार विशिष्ठ अतिथि रहे, जबकि विशेष अतिथि आर्य बाल भारती के प्रधान रणदीप कादियान रहे।

कार्यक्रम का शुभारंभ वैदिक प्रार्थना से तथा समापन गायत्री मन्त्र के साथ हुआ

अध्यक्षता आर्य वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय प्रबन्धक समिति के प्रधान कुलदीप देशवाल ने की। प्रबन्धक समिति के मैनेजर रामपाल जागलान व उपप्रधान डा. देवी सिंह ने सभी का स्वागत किया और प्रसिद्ध समाज सेवी राजेन्द्र जागलान ने सभी का धन्यवाद किया। कार्यक्रम को आर्य कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के प्रधान विरेन्द्र पाढा, प्रबन्धक प्रमोद आर्य और पूर्व प्रधान दलीप आर्य व समाजसेवी नायब आर्य, कोषाध्यक्ष जसबीर सिंह ने भी सबोधित किया। मंच संचालन प्राचार्य मनीष घनगस ने किया। संगीत अध्यापक प्रमोद चैपड़ा ने अपने देशभक्ति गीतों के माध्यम से सभी को भाव विभोर कर दिया। कार्यक्रम का शुभारंभ वैदिक प्रार्थना से तथा समापन गायत्री मन्त्र के साथ हुआ।

भारत को शिक्षा के क्षेत्र में प्राचीन काल से ही जगत गुरू का दर्जा हासिल

मुख्य अतिथि राधा कृष्ण आर्य ने संबोधित करते हुए कहा कि विश्व से अज्ञानता, अशिक्षा, अंधविश्वास और छुआछूत को समाप्त करने व देश को आजादी दिलवाने के लिए ऋषि दयानन्द ने 12 फरवरी 1824 को गुजरात के टंकारा में जन्म लिया था। उनके जन्म दिन पर आगामी 12 फरवरी 2023 को दिल्ली के इंदिरा गांधी इन्डोर स्टेडियम में विश्व स्तरीय सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा। इस समारोह के मुख्य अतिथि प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी होंगे। मुख्य अतिथि प्रधान राधाकृष्ण आर्य ने कहा कि भारत को शिक्षा के क्षेत्र में प्राचीन काल से ही जगत गुरू का दर्जा हासिल हैं।

दिल्ली के सम्मेलन में जाने के लिए प्रेरित भी किया जाएगा

भारत ने ही विश्व को महानग्रथं चार वेद दिए और महर्षि दयानंद सरस्वती ने भारत के इस गौरव को विश्व भर में पुनः स्थापित करने के लिए सभी प्रयास किए। प्रधान राधाकृष्ण आर्य ने कहा कि इस अवसर पर  हरियाणा में भी आर्य प्रतिनिधि सभा के प्रचार वाहनों द्वारा गांव गांव में जाकर महर्षि दयानंद सरस्वती के कार्यों और नीतियों का गुणगान किया जाएगा और लोगों को 12 फरवरी को दिल्ली के सम्मेलन में जाने के लिए प्रेरित भी किया जाएगा। इस समारोह में जिला की सभी आर्य समाज संस्थाओं के अधिकारी व सदस्य तथा शिक्षण संस्थाओं के पदाधिकारी और सदस्यों ने भी बढचढकर भाग लिया।
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular