Homeहरियाणापानीपतजय-जय जगन्नाथ... के जयकारों से गूंजी ऐतिहासिक नगरी  - श्री जगन्नाथ मंदिर...

जय-जय जगन्नाथ… के जयकारों से गूंजी ऐतिहासिक नगरी  – श्री जगन्नाथ मंदिर का 128वां महोत्सव पर शहर में निकाली जगन्नाथ रथ यात्रा

आज समाज डिजिटल, Panipat News :
पानीपत। श्री जगन्नाथ मंदिर पंचायत अग्रवाल वैश्य की ओर से शुक्रवार को श्री जगन्नाथ मंदिर का 128वां जगन्नाथ रथ यात्रा महोत्सव का आयोजन किया गया। इस अवसर पर भगवान जगन्नाथ की विशाल शोभायात्रा निकाली गई। इससे पूर्व पूजनीय स्वामी मुक्तानंद महाराज के आशीर्वाद से आषाढ़ सूद्दी दूज को भी जगन्नाथ मंदिर में भगवान श्री जगणनाथ जी, बहन सुमद्रा जी व भाई बलारम जी की प्रतिमा गर्भ गृह से बाहर लाकर झूले पर विराजमान करवाया गया।

मुख्य अतिथि सुशील सिंगला ने सपरिवार भगवान जी की पूजा वंदना की

प्रधान राजेंद्र गुप्ता ने बताया कि कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सुशील सिंगला ने सपरिवार भगवान जी की पूजा वंदना की। उसके पश्चात समिति द्वारा पूरे परिवार का मान सम्मान पटका, पगडी, चित्र, प्रसाद से किया गया। इस अवसर पर अतिथि के रूप में बीजेपी जिलाध्यस डॉ. अर्चना गुप्ता, नीरू विज, सांसद पत्नि अंजू भाटिया, सुरेंद्र रेवडी ने भगवान जगन्नाथ जी से आशीर्वाद लिया व पूरी समिति ने आए हुए अतिथियों का सम्मान किया। सरक्षक कन्हैया गुप्ता ने यात्रा के लिए बोलियां प्रारंभ की। सर्वप्रथम एक बोली सिंहासन की, दो बोली चवर झुलने की, 4 बोली (जुएं) रथ खींचने की, 4 बोली घोड़ी पर विराजमान कराने की, 2 ऊंट पर बिठाने की बोलियां पूर्ण की गई।

बिखराव को बचाने के लिए संयुक्त परिवार को होना जरुरी

उसके पश्चात स्वामी मुक्तानंद महाराज ने भक्तों की आशीर्वाद के रूप में बताया कि इस कलियुग में प्रभु का नाम ही मनुष्य के जीवन को सही मार्ग दिखा सकता है। उन्होंने कहा कि समाज में आ रहे बिखराव को बचाने के लिए संयुक्त परिवार को होना जरुरी है। उन्होंने समाज को विघटन से बचाने के लिए बच्चों को संस्कृति, धर्म, सभ्यता से जोड़ना जरूरी है। समिति की ओर से सभी सामाजिक, धार्मिक संस्थाओंं व चारोंं दिन सेवा करने वाले सभी सेवादारों का सम्मान किया। भगवान जगन्नाथ जी के विशेष रूप से बंटने वाले भात को बनाने के लिए नीरज कंसल व कमल कंसल ने सुबह चार बजे ही प्रसाद बनाने की सेवा प्रारंभ कर दी थी। गुलशन कंसल, पंकन सिंगला ने मिलकर दोपहर 12:30 बजे तक सेवा पूरी की। दोपहर बाद 4 बजे मुख्य अतिथियों व समिति के पदाधिकारियों ने महाआरती की। भक्तो द्वारा घर से लाया गया छप्पन भोग का प्रसाद भगवान की को अर्पण किया गया।

पूरे यात्रा मार्ग में नगरवासियों ने भगवान जगन्नाथ जी के दर्शन किए

जयजय जगन्नान्य- जय जय जगन्नाथ जी के गगन भेदी जयकारों के साथ ही भगवान जी को दोल-नगाड़ों, नपीरी बैंड से मेचू से स्वर्ण रंग में पुष्प के सजे रथ पर विराजमान करवाया गया। पूरे यात्रा मार्ग में नगरवासियों ने भगवान जगन्नाथ जी के दर्शन किए। आज के दिन भगवान जी भक्तों को दर्शन देने के लिए मंंदिर से बाहर आते हैंं। यात्रा मार्ग मेंं भक्तों ने मीठे जल की छबील लगाई, फल व प्रसाद वितरित किया। कही पर हलवे का प्रसाद वितरित किया गया। श्याम सेवा समिति प्रधान अमित गुप्ता, सचिव संजय बंसल ने अपनी पूरी टीम के साथ भक्तों के लिए ठंडी कुल्फी का वितरण किया।
ये उपस्थित रहे
इस अवसर पर सनातन धर्म संगठन से चुधिष्ठिर शर्मा, शशि लूथरा, कप्तान सिंह मंडोत्रा, दिलीप गुप्ता, संंरक्षक भूषण गुप्ता, प्रदीप तायल, दीपक गोयल, योगेश रत्न गुप्ता, काँशलेंद्र गुप्ता, जयपाल कंसल, शशीकांत मित्तल, दिनेश मित्तल, हेमराज कंसल, लालचंद तायल, नरेंद्र जिंदल उपस्थित रहे।

ये भी पढ़ें : कार्तिकेय शर्मा की जीत को लेकर समस्त ब्राह्मण समाज के लोगों ने मुख्यमंत्री का किया धन्यवाद

ये भी पढ़ें : खुल गया प्रगति मैदान सुरंग, पीएम मोदी ने किया टनल और अंडरपास का उद्घाटन

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular