Homeहरियाणामहेंद्रगढ़पीएलपीए तथा अरावली की जमीन में वन क्षेत्र तैयार किया जाएगा

पीएलपीए तथा अरावली की जमीन में वन क्षेत्र तैयार किया जाएगा

  • जिला की 9 हजार हेक्टेयर को चिन्हित करने के निर्देश
  • योजना में राज्य के 5 जिलों को किया शामिल
  • दो दिन के अंदर सूची उपलब्ध करवाएं पंचायत अधिकारी : उपायुक्त

नीरज कौशिक, महेंद्रगढ़:
भारत सरकार के निर्देश पर पंजाब लैंड प्रिजर्वेशन एक्ट की जमीन तथा अरावली के साथ लगती जमीन में वन क्षेत्र बढ़ाने पर विशेष फोकस किया जाएगा। इस योजना में हरियाणा के 5 जिलों को शामिल किया गया है। ऐसे में सभी पंचायत अधिकारी दो दिन के अंदर अंदर जिला की इस तरह की सभी जमीन की सूची उपलब्ध करवाएं। यह निर्देश उपायुक्त डॉ. जयकृष्ण आभीर ने आज वन, राजस्व तथा पंचायत विभाग के अधिकारियों की बैठक में दिए।

Forest area will be prepared in PLPA and Aravalli land
Forest area will be prepared in PLPA and Aravalli land

उन्होंने कहा कि लगातार हो रहे विकास कार्यों के कारण वन क्षेत्र को नहीं घटने देना है। विकास कार्यों के कारण पर्यावरण को जितनी भी क्षति होती है उसकी भरपाई हर हाल में की जानी है। इसी उद्देश्य से सरकार ने यह फैसला किया है। जिला महेंद्रगढ़ में इसके लिए 9 हजार हेक्टेयर जमीन को चिन्हित किया जाना है। इस जमीन में इस तरह से वन क्षेत्र बढ़ाया जाएगा कि लगातार पैच बने ताकि अधिक से अधिक वन क्षेत्र एक साथ दिखाई दे।

उन्होंने कहा कि पंचायत विभाग के अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि 2 दिन के अंदर अंदर जमीन की सूची राजस्व विभाग से वेरीफाई करवा कर भिजवाए ताकि सरकार की सोच के अनुसार आगे की कार्रवाई शुरू की जा सके।

उन्होंने कहा कि सूची तैयार होने के बाद भविष्य में योजनाबद्ध तरीके से पौधारोपण अभियान शुरू किया जाएगा। हरियाणा के गुरुग्राम, रेवाड़ी, नूंह, महेंद्रगढ़ तथा चरखी दादरी जिला को इस योजना में शामिल किया गया है। जल्द से जल्द यह सूची भारत सरकार को भेजी जानी है।

उपायुक्त ने कहा कि इस वन क्षेत्र को बेहतर तरीके से संरक्षित व सुरक्षित किया जाएगा। एक-एक पौधे की पूरी जिम्मेदारी के साथ सुरक्षा की जाएगी। जिस प्रकार से प्रदूषण बढ़ रहा है उसे देखते हुए जरूरी है कि हम अधिक से अधिक मात्रा में वन क्षेत्र को बढ़ाएं। पर्यावरणविदों की इस चिंता का निराकरण करने के लिए सरकार ने फैसला किया है कि पंजाब लैंड प्रिजर्वेशन एक्ट की जमीन तथा अरावली के साथ लगती जमीन में वन क्षेत्र बढ़ाने पर विशेष फोकस किया जाए। उन्होंने कहा कि शुद्ध पर्यावरण के लिए हम सभी को गंभीरता के साथ कार्य करना होगा। सरकार के निर्देश पर इस कार्य को योजनाबद्ध तरीके से पूरा करवाया जाएगा।

इस बैठक में डीएफओ रोहतास सिंह तथा डीडीपीओ वीरेंद्र सिंह के अलावा राजस्व विभाग के अधिकारी भी मौजूद थे।

ये भी पढ़ें :प्रदेस भर के गेस्ट टीचरों ने सरकार की ट्रांसफर नीति के खिलाफ सीएम आवास पर भरी हुंकार

ये भी पढ़ें : एक महिला ने चुनाव नतीजों में रिकॉर्ड तोड़ मत हासिल कर दिखाया अपनी जीत का दम

Connect With Us: Twitter Facebook
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular