Homeहरियाणामहेंद्रगढ़देश व समाज के विकास में सोशल मीडिया का महत्वपूर्ण योगदान: डॉ....

देश व समाज के विकास में सोशल मीडिया का महत्वपूर्ण योगदान: डॉ. बिजेंद्र कुमार

नीरज कौशिक, महेंद्रगढ़:
देश व समाज के विकास में सोशल मीडिया की महत्वपूर्ण भूमिका है। सोशल मीडिया के कारण देश व समाज के बारे में लोगों की जागरूकता बढ़ी है जिसका सीधा फायदा लोगों को हो रहा है। देश में सोशल मीडिया के प्रयोग में भारी बढ़ोतरी हुई है।

समाज के विकास में सोशल मीडिया की भूमिका महत्वपूर्ण

मोबाइल कनेक्टिविटी के कारण अधिकतर लोग सोशल मीडिया का प्रयोग कर रहे हैं। यह विचार दिल्ली विश्वविद्यालय के डॉ. भीमराव अम्बेडकर कालेज के पत्रकारिता विभाग में प्राध्यापक डॉ. बिजेन्द्र कुमार ने हरियाणा केंद्रीय विश्वविद्यालय (हकेवि), महेंद्रगढ़ में व्याख्यान को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. टंकेश्वर कुमार ने व्याख्यान के विषय को समसामयिक बताते हुए कहा कि इस तरह के आयोजनों से विद्यार्थी अवश्य ही लाभांवित होंगे। विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग द्वारा सोशल मीडिया की विकास संचार में भूमिका विषय पर आयोजित व्याख्यान को संबोधित करते हुए डॉ. बिजेंद्र कुमार ने कहा कि देश व समाज के विकास में सोशल मीडिया की भूमिका महत्वपूर्ण है। मोबाइल कनेक्टिविटी के कारण अधिकतर लोग सोशल मीडिया का प्रयोग कर रहे हैं। भारत जैसे देश में इतनी बड़ी संख्या में लोगों के साथ एक साथ संपर्क करने व उन्हें सरकार की योजनाओं व कार्यक्रमों की जानकारी पहुंचाना आसान हो गया है। लोग चूंकि सोशल मीडिया से जुड़ें हुए हैं इसलिए सरकारों को भी सोशल मीडिया पर पहुंचना जरूरी हो गया है।

सोशल मीडिया विकासात्मक संचार में भी सक्रिय भूमिका

उन्होंने भारत सरकार के कईं मंत्रालयों में हुई घटनाओं का वर्णन करते हुए बताया कि किस तरह से सरकार सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों को दैनिक समस्याओं का हल कर रही है। उन्होंने कहा कि पत्रकारिता के विद्यार्थियों को सोशल मीडिया का प्रयोग लोगों को जागरूक करने व उनके जीवन को बेहतर बनाने के लिए होना चाहिए। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया विकासात्मक संचार में भी सक्रिय भूमिका निभा रहा है। किंतु इसके सकारात्मक एवं नकारात्मक दोनों पहलू हैं जिन पर नियमन की आवश्यकता है। डॉ. बिजेन्द्र कुमार ने आजादी से पूर्व एवं वर्तमान समय में मीडिया की विकास में भूमिका पर चर्चा की। उन्होने बताया कि आजादी मिलने से पहले पत्रकारिता मुख्यतः भारत की अर्थव्यवस्था की दशा-दिशा के इर्द-गिर्द होती थी एवं स्वतंत्रता के बाद पत्रकारिता का मुख्य उददेश्य सरकारी नीतियों के बारे में जन-जन तक सूचना पहुंचाना था। परन्तु आज के समय में सोशल मीडिया के जरिए आमजन सरकार तक परस्पर संवाद भी कर पा रहे हैं। विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. अशोक कुमार ने मुख्य वक्ता डॉ. बिजेन्द्र कुमार का विश्वविद्यालय में स्वागत करते हुए कहा कि आज के समय में सोशल मीडिया विकासात्मक संचार के लिए बडा उपयोगी एवं सशक्त माध्यम है। इसकी सबसे बड़ी ताकत इसका यूजर है। यह यूजर पर ही निर्भर करता है कि वह इस मंच का किस तरह से प्रयोग करता है। भारत जैसे देश के सामाजिक एवं आर्थिक विकास में सोशल मीडिया की महत्वपूर्ण भूमिका है।

सोशल मीडिया का सही उपयोग है तो यही सही अथों में विकास का एक बड़ा माध्यम साबित हो सकता है। भारत जैसे विविध देश व उसके वर्ग को जोड़ने में सोशल मीडिया की अहम भूमिका है। आज किसान से लेकर कर्मचारी, मजदूर, व्यापारी, उद्यमशील सभी लोग सोशल मीडिया का प्रयोग अपने जीवन व व्यापार को बेहतर करने में प्रयोग कर रहे हैं। पत्रकारिता के विद्यार्थियों को चाहिए कि वे सोशल मीडिया को उद्यमशीलता के नए माध्यम के रूप में देखे। भविष्य में देश को यूटयूबर व सोशल मीडिया प्रबंधकों की जरूरत है। इसके लिए उन्हें खुद को तैयार करने की जरूरत है।

इस मौके पर विभाग के सभी विद्यार्थी मौजूद रहे

इस मौके पर इस व्याख्यान के संचालक डॉ. नीरज करन सिंह ने उनका आभार प्रकट किया। इस अवसर पर डॉ. पंकज कुमार, डॉ. सुरेंद्र, आलेख नायक, डॉ. भारती बत्रा, गौरव व विभाग के सभी विद्यार्थी मौजूद थे।

ये भी पढ़ें: हाई कोर्ट के आदेशों पर किसानों ने खोला NH44

ये भी पढ़ें: एलआईसी, चण्डीगढ़ मण्डल ने गुरू का लंगर आई अस्पताल को भेंट की मोबाइल एम्बुलेंस

ये भी पढ़ें: प्रकृति व प्राकृतिक संसाधनों को नुकसान हुआ तो मानवता पर खतरा: उपायुक्त

 Connect With Us: Twitter Facebook

 

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular