Homeहरियाणामहेंद्रगढ़पाईपलाईन लीकेज के चलते रास्तों पर बह रहा सैकड़ों लीटर पानी

पाईपलाईन लीकेज के चलते रास्तों पर बह रहा सैकड़ों लीटर पानी

आज समाज डिजिटल,सतनाली:
एक ओर सरकार भूमिगत जल के गिरते स्तर में सुधार करने के उदेश्य से चिंतित होकर तरह-तरह के कार्यक्रम, रैलियां आदि प्रस्तुत कर लोगों व सरकारी कर्मचारियों को जल बचाव के बारे में जागरूक कर रही है वहीं जनस्वास्थय विभाग के अधिकारियों व आमजन की लापरवाही के कारण सतनाली क्षेत्र में मुख्य स्थानों व सडक़ों पर जल व्यर्थ में ही बहता रहता है। कस्बे में अनेक स्थानों, मुख्य रास्तों व गलियों में पाईपलाईन लीकेज के चलते पिछले काफी समय से सप्लाई के समय पानी बह रहा है जिस कारण वहां से गुजरने वाले वाहनचालकों व दुकानदारों सहित आम लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

विभाग की उदासीनता से हवा हो रहे जल संरक्षण के दावे

स्थानीय दुकानदारों ने बताया की शराब के ठेके के नजदीक बस स्टैंड रोड पर पाईपलाईन लीकेज के कारण सप्लाई के समय पानी मुख्य रास्ते पर बहता रहता है। जिस कारण राहगीरों व वाहनचालकों को परेशानी उठानी पड़ रही है इस बारे में अनेक बार जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को अवगत करवाया जा चुका है परंतु विभाग द्वारा कोई सुध नहीं ली जा रही। उल्लेखनीय है कि सतनाली कस्बे में सतनाली-महेंद्रगढ़ रोड़, दादरी रोड़, मुख्य फिरनी सहित अनेक स्थानों पर पेयजल सप्लाई के समय पाईपलाईन लीकेज के कारण  सैकड़ों लीटर पानी की बर्बादी हो रही है। जल संरक्षण के प्रति आमजन का सहयोग न मिल पाने व अधिकारियों द्वारा रूचि न लिए जाने से जल संरक्षण के दावों की हवा निकल रही है।

लीकेज से होती है पानी की बर्बादी

अधिकांश पेयजल की बर्बादी पाईपलाईन लीकेज के कारण होती है। गलियों व रास्तों पर जहां पाईप लाइन लीकेज होती है, उस स्थान पर पानी रिसता रहता है। अगर वह स्थान लोगों के आने जाने में रोड़ा बनता है, तो उस स्थान को ठीक करने का प्रयास किया जाता है अन्यथा अनेक स्थान ऐसे हैं, जहां पानी रिसकर नालियों में बह रहा है। उस स्थान पर रिसाव को ठीक करने के लिए खास प्रयास नहीं किए जाते। जिस कारण लोगों के घरों तक पहुंचने वाले इसी पानी की ज्यादातर मात्रा इसी प्रकार व्यर्थ रहती है।
समय समय पर विभाग के कर्मचारी पानी की लीकेज को रोकने के लिए अभियान चलाते है, लेकिन लीकेज को टांका लगाने के साथ ही कार्य को पूरा मान लिया जाता है। नतीजा यह होता है कि उस स्थान से कुछ ही दिनों बाद फिर से रिसाव शुरू हो जाता है। इस बारे में जनस्वास्थ्य विभाग के फोरमैन राजेंद्र ने बताया कि मामला उनके संज्ञान में नहीं है तथा वे इस बारे ठेकेदार को निर्देश देकर पाईपलाईन लीकेज दूर करवाऐंगे। ग्रामीणों को परेशानी नहीं होने दी जाएगी।
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular