Homeहरियाणाकुरुक्षेत्रराष्ट्रीय अवार्ड निशा की स्टोन डस्ट पेंटिंग बन रही आकर्षण का केंद्र

राष्ट्रीय अवार्ड निशा की स्टोन डस्ट पेंटिंग बन रही आकर्षण का केंद्र

इशिका ठाकुर, कुरुक्षेत्र:

अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव कुरुक्षेत्र मे हस्तशिल्प मेले में लकड़ी के फ्रेम पर बनी निशा की स्टोन डस्ट पेंटिंग पर्यटकों को लुभा रही है। मार्बल की कटिंग के दौरान निकलने वाली धूल को एकत्रित करके बनाई गई यह पेंटिंग कभी खराब नहीं होती। इस नई विधा में निशा को 2010 में राष्ट्रीय अवार्ड मिल चुका है। उन्होंने 2010 में विष्णु भगवान के 10 अवतार वाली स्टोन डस्ट पेंटिंग बनाई थी जिसकी प्रदर्शनी उन्होंने चंडीगढ़ ने की थी। उस पेंटिंग को राष्ट्रीय अवार्ड मिला था . निशा ने बताया कि पहले निशा व उनके पति सूरज ग्लास पेंटिंग करते थे। लेकिन बाद में 22 साल पहले उन्होंने स्टोन डस्ट पेंटिंग बनाने की ठानी।

National Award Nisha's stone dust painting is becoming center of attraction
National Award Nisha’s stone dust painting is becoming center of attraction

शुरू में छोटी सी पेंटिंग बनाने में ही उसे महीनों लग गए थे। इसे बनाने के लिए मार्बल की कटिंग में निकलने वाले पाउडर को पहले छाना जाता है। इसके बाद बबूल के गोंद में मिलाकर मेहंदी लगाने वाली कीप में भरकर लकड़ी के फ्रेम पर टेक्स्ट पर लगाकर ड्राइंग की जाती है। इसके बाद आउटलाइन व फिलिंग का काम किया जाता है। इस प्रकार कई बार फिलिंग करने के बाद फाइनल आउटलाइन लगाई जाती है। अंत में इस पर नक्काशी करके फनिशिंग के लिए ऑयल कलर प्रयोग किया जाता है।

उन्होंने बताया कि यह पेंटिंग आउटडोर तथा इंडोर दोनों ही जगह पर रखी जा सकती है। यह कभी भी खराब नहीं होती। अपनी इस विधा के बारे में वह लगातार श्रम बस्ती में महिलाओं को प्रशिक्षण दे रही हैं। उन्हें प्रशिक्षण देकर कौशल विकास के बाद रोजगार के साथ जोड़ा जा रहा है। उन्होंने बताया कि साइज के हिसाब से इस पेंटिंग की कीमत अलग-अलग होती है। यहां पर 400 रूपये से लेकर पांच लाख तक की पेंटिंग मेले में रखी गई है। अगर कोई ग्राहक और भी बड़े प्रेम पर पेंटिंग बनवाना चाहता है तो उसी हिसाब से इसकी कीमत बढ़ती जाती है। ये पेंटिंग प्रदर्शनी में आकर्षक का केन्द्र बनी हुई है।

National Award Nisha's stone dust painting is becoming center of attraction
National Award Nisha’s stone dust painting is becoming center of attraction

उन्होंने बताया कि उनकी बनाई गई यह स्टोन पेंटिंग बहुत ही मजबूत हैं। ये पानी, धूप तथा मिट्टी से खराब नहीं होती। पत्थर का पाउडर वर्षों तक ऐसे ही रहता है। इस पर किया गया ऑयल पेंटिंग इसे और अधिक मजबूत तथा आकर्षक बनाता है। उन्होंने बताया कि शुरू में स्टोन पेंटिंग पर लोगों का विश्वास नहीं था लेकिन अब धीरे-धीरे मार्केट में आने के बाद यह बड़ी-बड़ी कोठियों के ड्राइंग रूम की शोभा बढ़ा रही हैं।

उन्होंने कहा कि वह और उसके पति भारत में सबसे पहले ऐसे आर्टिस्ट है जिनमें देश में पहली बार डस्ट स्टोन पेंटिंग बनाई। जो लोगों को खूब लुभा रही है । हालांकि अंतरराष्ट्रीय गीता मौसम विभाग पहली बार पहुंचे हैं लेकिन लोगों का हादसा रुझान को मिल रहा है । उन्होंने कहा कि देश में जितने भी ऐसे कार्यक्रम होते हैं उन सभी में भाग लेने जाते हैं वहां पर अपनी पेंटिंग को बेचते हैं । उन्होंने कहा कि जो लोग आर्टिस्ट की कला को समझते वह इस पेंटिंग को खरीदते हैं। हालांकि इसका थोड़ा मूल्य दूसरी पेंटिंग से ज्यादा होता है लेकिन यह पेंटिंग दूसरी पेंटिंग से काफी आकर्षित करने वाली होती है।

ये भी पढ़ें : शिल्पकारों की हस्तशिल्प कला बयां कर रही है जीवित होने की गाथा

ये भी पढ़ें : विवाह पंजीकरण के बाद मिलेगी शगुन की राशि : राहुल हुड्डा

ये भी पढ़ें : द्वितीय जिला स्तरीय द्वंद्व प्रतियोगिता, बाल भवन ताई कवान्डो प्रशिक्षण केन्द्र की ओर से

ये भी पढ़ें : सैनिक स्कूल में खेल दिवस का आयोजन

Connect With Us: Twitter Facebook
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular