HomeहरियाणाकरनालMC Inspected the Drain Site: निगमायुक्त नरेश नरवाल ने किया बरसाती पानी...

MC Inspected the Drain Site: निगमायुक्त नरेश नरवाल ने किया बरसाती पानी निकासी नाले की साईट का निरीक्षण

380 मीटर लम्बाई तक नाला होगा चौड़ा MC Inspected the Drain Site
पार्कों का निरीक्षण कर ओएनएम का टैण्डर करने के दिए निर्देश MC Inspected the Drain Site

प्रवीण वालिया, करनाल :

MC Inspected the Drain Site: नगर निगम आयुक्त नरेश नरवाल ने सोमवार को शहर की स्वच्छता और जन सुविधाओं को लेकर कई जगहों की विजिट की। दौरे में उनके साथ वरिष्ठï उप महापौर राजेश अग्घी, कार्यकारी अभियंता अक्षय भारद्वाज, मोनिका शर्मा व नरेश त्यागी, एई सुनील भल्ला व मदन मोहन गर्ग, स्वच्छता अधिकारी महावीर सोढी तथा जेई प्रदीप कुमार भी थे।

Read Also: Rohtak MLA Bharat Bhushan Batra: विधानसभा में फिर गूंजा रोहतक के बाजारों के शिफ्टिंग का मामला

राम नगर स्थित बरसाती नाले की साईट विजिट की MC Inspected the Drain Site

निगमायुक्त ने सबसे पहले राम नगर एरिया से गुजरते बरसाती पानी की निकासी के पुराने नाले की एक जगह पर किए जा रहे साफ-सफाई के कार्य का निरीक्षण किया और निर्देश दिए कि 3 महीने में सफाई का कार्य मुकम्मल करें। सफाई के दौरान उन्होंने नाले में मौजूद गोबर को देखकर स्वच्छता अधिकारी महावीर सोढी को निर्देश दिए कि डेयरियों से निकलने वाला गोबर न केवल बड़े नाले बल्कि शहर के अंदरूनी सीवरों को भी चौक कर रहा है।(MC Inspected the Drain Site) इस समस्या से निपटने के लिए डेयरी संचालकों के साथ सख्ती करें, जिस भी डेयरी का गोबर नाले या सीवरेज में जाए, उसका 5 हजार रूपये का चालान करें और उसे खुद ही सफाई करने के लिए कहें। निगमायुक्त ने बताया कि काछवा रोड से शुरू होकर 380 मीटर लम्बाई तक नाले को चौड़ा करके उस पर आर.सी.सी. स्लैब डाली जाएगी। इससे बारिश के दिनो में होने वाले जल निकासी समूचित हो सकेगी।

Read Also: DHFWS Invites Applications for Various Posts डीएचएफडब्ल्यूएस ने विभिन्न पदों के लिए निकालें आवेदन

पार्क में झूले और जिम उपकरण अच्छी हालत में नहीं MC Inspected the Drain Site

इसके पश्चात उन्होंने अग्घी पार्क का निरीक्षण किया। पार्क में बैठने के बैंच, झूले और जिम उपकरण अच्छी हालत में नहीं थे। निगमायुक्त ने एक्सईएन मोनिका शर्मा को निर्देश देते कहा कि पब्लिक पार्क जनता की सहूलियत के लिए होते हैं। पार्कों में जन सामान्य की ज्यादा मूवमेंट रहती है और वे ऐसी जगहों पर जाकर सुकून महसूस करते हैं। इसे देखते पार्क में सभी मरम्मत योग्य चीजों को दुरूस्त करवाएं। इसके अतिरिक्त ऋतु के अनुसार पौधे लगाए जाएं, ताकि पार्क सुंदर और हरा-भरा दिखाई दे। सम्बंधित ठेकेदार पार्क की मेन्टेनेन्स को लेकर ठीक से काम नहीं कर रहा, तो उसकी प्रतिभूति जब्त कर लें तथा दूसरे ठेकेदार को काम दे दें।

Read Also : Apply for BSNL Apprentice Posts by 23 March बीएसएनएल अपरेंटिस पदों के लिए 23 मार्च तक करें आवेदन

विवेकानंद पार्क का भी किया निरीक्षण MC Inspected the Drain Site

निगमायुक्त ने डब्ल्यू.जे.सी. काछवा पुल के साथ विकसित किए गए विवेकानंद पार्क का भी निरीक्षण किया। वर्षों पहले यह पुल पर चडऩे वाला रास्ता था और इसके आस-पास गंदगी का साम्राज्य रहता था। प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने राम नगर एरिया के लोगों की मांग पर यहां खूबसूरत पार्क विकसित करवाया। निरीक्षण के दौरान निगमायुक्त ने पार्क से गुजरते से एक रास्ते को देखा।

MC Inspected the Drain Siteउन्होंने कार्यकारी अभियंता नरेश त्यागी को निर्देश दिए कि इस पर खूबसूरत घास लगाई जाए। इसके अतिरिक्त पार्क के प्रवेश स्थल और इसमें मौजूद शौचालयों का रख-रखाव भी सुनिश्चित करें। पार्कों के निरीक्षण के दौरान निगमायुक्त ने अधिकारियों से कहा कि कई जगह आर.डब्ल्यू.ए. भी पार्कों का अच्छा रख-रखाव कर रही हैं, यह काम उनसे भी करवा सकते हैं, अन्यथा पार्कों के रख-रखाव के लिए ओ एन एम का टैण्डर लगाएं, ताकि पार्कों की खूबसूरती बनी रहे। उन्होंने कहा कि शहर में जो पार्क हैं, वह रख-रखाव की दृष्टिï से सही-सलामत रहने चाहिएं। उन्होंने निर्देश दिए कि पार्कों में लाईट, फाउंटेन और सिविल वर्क की निगरानी के लिए निगम के जेई नियमित ड्ïयूटी करेंगे, जहां-जहां भी फाउंटेन लगें है, वह सभी चालू हालत में रहने चाहिएं।

इंटरलॉकिंग टाईलों के कार्य का किया निरीक्षण MC Inspected the Drain Site

निगमायुक्त ने इसके पश्चात सैक्टर-32 के साथ लगती एक जगह पर 800 फुट के रिवेन्यू रास्ते पर इंटरलॉकिंग पेवर ब्लॉक के कार्य का निरीक्षण किया। यह डी-प्लान से करवाया जा रहा है तथा इस पर अनुमानित साढे 7 लाख रूपये की राशि खर्च होगी। निरीक्षण के दौरान निगमायुक्त वर्कमैनशिप से संतुष्टï नहीं हुए। इसके लिए उन्होंने एक जेई को भी फटकारा और कहा कि पुराने ढर्रे पर कोई भी काम न हो, इंजीनियर की सोच से और क्वालिटी के कार्य हों। उन्होंने कहा कि डव्ल्पमेंट के कार्यों के रैंडम सैम्पल लिए जाएं, इसके लिए कार्यकारी अभियंता फील्ड में जाते रहें। सैम्पल टैस्टिंग की सुविधा पुराने निगम कार्यालय में मौजूद है, उसका उपयोग करें। इस तरह के कार्यों में टाईले टूटी-फूटी हों या सड़क का लेवल ठीक न हो, उन पर दोबारा काम कर दुरूस्त करें।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular