Homeराज्यहरियाणाकरनाल: अधिकारी अतिक्रमण हटवाएं, शिकायतों का तुरंत करें समाधान : डॉ. मनोज...

करनाल: अधिकारी अतिक्रमण हटवाएं, शिकायतों का तुरंत करें समाधान : डॉ. मनोज कुमार

प्रवीण वालिया, करनाल:
 नगर पालिकाओं की आय बढ़ाने और नागरिकों को समय पर सेवाएं सुनिश्चित करने के लिए जिला नगर निगम आयुक्त डॉ. मनोज कुमार ने मंगलवार को कैम्प कार्यालय में सभी नगर पालिका सचिवों की मीटिंग ली और उनके साथ लिगेसी वेस्ट, एन.डी.सी. पोर्टल, मुख्यमंत्री की घोषणाओं पर काम, सम्पत्ति कर तथा विकास शुल्क जैसे बिन्दुओं पर चर्चा कर उनकी समीक्षा की। उन्होंने कहा कि नागरिकों की शिकायतों का मतलब समय पर सेवा न देना है, इससे जहां नगर पालिका की छवि खराब होती है, वहां नागरिकों को भी दिक्कत का सामना करना पड़ता है, जबकि समय पर सेवा देना हर कर्मचारी की ड्यूटी है। जिला नगर आयुक्त ने नगर पालिका सचिवों को यह कहकर पाबंद किया कि कोई भी फाईल पर जितने भी ऑब्जैक्शन भेजे जाते हैं, वह दो सप्ताह में ही दूर होने चाहिएं। इसके बाद लेट की जवाबदेही के लिए सचिव जिम्मेदार होगा। उन्होंने कहा कि नगर पालिकाओं के अधीन जितनी भी सरकारी जमीन है, बड़ा स्पेस हो तो वहां पिलर खड़े करवा दें और छोटी जगह हो तो चारदीवारी बनवा दें, ताकि उस पर कोई कब्जा न करे। प्रत्येक सचिव के पास नगर पालिका की जमीन की पूरी जानकारी होनी चाहिए, किसी भी समय इस बारे पूछा जा सकता है। उन्होंने कहा कि शहरों में सरकारी जमीन पर अतिक्रमण प्राय: देखने में आता है, सभी सचिव सुनिश्चित करें कि उनके एरिया में मेन रोड पर जहां-जहां भी एन्क्रोचमेंट है, उसे तुरंत हटाया जाए। इसके अलावा स्वच्छता पोर्टल पर जितनी भी शिकायतें आती हैं, उनको पेंडिंग न रखा जाए, समयावधि में उसका निस्तारण सुनिश्चित करें। उन्होंने घरौंडा के नगर पालिका सचिव को कहा कि इस पोर्टल पर उनकी 5 शिकायतें पैंडिंग हैं, जिनका समाधान अभी तक नहीं हुआ। अब 1 दिन में ही इनका समाधान करवाएं। मीटिंग में जिला नगर आयुक्त ने बताया कि सम्पत्ति कर और विकास शुल्क, दो चीजों से नगर पालिका की आय होती है। अब सरकार के निर्देश पर विकास शुल्क एकत्र करने पर जोर देना है। उन्होंने कहा कि जो भी नए निर्माण हों, उन सभी के नक्शे पास होने चाहिएं और वह तभी होगा, जब सम्पत्ति मालिक विकास शुल्क जमा करवाएगा। यदि कोई बिना नक्शा पास करवाएकाम करवा रहा है, तो उसे रूकवा दें और उससे विकास शुल्क वसूल करें। उन्होंने कहा कि सम्पत्ति कर के ज्यादा से ज्यादा नोटिस बंटवाएं और इसके टैक्स को नगर पालिका के खजाने में जमा करवाएं।
लिगेसी वेस्ट के निस्तारण पर हो रहा कार्य- मीटिंग में नगर पालिका सचिवों ने लिगेसी वेस्ट पर बात करते जिला नगर आयुक्त को अवगत करया कि इन्द्री को छोडक़र शेष सभी नगर पालिकाओं में इस पर काम हो रहा है। कूड़े-कचरे में से आर.डी.एफ. को अलग करने वाली ट्रोमल मशीन लगी हुई हैं, जो कचरे से पॉलीथीन, कपड़ा, लकड़ी के टुकड़े आदि छांटती है। छंटाई के बाद गीले कचरे से खाद बनाई जा रही है। इन्द्री के सचिव ने बताया कि इस काम के लिए दोबारा टैण्डर लगाया गया है, जो जल्द ही खुलने वाला है। मुख्यमंत्री की घोषणाएं समयबद्ध पूरी हों- मीटिंग में जिला नगर आयुक्त ने सचिवों से कहा कि उनके एरिया में जितने भी मुख्यमंत्री घोषणाओं के काम हैं, उन्हें समय पर पूरा करवाना सुनिश्चित करें। क्योंकि यह जनता की भलाई के काम हैं, इनमें ज्यादा विलम्ब ठीक नहीं। ठेकेदार ठीक से काम न करे, लेट-लतीफी दिखाए तो उस पर पेनल्टी लगाएं। उन्होंने नगर पालिका सचिवों से कहा कि अगले 2 सप्ताह के बाद दोबारा मीटिंग कर इन सब बिन्दुओं की समीक्षा करेंगे। यदि कहीं कमी है तो इसमें सुधार लाएं, जिला नगर आयुक्त के पास कोई शिकायत ना आए। उन्होंने यह भी कहा कि अगले कुछ दिनो में विकास कार्यों का जायजा लेने के लिए सभी नगर पालिकाओं की विजिट की जाएगी। मीटिंग में इन्द्री, असंध, निसिंग, घरौंडा, तरावड़ी व नीलोखेड़ी के सचिव क्रमश: मोहित कुमार, अशोक कुमार, शैलेन्द्र शर्मा, रवि प्रकाश शर्मा, नरेन्द्र शर्मा व प्रिंस कुमार, सभी नगर पालिकाओं के म्यूनिसिपल इंजीनियर्स तथा डीएमसी ऑफिस के अधीक्षक राम गोपाल मौजूद रहे।
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments