Homeहरियाणामहेंद्रगढ़मुख्यमंत्री मनोहर लाल 21 को करेंगे बागवानी अनुसंधान केंद्र का शिलान्यास: कृषि...

मुख्यमंत्री मनोहर लाल 21 को करेंगे बागवानी अनुसंधान केंद्र का शिलान्यास: कृषि मंत्री जेपी दलाल

  • बागवानी से बदलेगी रेतीले इलाके की काया : जेपी दलाल
  • दक्षिण हरियाणा के लिए अनुपम सौगात होगी क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्र : कृषि मंत्री जेपी दलाल

नीरज कौशिक, Mahendragarh News:
प्रदेश के कृषि मंत्री जेपी दलाल ने आज सतनाली में आयोजित समारोह में आगामी 21 अगस्त को भिवानी जिले के उपमंडल लोहारू के गांव खरखड़ी में होने वाले क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्र का शिलान्यास के लिए क्षेत्र की जनता को निमंत्रण दिया। इस मौके पर पूर्व शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा भी मौजूद थे।

21 अगस्त को मुख्यमंत्री संगोष्ठी में हिस्सा लेंगे

मंत्री जेपी दलाल ने बताया कि आगामी 21 अगस्त को मुख्यमंत्री मनोहर लाल भिवानी जिले के गांव खरखड़ी में बागवानी केंद्र का शिलान्यास करेंगे तथा बागवानी फसलों पर आयोजित होने वाली संगोष्ठी में हिस्सा लेंगे। इसके साथ ही मुख्यमंत्री लाला लाजपत राय पशुचिकित्सा एवं पशुविज्ञान विश्वविद्यालय के हरियाणा पशुविज्ञान केंद्र बहल का भी शिलान्यास करेंगे। उन्होंने इस शिलान्यास कार्यक्रम में क्षेत्र के अधिक से अधिक लोगों को पहुंचने का आह्वान किया। इस बागवानी केंद्र के बनने से इस इलाके के लोगों को बागवानी के क्षेत्र में काफी फायदा होगा।

भौगोलिक परिस्थितियों से चिन्हित

Chief Minister will Lay the Foundation Stone of Horticulture Research Center
Chief Minister will Lay the Foundation Stone of Horticulture Research Center

यह क्षेत्र अत्यधिक भौगोलिक परिस्थितियों से चिन्हित है, जो बेर, आंवला, अनार, नींबू, लसोड़ा, खजूर, टींट आदि फलों व प्याज, बेल वाली फसलें, खीरा, आलूवर्गीय आदि सब्जियों के उत्पादन के लिए बहुत अनुकूल है। इनके अलावा मसाले जैसे लहसुन, हल्दी, मिर्च और मसाले जैसे जीरा, धनिया, सौंफ, मेथी आदि की भी इस क्षेत्र में अच्छी पैदावार ली जा सकती है।

सभी विषयों पर अनुसंधान कार्य होगा

उन्होंने बताया कि क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्र, खरकड़ी में बागवानी उत्पादन से संबंधित सभी विषयों पर अनुसंधान कार्य होगा। इसमें देश व विदेश की सभी जगहों पर उपलब्ध फलों, सब्जियों, औषधीय और सुगंधित पौधों, मसालों आदि की किस्मों का संग्रह भी शामिल होगा। फलों, सब्जियों, औषधीय व सुगंधित पौधों, मसालों आदि की उन्नत व संकर किस्मों का विकास जो कीटों और रोगों के प्रतिरोधी पर कार्य होगा। यह क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्र दक्षिण हरियाणा की बागवानी की प्रगति में मील का पत्थर साबित होगा तथा किसान यहां से तकनीकी ज्ञान लेकर अपनी आय को दोगुनी कर सकेंगे। यहां पर किसानों को उच्च गुणवत्ता वाले पौधे व बीज उपलब्ध होंगे तथा औषधीय पौधों पर विशेष कार्य किया जाएगा।

इस मौके पर उपस्थित

इस मौके पर देवेंद्र यादव खातोद, अमित मिश्रा, अमित माधोगढ़, पार्षद देवेंद्र, पार्षद सोनू, पार्षद निखिल तनेजा, सतवीर सिंह व दिनेश खेरवाल के अलावा अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular