Homeहरियाणामहेंद्रगढ़हरियाणा पशु विज्ञान केंद्र द्वारा पशुपालकों के लिए आयोजित किया गया कैंप

हरियाणा पशु विज्ञान केंद्र द्वारा पशुपालकों के लिए आयोजित किया गया कैंप

नीरज कौशिक, Mahendragarh News:
लुवास यूनिवर्सिटी हिसार के आजादी के अमृत महोत्सव के कार्यक्रमों की श्रंखला में हरियाणा पशु विज्ञान केंद्र, महेंद्रगढ़ द्वारा ग्राम मंडलाना में खनिज मिश्रण हेतु जागरूकता कैंप का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन डॉ. रमेश क्षेत्रीय निदेशक के दिशा निर्देशन में डॉ. देवेन्द्र सिंह, वैज्ञानिक व डॉ. मधुसुदन पशु चिकित्सक द्वारा किया गया।

खनिज मिश्रण कैंप

कैंप में पशुपालकों को खनिज मिश्रण के महत्व के बारे में बताया गया व पशुपालकों को लुवास यूनिवर्सिटी के रिसर्च द्वारा निर्मित खनिज मिश्रण दिया गया। वैज्ञानिकों ने बताया की लुवास यूनिवर्सिटी के मिनरल मिक्सचर को रोजाना 50-100 ग्राम खिलाया जाना चाहिए, जिससे पशुओं के दूध उत्पादन में बढोतरी होती हैं, गर्भधारण व प्रजनन सम्बन्धी समस्याओं एवं पशु के शरीर में खनिजों जैसे कॉपर, लोहा, जस्ता, कैल्शियम फोस्फोरस इत्यादि में लाभदायक हैं।

किसान गोष्ठी का भी आयोजन

कार्यक्रम के दौरान किसान गोष्ठी का भी आयोजन किया गया जिसमे डॉ. देवेन्द्र सिंह ने किसानो को भारत सरकार की हर घर तिरंगा योजना के प्रति भी प्रोत्साहित किया गया पशुपालकों को आधुनिक डेयेरी पालन के गुर बताये गये जिसमे संतुलित आहार, गर्भावस्था में पशुओं की आहार प्रबंधन, कृत्रिम गर्भाधारण के लाभ, टीकाकरण के महत्व आदि शामिल थे। इस कैंप में 76 किसानों ने भाग लिया।

पशुओं के लिए आवश्यक सभी खनिज 

Camp organized by Haryana Animal Science Center
Camp organized by Haryana Animal Science Center

कार्यक्रम में डॉ. देवेन्द्र सिंह ने बताया की खनिज मिश्रण में पशुओं के शरीर के लिए आवश्यक सभी खनिज जैसे कैल्शियम, फॉस्फोरस, मग्निसियम, जिंक आदि सही मात्रा में उपलब्ध हैं, जो पशुओं को खिलाने से उनके शरीर में सभी खनिजों की कमी को दूर करता है।

दूध में सभी खनिज मौजूद होते हैं जो पशु के शरीर से दूध में जाते हैं, ऐसे में अधिक दूध देने वाले पशुओं में यदि खान-पान से खनिजों आपूर्ति पूरी नहीं होती व रोजाना खनिज मिश्रण नहीं खिलाया जाता तो पशुओं में अनेक समस्याएं पैदा हो जाती हैं। दक्षिण हरियाणा क्षेत्र में पानी की कमी के कारण जहां पशुओं के लिए हरे चारे की इतनी कमी हैं वहां खनिज मिश्रण का और भी महत्त्व हो जाता है।

ये भी पढ़ें : यादव धर्मशाला में आयोजित शिविर में 182 मरीजों के नेत्रों की हुई जांच

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular