Homeराज्यहरियाणाभिवानी : आउट सोर्सिंग ठेकाकर्मियों की महानिदेशक के साथ बैठक रही बेनतीजा

भिवानी : आउट सोर्सिंग ठेकाकर्मियों की महानिदेशक के साथ बैठक रही बेनतीजा

अब स्वास्थ्य मंत्री आवास पर डालेंगे डेरा
पंकज सोनी, भिवानी :
ठेका प्रथा समाप्त ठेका कर्मियों को पे-रोल पर करने और छटनी किये गए कर्मियों को वापिस ड्यूटी पर लेने की मांग को लेकर स्वास्थ्य आउट सोर्सिंग ठेकाकर्मी 5 सितम्बर को स्वास्थ्यमंत्री के अम्बाला आवास पर प्रदर्शन करेंगे। यह निर्णय स्वास्थ्य ठेका कर्मचारी यूनियन ने महानिदेशक स्वास्थ्य सेवाएं हरियाणा के साथ आयोजित बैठक के बाद लिया। बैठक में सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा व स्वास्थ्य ठेका कर्मचारी यूनियन के प्रतिनिधिमण्डल ने हटाए गए कर्मियों को वापिस ड्यूटी पर लेने, समय पर वेतन, ईएसआई कार्ड, इपीएफ का हिसाब किताब व सिक्योरिटी गार्ड समेत सभी ठेकाकर्मियों को विभाग के पे-रोल पर करने की मांगों को लेकर चर्चा हुई। यूनियन ने स्वास्थ्यमंत्री ने 24 मई के आदेशों को विभाग द्वारा अभी तक लागू ना करने पर नाराजगी प्रकट की। स्वास्थ्य ठेका कर्मचारी यूनियन की ओर से दीपक तंवर, प्रदीप, सुरेंद्र, नवीन, गुलशन व सकसं ब्लॉक प्रधान लोकेश कुमार ने संयुक्त रूप से कहा कि राज्यभर के 12 जिलों में 500 से ज्यादा कोरोना योद्धा ठेकाकर्मचारी बिना किसी कारणवश नौकरी से हटा रखे हैं। ठेकेदारों व अफसरशाही की मिलीभगत के कारण मंत्री के आदेशों के साथ ही श्रम कानूनों व सरकार की हिदायतों की धज्जियां उड़ाई जा रही है। कुरूक्षेत्र व झज्जर में 2 महिला कर्मचारियों को प्रसूति अवकाश का लाभ देने की बजाए नौकरी से ही हटा दिया गया है। मुख्य सचिव हरियाणा सरकार स्पष्ट आदेश हैं कि आउट सोर्सिंग पोलिसी-1 में ठेका सफाई कर्मचारी को नौकरी से ना हटाया जाए परन्तु 50 से ज्यादा सफाई कर्मचारियों को नौकरी से हटाया गया है। सिक्योरिटी गार्ड को एक तरफ 31 दिसम्बर 2021 तक सेवा विस्तार किया गया है दूसरी ओर बिना किसी शिकायत के जींद व यमुनागर में 15 गार्ड की नौकरी छीन ली गई। लोके श कुमार ने कहा कि भाजपा, जजपा गठबंधन सरकार के संरक्षण में लूट खसूट में लगा ठेकेदार व अफसरशाही का गठजोड़ यह भी भूल गया कि गत वर्ष जिन फ्रंट लाईन वर्कर को वह कोरोना योद्धा बताकर वह सम्मानित कर रहा था उन्ह फ्रंट लाईन वर्कर में तीन ठेकाकर्मचारी जिन्होंने जनता की सेवा करते हुए संक्रमण से अपनी जान गंवाई उनके परिवारों को 50 लाख रूपए की मदद का ऐलान करने वाली सरकार ने आज तक एक पैसे की आर्थिक मदद नहीं की है। आउट सोर्सिंग ठेका कर्मियों में अफसरशाही व सरकार के खिलाफ गहरा रोष है। ठेकाकर्मियों ने 5 सितम्बर को स्वास्थ्यमंत्री अवास पर प्रदर्शन करने का फैसला लिया है।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular