Homeराज्यहरियाणाशहजादपुर : अनाज मंडी में हुई घटना के आरोपियों की गिफ्तारी को...

शहजादपुर : अनाज मंडी में हुई घटना के आरोपियों की गिफ्तारी को लेकर की बैठक

नवीन मित्तल, शहजादपुर :
रविवार को जहां शहजादपुर में स्थित महाराणा प्रताप चौक पर भारतीय किसान यूनियन भाईचारा हरियाणा ने सर्वसमाज को साथ लेकर गत शनिवार को अनाज मंडी में भाकियू भाईचारा हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष व उनके साथियों के साथ भाकियू (चढूनी ग्रुप) के लोगों द्वारा की गई मारपीट किए जाने पर रोष प्रकट करते हुए गिरफ्तारी की मांग की और कहा कि अगर आरोपियों को जल्द गिरफ्तार नहीं किया गया तो किसी भी तरह का आंदोलन करने से गुरेज नही करेंगें, वहीं भाकियू(चढूनी ग्रुप), गन्ना किसान संघर्ष समिति व अन्य 36 बिरादरी के लोगों ने भी मामले में निष्पक्ष जांच किये जाने को लेकर शहजादपुर में बैठक कर चेतावनी देते हुए कहा कि अगर मामले में किसी बेकसूर को घसीटा गया तो कोई भी बड़ा प्रदर्शन या आंदोलन करने से पीछे नही हटेंगें।
शनिवार को अनाज मंडी शहजादपुर में भाकियू(चढूनी ग्रुप) द्वारा आयोजित किसानों की बैठक में पहुंचे राष्ट्रीय अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी को काले झंडे दिखा विरोध करने पहुंचे भारतीय किसान यूनियन भाईचारा हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष नरपत राणा व उनके साथियों के साथ मारपीट किये जाने के रोष स्वरूप व आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर शहजादपुर में स्थित महाराणा प्रताप चोंक पर सर्वसमाज ने अनिल राणा कुराली की अध्यक्षता में एक बैठक का आयोजन किया। जिसमें जहां भाकियू भाईचारा हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष नरपत राणा, भाजपा शहजादपुर मंडल अध्यक्ष संजीव गुज्जर, भाजपा घुमन्तु समाज के जिलाध्यक्ष अशोक पाल, अनिल राणा बड़ागढ़, दीपक चौहान सहित काफी संख्या में अन्य लोगों मौजूद थे। बैठक के दौरान सभी ने एकजुट होकर मांग करते हुए कहा कि किसान केवल गुरनाम सिंह चढूनी या फिर उसके साथ रहने वाले लोग ही नही हैं, किसान हम लोग भी हैं। उन्होंने कहा कि गुरनाम सिंह चढूनी किसानों को गुमराह कर अपनी रोटियां सेंकने पर लगा हुआ है और गुंडागर्दी कर रहा है, जिसे किसी भी हालत में सहन नही किया जा सकता है। बैठक में नरपत राणा व उनके साथियों के साथ शांतिपूर्वक तरीके से विरोध प्रदर्शन करते हुए मारपीट किया जाना गुंडागर्दी नही तो क्या है। बैठक में मौजूद लोगों ने कहा कि शनिवार को अनाज मंडी में हुई घटना का जिम्मवार प्रशासन भी है और जिसे देखकर तो यही कहा जा सकता है कि प्रशासन भी गुरनाम सिंह चढूनी के साथ मिला हुआ है। भाजपा किसान मोर्चा अम्बाला के जिलाध्यक्ष अनिल राणा कुराली ने कहा कि गुरनाम सिंह चढूनी के लोगों ने शनिवार को नरपत राणा व उनके साथियों के साथ जो कायरतापूर्ण कार्य किया है उसका हम विरोध करते हैं और गुरनाम सिंह चढूनी जब भी समय रखकर नारायणगढ़ हल्के में आएगा उसका हजारों की संख्या में इक्कठे होकर विरोध किया जाएगा। उन्होंने कहा कि आज जो बैठक की गई है वह शनिवार को नरपत राणा व उनके साथियों के साथ जो घिनोना कार्य किया उसके विरोध स्वरूप व आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर की गई है। बैठक में पहुंचे डीएसपी नारायणगढ़ अनिल कुमार ने आश्वासन दिया कि आरोपियों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। इस पर अनिल राणा कुराली ने कहा कि अगर पुलिस प्रशासन कार्यवाई नही करता तो अपने सभी समाज के साथ बातचीत कर आगामी रणनीति अमल में लाई जाएगी। वहीं दूसरी ओर गन्ना किसान संघर्ष समिति, भाकियू (चढूनी ग्रुप), आढ़तियों व अन्य समाजों के लोगों ने शनिवार को हुई घटना को लेकर पुलिस द्वारा दर्ज किए गए मामले में नामजद लोगों के नामों के विरोध में शहजादपुर में बैठक कर कहा कि जो नाम पुलिस ने एफआईआर में दर्ज किए हैं वे सरासर झूठे हैं। गन्ना संघर्ष समिति के प्रदेशाध्यक्ष विनोद राणा ने कहा कि बैठक का मुख्य उद्देश्य यह है कि पुलिस द्वारा शनिवार की घटना को लेकर एफआईआर में गलत नाम दिए गए हैं जिनको लेकर थाना प्रभारी जसवंत सिंह से मांग की गई है कि मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए और बेकसूर लोगों के नामों को एफआईआर से निकाला जाए। बैठक में पहुंचे थाना प्रभारी शहजादपुर ने आश्वासन दिया कि मामले की निष्पक्ष जांच होगी।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular