Homeराज्यहरियाणायमुनानगर : राष्ट्रीयकृत बैंकों का देश की अर्थव्यवस्था में अहम योगदान पीएसबी का...

यमुनानगर : राष्ट्रीयकृत बैंकों का देश की अर्थव्यवस्था में अहम योगदान पीएसबी का होगा: मोंगिया

प्रभजीत सिंह लक्की, यमुनानगर :
हरियाणा, पंजाब हिमाचल, जम्मू कश्मीर एवं चंडीगढ़  के पंजाब एंड सिंध बैंक के महाप्रबंधक प्रवीण मोंगिया ने शनिवार शाम शहर के एक होटल में ग्राहक मिलन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की। इस अवसर पर डीजीएम जी श्रीनिवासन जैड एम फरीदकोट कुलदीप सिंह चीफ मैनेजर अतिरेक शर्मा, सीनियर मैनेजर सुमिति व अजय शर्मा सहित सभी ब्रांच मैनेजर एवं बड़ी संख्या में पीएसबी के ग्राहक उपस्थित थे।
पत्रकारों को संबोधित करते हुए प्रवीण मोंगिया ने बताया कि आज देश की अर्थव्यवस्था में राष्ट्रीय बैंकों का अहम योगदान है, उन्होंने बताया कि प्राइवेट बैंकों की तुलना में राष्ट्रीय कृत बैंक काफी तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। इसके साथ ही पंजाब एंड सिंध बैंक बैंकिंग के क्षेत्र में नित नए आयाम स्थापित कर रहा है। उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी के कारण लगातार 2 वर्षों तक पंजाब एंड सिंध बैंक घाटे में रहा गत वर्ष से यह बैंक मुनाफे में आ चुका है और अपने ग्राहकों एवं कर्मचारियों के सहयोग से उन्हें पूरा विश्वास है की 2021-22 का वर्ष पंजाब एंड सिंध बैंक का होगा। उन्होंने बताया कि पीएसबी का विभिन्न क्षेत्रों के लिए ब्याज दर अन्य सभी बैंकों से कम है चाहे वह घर के लिए ऋण लेना हो, व्यापार के लिए, वाहन के लिए या फिर गोल्ड लोन हो अन्य सभी बैंकों से पीएसबी का ब्याज दर बहुत कम है। निजी बैंकों मे सुचारू सफाई व्यवस्था एवं ग्राहकों के लिए अच्छी सुविधाओं के बारे में बोलते हुए प्रवीण मोंगिया ने बताया कि उन्होंने कई ब्रांचो को अंकित कर वहा जरूरी सुधार करने के दिशा निर्देश दिए हैं जल्द ही आवश्यक सुधार कर दिये जाएंगे जिससे ग्राहकों को और अधिक सुविधाएं मिलेंगी।
बैंक के जैड.एम कुलदीप सिंह ने निजी बैंकों पर कटाक्ष करते हुए कहा कि हाथी के दांत खाने के और,और दिखाने के और वाली कहावत निजी बैंकों पर पूरी तरह सही बैठती है। उन्होंने कहा कि खाता खुलवाने से लेकर लोन देने तक निजी बैंकों की कई छुपी हुई फॉर्मेलिटी होती हैं जिन्हें अक्सर ग्राहकों को बताया ही नहीं जाता जब ग्राहकों को बैंक के इन नियमों का पता चलता है तो काफी देर हो चुकी होती है और ग्राहक अपने आप को ठगा सा महसूस करता है, परंतु राष्ट्रीय बैंकों में ऐसा नहीं है वहां पर भारत सरकार द्वारा लागू एक ही नीति पर कार्य होता है और कुछ भी पर्दे के पीछे नहीं रहता। ग्राहक को खाता खुलवाने एवं लोन लेने से पहले बैंक के सभी नियमों के बारे पहले ही अवगत करवा दिया जाता है। उन्होंने बताया कि बड़ी संख्या में अब ग्राहक निजी बैंकों को छोड़ राष्ट्रीय कृत बैंक को की सेवाएं प्राप्त कर रहे हैं। इस अवसर पर चीफ मैनेजर अतिरेक शर्मा द्वारा बैंक की कार्यप्रणाली एवं भारत सरकार द्वारा आमजन की भलाई के लिए बैंक के क्षेत्र से ताल्लुक रखती विभिन्न योजनाओं के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई।
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular