Homeहरियाणामहेंद्रगढ़नीट में महक के 720 में से 675 अंक, 1094वीं रैंक

नीट में महक के 720 में से 675 अंक, 1094वीं रैंक

नीरज कौशिक, महेंद्रगढ़:
उपमंडल के गांव आकोदा निवासी गोसेवक वैद्य बद्री प्रसाद की सुपौत्री महक गुप्ता ने यूनिवर्सिट ग्रांट कमीशन द्वारा आयोजित नीट परीक्षा में 720 में से 675 अंक प्राप्त कर ऑल इंडिया में 1094वां रैक प्राप्त किया है। जिसके बाद से गांव व परिवार में खुशी का माहौल है।

सफलता पाने वाली गांव की पहली बेटी

नीट में महक के 720 में से 675 अंक
नीट में महक के 720 में से 675 अंक

बता दें कि महक गुप्ता गांव की पहली ऐसी बेटी है जिन्होंने इस प्रकार की परीक्षा में सफलता प्राप्त की है। उसकी इस सफलता से गांव की अन्य लड़कियों को भी काफी कुछ सिखने को मिलेगा। महक के पिता नरेश गुप्ता ने बताया कि महक बचपन से ही एक होनहार विद्यार्थी रही है। उसकी इस सफलता के बाद से परिवार में काफी खुशी का माहौल है। उन्होंने बताया कि महक शुरू से ही डॉक्टर बनना चाहती थी। उसकी इस सफलता के बाद से वह अपने लक्ष्य में अवश्य की कामयाब होगी। महक गुप्ता ने बताया कि 12वीं के बाद इस परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए उसने सीकर स्थित सीएलसी कोचिंग संस्था से तैयारी भी की है। उन्होंने अपनी इस सफलता का श्रेय दादा-दादी, पिता नरेश गुप्ता, माता व गुरुजनों को दिया है। महक ने बताया कि उसकी माता उसे हमेशा हौसला देती रहती थी। परिवार के सदस्यों व गुरुजनों के सहयोग से ही वह आज यह सफलता प्राप्त कर पाई है।

बनना चाहती है डॉक्टर

जब महक से पूछा गया कि वह डॉक्टर क्यों बनना चाहती है तो उसने बताया कि उसके दादा जो कि गौ सेवक के साथ-साथ सामाजिक व धार्मिक प्रवृत्ति के व्यक्ति हैं। उन्हीं से शिक्षा मिली की इंसान को मानव सेवा अवश्य करनी चाहिए और मानव सेवा करने के लिए उसे डॉक्टर से अच्छा कोई पेशा नहीं लगा। इसलिए उसने डॉक्टरी लाइन ही चुनी है। इस दौरान उन्होंने नीट परीक्षा की तैयारी करने वाले विद्यार्थियों के लिए कहा कि निरंतर मेहनत ही एकमात्र सफलता की कुंजी है। आप पूरे समर्पण से लगातार मेहनत करते रहेंगे तो कोई भी सफलता आपसे दूर नहीं है। महक ने बताया कि इस मेहनत के लिए उसने लगभग 10 से 14 घंटे रोजाना पढ़ाई की है और इस पढ़ाई के दौरान उसके हॉस्टल की वार्डन सरोज देवी ने उसे इतना मोटिवेट किया कि उसने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा तथा आज इस मुकाम पर पहुंची है। महक ने बताया कि वह एमबीबीएस करने के बाद कार्डियोलॉजिस्ट बनना चाहती है।

इन लोगों ने दी बधाई

इस उपलब्धि पर डॉ. दीपक वत्स, सवेरा स्वयंसेवी संस्था के प्रदेशाध्यक्ष मनोज गौतम, प्राचार्य दिलबाग सिंह, प्रवक्ता स्वतंत्र कुमार, प्राचार्य सुनील खुडानियां, प्रवक्ता राहुल, लक्ष्मण सिंह तंवर,गोकुल शास्त्री, नरेश नंबरदार, शिक्षाविद शशि कुमार जावा, अमर सिंह खुडॉना, विष्णु तंवर पाली, मास्टर कैलाश पाली, डॉ. सुनीता मित्तल, कैलाश यादव, मास्टर मदन सिंह, मास्टर सुनीरज सहित गांव व क्षेत्र के अनेक गणमान्य लोगों ने उनके पिता और दादा को बधाई दी है।

ये भी पढ़ें : भारत-पाक क्रिकेट मैच पर सट्टा लगाते 3 गिरफ्तार

ये भी पढ़ें : निगम की टीमों ने कई थोक विक्रेताओं व दुकानदारों पर की छापेमारी

ये भी पढ़ें : डेंगू ने अपने पांव पसारना शुरू कर दिया हैं, डेंगू के 7 पॉजिटिव मामले

ये भी पढ़ें : कुपोषण मुक्त भारत के सपने को साकार करने के लिए राष्ट्रीय पोषण माह अभियान को बनाएं जन आंदोलन

ये भी पढ़ें : पुलिस अधीक्षक ने दिया आमजन के लिए संदेश

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular